scorecardresearch
 

मुंडका अग्निकांड: तीसरी मंजिल से कूद के बचाई जान, रेणू ने सुनाई अपनी कहानी

मुंडका अग्निकांड: तीसरी मंजिल से कूद के बचाई जान, रेणू ने सुनाई अपनी कहानी

दिल्ली में भीषण आग तो बुझा दी गई, लेकिन लोगों की तलाश खत्म नहीं हुई. अब भी लोग अपनों को ढूंढ रहे हैं. कभी वो खाक हुई इमारत के बाहर आते हैं ...तो कभी अस्पताल दर अस्पताल भागते हैं. 27 लोगों की जान चली गई, तो 29 लोगों का अब तक कोई खोज-खबर नहीं है. हादसे के बाद दिल्ली के मुंडका में नेताओं की आवाजाही शुरू हो गई. बयानों की बारिश होने लगी. मुख्यमंत्री आए मुआवजे का एलान कर चले गए. विपक्ष के नेता आए दिल्ली सरकार पर हादसे का ठीकरा फोड़ कर चलते बने, लेकिन क्या वो जबाव दे पाएंगे कि आखिर बिना NOC की इमारत में कैसे काम चल रहा था?

After the accident, the movement of leaders started in Mundka, Delhi. The statements started raining. The Chief Minister came and left after announcing the compensation. The leaders of the opposition came and went on blaming the Delhi government for the accident, but will they be able to answer how the work was going on in the building without NOC?

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें