scorecardresearch
 

कौन मंगा रहा भारत में इतना ड्रग्स? गुजरात पुलिस का बड़ा खुलासा-पंजाब की जेल में चल रहा सिंडिकेट

बीते कुछ समय में गुजरात के बंदरगाहों से बड़ी मात्रा में ड्रग्स की खेप पकड़ी गई हैं. बुधवार को भी भारतीय तटरक्षक बल ने गुजरात एटीएस के साथ मिलकर करीब 200 करोड़ रुपये का ड्रग्स जब्त किया. अब गुजरात पुलिस ने इसे लेकर एक बड़ा खुलासा किया है. पुलिस का दावा है कि ड्रग्स का ये सिंडिकेट पंजाब की जेलों से चल रहा है.

X
मुंद्रा पोर्ट से पकड़ा गया ड्रग्स (फाइल फोटो)
मुंद्रा पोर्ट से पकड़ा गया ड्रग्स (फाइल फोटो)

गुजरात के बंदरगाहों पर बीते कुछ वक्त में बड़े पैमाने पर ड्रग्स पकड़ा गया है. हजारों करोड़ रुपये के इस ड्रग्स का मालिक कौन, कहां से आ रहा ये ड्रग्स, कौन मंगा रहा इन्हें भारत में...लंबे समय से पुलिस के लिए गुत्थी बने ये सवाल अब खुल रहे हैं. गुजरात पुलिस ने बुधवार को दावा किया कि ड्रग्स की इन खेप को मंगाने के तरीके में एक निश्चित तौर-तरीका देखा गया है. ड्रग्स का ये सिंडिकेट पंजाब की जेलों से चल रहा है.

ड्रग्स का है पाकिस्तान कनेक्शन

गुजरात पुलिस के डीजीपी आशीष भाटिया ने एक बयान में कहा कि पंजाब की जेलों से कई अहम ड्रग्स सिंडिकेट ऑपरेट हो रहे हैं. अब तक सामने आया है कि अमृतसर जेल, फरीदकोट और कपूरथला से अपराधी इन ड्रग्स सिंडिकेट को ऑपरेट कर रहे हैं. वहीं इन ड्रग्स को पाकिस्तान और अन्य देशों से भारत में मंगाया जा रहा है.

Whatsapp Call बनी जी का जंजाल

गुजरात पुलिस ने बताया कि जेल में बंद अपराधी मोबाइल फोन का इस्तेमाल कर रहे हैं. व्हाट्सएप कॉल के माध्यम ड्रग्स के कंसाइनमेंट (खेप) को भारत में डिलीवर किया जा रहा है.  कुछ महीने पहले गुजरात पुलिस ने मुंद्रा बंदरगाह से ड्रग्स की बड़ी खेप जब्त की थी. ये ड्रग्स कपड़े में बंधे कंटेनरों में पकड़ा गया था. पुलिस का कहना है कि इस मामले में भी आरोपी का लिंक फरीदकोट जेल से पाया गया.

पकड़ा 200 करोड़ का ड्रग्स

बुधवार को भी गुजरात एटीएस और भारतीय तटरक्षक बल ने भारत की समुद्री सीमा के भीतर से 200 करोड़ रुपये का ड्रग्स जब्त किया है. भारतीय तटरक्षक बल (ICG) ने भारतीय समुद्री सीमा से एक पाकिस्तानी नाव जब्त की है. नाव से 40 किलोग्राम ड्रग्स (हेरोइन) बरामद की गई है. अंतरराष्ट्रीय बाजार में इसकी कीमत 200 करोड़ रुपए बताई जा रही है. नाव के साथ चालक दल के 6 लोगों को भी गिरफ्तार किया गया है.

इससे पहले 6 सितंबर को दिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल ने नार्को-टेरर पर बड़ी कार्रवाई की थी. पुलिस ने 1200 करोड़ रुपए की ड्रग्स जब्त की थी. इस ड्रग्स को बेचकर आने वाली रकम का इस्तेमाल हिंदुस्तान के खिलाफ आतंकी गतिविधियों में किया जाना था. 16 अगस्त को ACB के साथ मिलकर मुंबई पुलिस ने करीब 513 किलोग्राम एमडी (मेपेहड्रोन) दवा जब्त की थी. जब्त की गई दवाओं की कीमत अंतरराष्ट्रीय स्तर पर करीब 1,026 करोड़ रुपए थी. एंटी नारकोटिक्स सेल की वर्ली यूनिट ने गुजरात के भरूच में इस ड्रग फैक्ट्री का भंडाफोड़ किया था. यह फैक्ट्री अंकलेश्वर इलाके से चलाई जा रही थी. जबकि गुजरात के मुंद्रा पोर्ट पर पकड़े गए 3000 किलो ड्रग्स के तार गुजरात से लेकर दिल्ली और अफगानिस्तान से लेकर दुबई तक से जुड़े मिले. इस मामले में NIA ने दिल्ली के एक बड़े बिजनेसमैन कबीर तलवार को गिरफ्तार किया था. वह चाणक्यपुरी जैसे पॉश इलाके में सम्राट होटल में Playboy नाम से एक प्राइवेट क्लब चलाता है.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें