scorecardresearch
 

गुजरात में गृह मंत्री अमित शाह ने पतंगबाजी में आजमाए हाथ

गृह मंत्री अमित शाह ने मंगलवार को मकर संक्रांति पर गुजरात के अहमदाबाद में आयोजित उत्तरायण कार्यक्रम में हिस्सा लिया. इस मौके पर उन्होंने पतंग भी उड़ाई.

पतंग उड़ाते गृह मंत्री अमित शाह (फोटो-ANI) पतंग उड़ाते गृह मंत्री अमित शाह (फोटो-ANI)

  • अमित शाह ने उत्तरायण कार्यक्रम में भाग लिया
  • गुजरात में 600 करोड़ तक पहुंचा पतंग व्यवसाय

गुजरात का मशहूर अंतरराष्ट्रीय पतंग महोत्सव मंगलवार को धूमधाम से मनाया गया. गुजरात सरकार ने इस महोत्सव के जरिये पतंग उद्योग में सुधार और उसके उत्थान के लिए कई अहम कदम उठाए हैं. जबकि केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने अहमदाबाद में एक उत्तरायण कार्यक्रम में भाग लिया और उन्होंने यहां पतंग भी उड़ाई.

अमित शाह ने मंगलवार को मकर संक्रांति पर गुजरात के अहमदाबाद में आयोजित उत्तरायण कार्यक्रम में हिस्सा लिया. इस मौके पर उन्होंने पतंग भी उड़ाई. उत्तरायण कार्यक्रम में अमित शाह के साथ कई अन्य नेताओं ने भी हिस्सा लिया. इससे पहले गुजरात के मुख्यमंत्री विजय रुपाणी ने अहमदाबाद में मंगलवार को 31वें अंतरराष्ट्रीय पतंगोत्सव का उद्घाटन किया और बताया कि राज्य में पतंगों का कारोबार 600 करोड़ रुपये तक पहुंच गया है.

मुख्यमंत्री रुपाणी ने कहा कि पतंग का 20 करोड़ रुपये का व्यापार आज सरकार के प्रोत्साहन से राज्य में 600 करोड़ रुपये तक पहुंच गया है.

साबरमती नदी किनारे रिवरफ्रंट पर आयोजित पतंगोत्सव में 40 से अधिक देशों के 150 और 12 राज्यों के 115 पतंगबाज हिस्सा लिया. इसमें विभिन्न प्रकार की रंगबिरंगी पतंगों का आकर्षण रहा.

ये भी पढ़ें: गया में CAA पर बोल रहे थे सीएम योगी, आसमान में दिखे काले गुब्बारे

बता दें कि गुजरात राज्य में रहने वाले कुछ परिवार तो ऐसे हैं जो, पूरी तरह से इसी पतंग व्यवसाय पर आश्रित हैं. पतंग उत्सव से कई महीने पहले ये परिवार पतंगों का निर्माण शुरू कर देते हैं. साल 2012 के एक सर्वे के मुताबिक में पतंग निर्माण उद्योग 175 करोड़ का था, इससे जुड़े 30,000 लोगों को रोजगार मिला. बाद में धीरे-धीरे ये तादाद बढ़ती ही गई जिसके चलते 2017-18 में ये उद्योग 625 करोड़ का हो गया. एक अनुमानित आंकड़े के मुताबिक, लगभग 1,28,000 लोग गुजरात के पतंग उद्योग से जुड़े हुए हैं. इन आंकड़ों के नजरिये से गुजरात का पतंग उद्योग, हिंदुस्तान के कुछ बड़े घरेलू उद्योगों में शुमार होता जा रहा है.

पतंग उद्योग में पूरे देश में गुजरात की 40 फीसदी हिस्सेदारी है और इसमें लगभग 1.28 लाख लोग काम कर रहे हैं. पतंग महोत्सव कई स्थानीय कारीगरों और छोटे व्यापारियों को आगे बढ़ने में मदद कर रहा है. गुजरात सरकार का सफल पतंग महोत्सव निश्चित रूप से विभिन्न तरीकों से स्थानीय अर्थव्यवस्था को बढ़ाता है. इससे जुड़े हुए पतंग निर्माता और व्यापारी खुद इस बात को मानते हैं कि इसके जरिए उनकी आय में इजाफा हुआ है.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें