scorecardresearch
 

हरियाणाः 2024 चुनाव की रणनीति पर चिंतन करेगी कांग्रेस, विवेक बंसल और कुलदीप बिश्नोई को न्यौता नहीं

हरियाणा में कांग्रेस अभी से ही चुनावी मोड में आती नजर आ रही है. हरियाणा कांग्रेस ने 2024 चुनाव को लेकर रणनीति, संगठन की मजबूती पर मंथन के लिए तीन दिन के चिंतन शिविर का आयोजन किया है जिसकी शुरुआत आज से पंचकूला में हो रही है. इस चिंतन शिविर के लिए हरियाणा कांग्रेस के प्रभारी विवेक बंसल और कुलदीप बिश्नोई को न्यौता नहीं दिया गया है.

X
कुलदीप बिश्नोई (फाइल फोटोः फेसबुक)
कुलदीप बिश्नोई (फाइल फोटोः फेसबुक)

कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी नेशनल हेराल्ड केस में प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) के सवालों का सामना कर रही हैं तो वहीं दूसरी तरफ पार्टी संगठन के मोर्चे पर भी एक्टिव होती नजर आ रही है. कांग्रेस अभी से ही 2024 के चुनाव में भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) के नेतृत्व वाले राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (एनडीए) को पटखनी देने के लिए रणनीति बनाने में भी जुट गई है.

कांग्रेस इसके लिए अब चिंतन शिविर के जरिये मंथन कर रही है. राजस्थान के उदयपुर में पिछले दिनों हुए राष्ट्रीय चिंतन शिविर के बाद अब हरियाणा कांग्रेस ने चिंतन शिविर आयोजित किया है जिसकी शुरुआत आज यानी 1 अगस्त से हरियाणा के पंचकूला में होगी. पंचकूला के मोरनी रोड स्थित एक होटल में आयोजित ये शिविर तीन दिन का होगा.

हरियाणा कांग्रेस के इस चिंतन शिविर में शामिल होने के लिए सभी मौजूदा और पूर्व सांसदों, विधायकों को निमंत्रण दिया गया है. राज्यसभा चुनाव में अजय माकन की हार के बाद से विवादों में चल रहे हरियाणा कांग्रेस के प्रभारी विवेक बंसल और बागी विधायक कुलदीप बिश्नोई को इस शिविर में के लिए निमंत्रण नहीं दिया गया है.

इन नेताओं को दिया गया निमंत्रण

हरियाणा कांग्रेस के अध्यक्ष उदयभान ने चिंतन शिविर के लिए कार्यकारी प्रदेश अध्यक्ष, प्रवक्ता के साथ ही पार्टी के उन राष्ट्रीय पदाधिकारियों को भी निमंत्रण भेजा है, जो हरियाणा से आते हैं. इस चिंतन शिविर के लिए कांग्रेस के राष्ट्रीय सचिव, महासचिव, राष्ट्रीय कार्यकारिणी के सदस्यों को भी निमंत्रण दिया गया है जिनमें रणदीप सुरजेवाला और कुमारी सैलजा भी शामिल हैं. चिंतन शिविर के लिए पिछले लोकसभा और विधानसभा चुनाव में पार्टी के उम्मीदवार रहे नेताओं, संगठन के पदाधिकारियों, विभाग और प्रकोष्ठ के प्रदेश प्रमुख को भी निमंत्रण दिया गया है. 

क्या है एजेंडा

हरियाणा कांग्रेस के चिंतन शिविर में संगठन की मजबूती पर मंथन होना है. इसके अलावा हरियाणा कांग्रेस के चिंतन शिविर में 9 से 15 अगस्त तक हर जिले में 75 किलोमीटर लंबी पदयात्रा को लेकर भी कार्यक्रम की रूपरेखा तय की जानी है. 2 अक्टूबर को कन्याकुमारी से शुरू होकर कश्मीर तक जाने वाली कांग्रेस की 3500 किलोमीटर लंबी भारत जोड़ो यात्रा के हरियाणा में रूट प्लान पर भी चिंतन शिविर में मंथन होगा. 2024 के चुनाव को लेकर रणनीति पर भी कांग्रेस के नेता इस शिविर में चिंतन करेंगे.

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें