scorecardresearch
 

विधानसभा में पेश हुए कपिल मिश्रा, सीएम केजरीवाल पर लगाया आरोप

दलबदल मसले पर दिल्ली विधानसभा में विधायक कपिल मिश्रा की सुनवाई हुई.

विधायक कपिल मिश्रा (Photo-India Today) विधायक कपिल मिश्रा (Photo-India Today)

दलबदल मसले पर दिल्ली विधानसभा में विधायक कपिल मिश्रा की सुनवाई हुई. विधायक सौरभ भारद्वाज की शिकायत पर स्पीकर रामनिवास गोयल ने कपिल मिश्रा को कारण बताओ नोटिस जारी कर पूछा था कि आखिर क्यों न उनकी सदस्यता रद्द कर दी जाए.

विधानसभा में सुनवाई के बाद कपिल मिश्रा ने कहा, 'आज मैंने अपना जवाब फाइल किया है. दिल्ली विधानसभा में बड़ी अजीब स्थिति थी. 41 पन्नों में से सिर्फ मुझे 10 पेजों का नोटिस दिया गया है. मेरे खिलाफ इल्जाम, तथ्य और गवाह कौन है, यह मुझे नहीं बताया गया.'

'आजतक' से बात करते हुए कपिल मिश्रा ने कहा, 'विधानसभा स्पीकर ने फैसला किया है कि मेरे केस में मीडिया नहीं होगा. इस देश में सुप्रीम कोर्ट के मुख्य न्यायाधीश जब सुनवाई करते हैं तब भी मीडिया की एंट्री होती है. ऐसे में मेरे केस में मीडिया की एंट्री क्यों नहीं हो रही है.'

कपिल मिश्रा ने कहा, 'मैंने इस नोटिस का 2 साल इंतजार किया है, इसमें खूब जिरह होगी. विधानसभा में जब भी मैं खड़ा होता था तो मुझे 21 बार विधानसभा से बाहर निकाल दिया गया. केजरीवाल ने नोटिस देकर मेरा सपना पूरा किया है, क्योंकि दिल्ली के साथ किए हुए धोखे की हर पोल को मैं खोलूंगा.'

कपिल मिश्रा ने कहा, 'केजरीवाल को फैसला जो सुनना है सुना ले, मगर मैं विधानसभा में केजरीवाल की पोल खोलूंगा. भारत की संसद में भी दलबदल कानून पर सुनवाई चल रही है और वहां मीडिया की एंट्री है, ऐसे में यहां मीडिया की एंट्री क्यों नहीं है.'

मुख्यमंत्री केजरीवाल पर तंज कसते हुए कपिल मिश्रा ने कहा, 'रामलीला मैदान में विधानसभा लगाने की बात करने वाला अरविंद केजरीवाल कपिल मिश्रा के केस की सुनवाई बंद कमरे में करना चाहता है. आ जाओ अरविंद केजरीवाल खुल्लम-खुल्ला आंदोलन दिल्ली और विधानसभा के मुद्दों पर बहस करते हैं.'

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें