scorecardresearch
 

क्वारनटीन किए गए 2500 लोगों पर ऐप से रखी जा रही नजर, ड्रोन से हो रही निगरानी

सूरत महानगर पालिका एक ऐप के जरिए क्वारनटीन किए गए लोगों पर नजर रख रहा है. महज 48 घंटे में तैयार किए गए इस ऐप को जीपीएस से भी जोड़ा गया है, जो क्वारनटीन किए गए व्यक्ति की हर मूवमेंट को ट्रैक करता है.

ऐप के जरिए क्वारनटीन किए गए लोगों पर रखी जा रही नजर ऐप के जरिए क्वारनटीन किए गए लोगों पर रखी जा रही नजर

  • सूरत महानगर पालिका के कमिश्नर खुद कर रहे मॉनिटरिंग
  • सोसाइटी के लोगों ने खींची मोदी लक्ष्मण रेखा, नहीं निकल रहे

कोरोना वायरस के तेजी से बढ़ते मामलों को लेकर सरकार ने पूरे देश में 21 दिन का लॉकडाउन किया है. विदेशों से आने वालों या कोरोना वायरस से संक्रमित लोगों के संपर्क में आने वालों को क्वारनटीन किया गया है. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के गृह राज्य गुजरात के सूरत शहर में ही अकेले 2500 से अधिक लोगों को क्वारनटीन किया गया है.

होम क्वारनटीन किए गए लोगों के बाहर निकलकर घूमने की घटनाओं को गंभीरता से लेते हुए सूरत महानगर पालिका ने इनपर नजर रखने के लिए विशेष इंतजाम किए हैं. सूरत महानगर पालिका एक ऐप के जरिए क्वारनटीन किए गए लोगों पर नजर रख रहा है. महज 48 घंटे में तैयार किए गए इस ऐप को जीपीएस से भी जोड़ा गया है, जो क्वारनटीन किए गए व्यक्ति की हर मूवमेंट को ट्रैक करता है. सूरत महानगर पालिका के कमिश्नर बंछानिधिपानी खुद इसकी मॉनिटरिंग कर रहे हैं. इसके लिए महानगर पालिका के कार्यालय में ही कंट्रोल रूम बनाया गया है.

कोरोना पर फुल कवरेज के लि‍ए यहां क्ल‍िक करें

ऐप से रखी जा रही नजर

सूरत महानगर पालिका प्रशासन इस ऐप के जरिए ही क्वारनटीन किए गए लोगों पर नजर रखने के साथ ही जरूरत पड़ने पर मेडिकल या भोजन संबंधी सुविधाएं भी उपलब्ध करा रहा है. प्रशासन ने इसे TTT यानी ट्रेकिंग, टेस्टिंग और ट्रीटमेंट नाम दिया है. बताया जाता है कि क्वारनटीन किए गए लोग अगर प्रशासन की बगैर अनुमति के कहीं आते-जाते हैं, तो इस ऐप के माध्यम से इसकी जानकारी कंट्रोल रूम तक पहुंच जाती है. प्रशासन की ओर से उस व्यक्ति से संपर्क कर घर में ही रहने को कहा जाता है. यदि फिर भी वह निर्देशों का उल्लंघन करता है, तो उसके खिलाफ कार्रवाई की जाती है.

कोरोना कमांडोज़ का हौसला बढ़ाएं और उन्हें शुक्रिया कहें...

वहीं, सूरत के ही पिपलोद इलाके के कृष्णधाम सोसाइटी में लोगों ने मुख्य गेट बंद कर रंगोली बनाई है. रंगोली में मोदी लक्ष्मण रेखा लिखा गया है. इस मोदी लक्ष्मण रेखा को लांघकर सोसाइटी में रहने वाला कोई भी व्यक्ति न घर से बाहर जा रहा, और ना ही कोई बाहर का व्यक्ति सोसाइटी में प्रवेश कर रहा है. गौरतलब है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 21 दिन के लॉकडाउन की घोषणा करते समय लोगों के सुरक्षित रहने का मंत्र बताया था अपने घर में रहना. उन्होंने आह्वान किया था कि हम अपने घर की लक्ष्मण रेखा नहीं लांघेंगे.

इन सबके बीच अब सूरत पुलिस ने भी भीड़ वाले रिहायशी इलाकों को चिह्नित करने का काम शुरू कर दिया है. इन इलाकों पर ड्रोन से नजर रखी जा रही है. ड्रोन से सामने आ रही तस्वीरों के आधार पर उन इलाकों में पुलिस बल भेजा जा रहा है. लॉकडाउन तोड़ अपने घर से बाहर निकलने वालों पर पुलिस ने कार्रवाई भी शुरू कर दी है. गौरतलब है कि पीएम मोदी ने 25 मार्च से 21 दिन तक पूरे देश में लॉकडाउन का ऐलान किया था. बता दें कि देश में कोरोना वायरस के अब तक 700 से अधिक मामले सामने आ चुके हैं.

कोरोना पर aajtak.in का विशेष वॉट्सऐप बुलेटिन डाउनलोड करने के लिए यहां क्लिक करें

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें