scorecardresearch
 

तनाव बना रहा दिल्ली के लोगों को डायबीटीज का मरीज

दिल्ली में लोगों का बढ़ता तनाव उन्हें तेजी से टाइप टू डायबीटीज का शिकार बना रहा है. आईसीएमआर के सहयोग से जीटीबी अस्पताल के डाक्टरों ने 3 साल तक की गई एक स्टडी में इसका खुलासा किया है.

दिल्ली में लोगों का बढ़ता तनाव उन्हें तेजी से टाइप टू डायबीटीज का शिकार बना रहा है. आईसीएमआर के सहयोग से जीटीबी अस्पताल के डाक्टरों ने 3 साल तक की गई एक स्टडी में इसका खुलासा किया है.

दिल्ली की लाइफ में लोगों की जिंदगी से अच्‍छा और हेल्‍दी खान-पान लगभग गायब होता जा रहा है. भागदौड़ भरी जिंदगी में एक्सरसाइज के लिए भी कुछ ही लोगों के पास समय है. एक्‍सरसाइज की जगह काम के लगातार बढ़ते तनाव ने ले ली है और लोगों का यही बिगड़ता लाइफस्टाइल, यही तनाव उन्हें तेजी से टाइप टू डायबीटीज का शिकार बना रहा है.

रिसर्च सोसायटी फॉर स्टडी ऑफ डायबीटीज इन इंडिया ने अपनी तीन साल तक चली स्टडी में इसका खुलासा किया है. इस स्टडी में लगभग साढ़े तीन हजार लोगों के साथ बातचीत की गई और इसके रिजल्ट काफी चौकाने वाले थे. साढ़े तीन हजार लोगों में से 500 लोग ऐसे मिले जिन्हें पता ही नहीं था कि कब वे डायबीटीज के मरीज बन गए. 500 लोग वे लिए गए जिन्हें डायबीटीज नहीं थी. इनकी उम्र 20 से 60 साल की बीच थी. रिसर्च के दौरान डायबीटीज के शिकार लोगों से कई तरह के प्रश्‍न बनाकर बातचीत की गई और पता चला कि उनकी पूरी जिंदगी और पिछले एक साल में तनाव देने वाले मामले बहुत ज्यादा थे, जैसे कि किसी के परिवार में किसी परिचित की मौत, एक्सीडेंट, किसी से धोखा मिलना आदि. तनाव देने के ये मामले उन 500 लोगों में ना के बराबर थे जिन्हें डायबीटीज नहीं थी.

इस स्‍टडी को अंजाम देने वाले जीटीबी अस्पताल के एंड्रोकोनोलॉजी विभाग के हेड डॉ एस.वी. मधु ने बताया कि डायबीटीज के मरीजों में दूसरी बात ये पाई गई कि उनमें तनाव सहने की क्षमता भी काफी कम थी और इन मरीजों में स्ट्रेस हारमोन भी ज्यादा पाए गए. डा मधु के अनुसार ये रिसर्च पूरी तरह इस बात को साबित करती है कि तनाव पैनक्रियास के काम करने की क्षमता पर असर डालता है और मरीज को शुगर का मरीज बना देता है.

इस स्‍टडी के बाद डॉक्टर तनाव को झेलने, सेहत पर उसका असर ना होने के तरीकों के बारे में भी स्टडी की शुरुआत कर रहे हैं. इस स्‍टडी इसमें योगासन को प्रमुखता से शामिल किया जा रहा है. ये बात सभी जानते हैं कि काम के बढ़ते तनाव को झेलने के लिए योगासान काफी फायदेमंद बताया गया है. अब डॉक्टर इस बात को वैज्ञानिक तौर साबित करने के लिए एक और स्टडी की तैयारी कर रहे हैं. डायबीटिक स्‍पेशलिस्‍ट डॉ. राजेश चावला ने बताया कि कई योगासन ऐसे हैं जो पैनक्रियास को एक्टिव करने, शुगर को कंट्रोल करने का काम करते हैं और अब रिसर्च के जरिए ये साबित किया जाएगा.

वैसे इसमें कोई दो राय नहीं है कि महानगरों की जिंदगी से सुकून और आराम लगभग गायब ही हो चुका है. इसकी जगह सिर्फ और सिर्फ तनाव ने ले ली है. ये तनाव महानगरों के लोगों को एक नहीं दो नहीं बल्कि कई बीमारियों का शिकार बना रहा है. ऐसे में जरूरी यही है कि हम अपने आप भी अपने तनाव को कम करने, उसे रिलीज करने के लिए कोई ना कोई साधन अपनाएं. योग, डांस, संगीत, पेंटिंग, कुछ ऐसे तरीके हैं जो दिमाग को रिलेक्स करते हैं और तनाव को कम करने में मदद करते हैं.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें