scorecardresearch
 

गुजरात चुनाव: नरेश पटेल को कांग्रेस में शामिल करने की मुहिम फेल, राजनीति में आने से इनकार

जिन नरेश पटेल के दम पर कांग्रेस पार्टी पाटीदार समुदाय को अपने पक्ष करने के सपने देख रही थी, कहा जा रहा है कि वे अब राजनीति में ही नहीं आने वाले हैं.

X
नरेश पटेल राजनीति में नहीं आएंगे
नरेश पटेल राजनीति में नहीं आएंगे
स्टोरी हाइलाइट्स
  • सौराष्ट्र की 35 से ज्यादा सीटों पर उनकी भूमिका निर्णायक
  • लेउआ पटेल की तादात गुजरात में अच्छी खासी

गुजरात चुनाव में कांग्रेस पार्टी को एक और बड़ा झटका लगा है. हार्दिक के पार्टी छोड़ने के बाद अब नरेश पटेल को लेकर भी बड़ी खबर सामने आई है. वे राजनीति में एंट्री नहीं लेने वाले हैं. वे खुद को किसी भी दल के साथ नहीं जोड़ने वाले हैं. गुरुवार को इसको लेकर उनकी तरफ से कोई बयान भी जारी किया जा सकता है. लंबे समय से कांग्रेस कोशिश कर रही थी कि नरेश पटेल को पार्टी में शामिल किया जाए, सोनिया गांधी से भी उनकी मुलाकात हो चुकी थी. लेकिन बताया जा रहा है कि उनका मूड बदला है और वे इस बार भी राजनीति में कदम नहीं रखने वाले हैं.

यहां ये जानना भी जरूरी हो जाता है कि नरेश पटेल ने अपने समाज के बीच भी एक सर्वे करवाया था. उस सर्वे में वे यही जानने का प्रयास कर रहे थे कि उन्हें राजनीति में कदम रखना चाहिए या नहीं? कहा जा रहा है कि सर्वे के नतीजों में साफ कर दिया गया कि नरेश पटेल को राजनीति से दूर रहना चाहिए और शायद इसलिए ही वे कुछ दिनों में इसको लेकर औपचारिक ऐलान भी कर सकते हैं. अगर वे ऐसा ऐलान कर देते हैं तो कांग्रेस के लिए चुनाव के बीच ये एक और बड़ा झटका साबित हो सकता है. 

नरेश पटेल सिर्फ बड़े पाटीदार नेता नहीं हैं, बल्कि सौराष्ट्र की 35 से ज्यादा सीटों पर उनकी भूमिका निर्णायक रहती है. अगर वे चुनाव के दौरान कांग्रेस के साथ चले जाते तो पार्टी को पाटीदार वोटों का बड़ा हिस्सा मिल सकता था. वैसे भी खुद नरेश लेउआ पटेल हैं जिनकी तादात गुजरात में अच्छी खासी है, ऐसे में उनका किसी भी पार्टी के साथ जुड़ना जमीन पर समीकरण को बदल सकता था. लेकिन 2007, 2012 और 2017 के बाद एक बार फिर उन्होंने लंबे समय तक राजनीतिक एंट्री को लेकर सस्पेंस बनाए रखा और फिर आने से मना कर दिया.

इस बार उनकी राजनीतिक एंट्री ज्यादा संभावित इसलिए मानी जा रही थी क्योंकि उन्होंने कई नेताओं से मुलाकात कर ली थी. वे खुद ऐसी हिंट दे रहे थे कि कांग्रेस में शामिल हो सकते हैं. कांग्रेस पार्टी भी उनकी तमाम शर्तें मानने को तैयार हो चुकी थी. ऐसे में कहा जा रहा था कि वे कांग्रेस का दामन थाम सकते हैं. लेकिन वो राजनीतिक एंट्री संभावित ही रह गई और पाटीदारों को मनाने के लिए कांग्रेस को कोई दूसरा रास्ता खोजना पड़ेगा. वहीं गुरुवार तक ये भी साफ हो जाएगा कि किन कारणों की वजह से नरेश पटेल राजनीति में नहीं आ रहे हैं.


 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें