scorecardresearch
 

अरविंद केजरीवाल की कॉन्ट्रैक्ट एम्प्लॉइज को स्थाई करने की मांग, बोले-शोषण खत्म करने का समय आ गया

अरविंद केजरीवाल ने कहा कि अस्थायी कर्मचारियों का शोषण किया जाता है. हम ये नहीं होने देंगे. हमने दिल्ली में अस्थायी कर्मचारियों को उनको हक दिया. इसके चलते ही शिक्षा और स्वास्थ्य विभाग में क्रांति आई है. इसके साथ ही पंजाब में अस्थायी शिक्षकों को स्थायी किया है. सभी सरकारों से अपील है कि इस शोषण को बंद करें.

X
दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल
दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल

दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने केंद्र सरकार और अन्य राज्य सरकारों से कॉन्ट्रैक्ट या ठेके पर काम करने वाले कर्मचारियों को स्थाई करने का मुद्दा उठाया है. केजरीवाल ने कहा कि पूरे देश में सरकारी नौकरियां खत्म कर उनकी जगह ठेके पर कर्मचारियों को रखने की हवा चल रही है. यह कहना कि स्थायी कर्मचारी कामचोर होते हैं, गलत धारणा है. 

केजरीवाल ने कहा कि AAP सरकार ने पंजाब में 8,736 अस्थायी शिक्षकों को स्थायी किया है. कई हजार और कर्मचारी हैं जिनको स्थायी किया जाएगा. 10-15 वर्षों से ये शिक्षक धरना-प्रदर्शन करके तंग आ चुके थे. इनको स्थायी करने में थोड़ा समय लग रहा है ताकि अगर मामला कोर्ट में पहुंचे तो कर्मचारियों के साथ धोखा न हो.

केजरीवाल ने कहा कि यह पूरे देश के लिए बहुत बड़ी बात है. देश में जगह-जगह राज्य सरकारें और केंद्र सरकार सरकारी नौकरियां खत्म करती जा रही है. अर्थव्यवस्था बढ़ने पर तो सरकारी नौकरियां और बढ़नी चाहिए. पूरे देश में सरकारी नौकरियों को खत्म करके उनके स्थान पर अस्थायी कर्मचारियों को रखने का ट्रेंड चल रहा है.

अरविंद केजरीवाल ने कहा कि बहुत बड़े स्तर पर सरकारी पद खाली हैं और अस्थायी कर्मचारी रखे जा रहे हैं. दिल्ली में शिक्षा की क्रांति स्थायी कर्मचारियों की वजह से ही आई है. गेस्ट टीचर और स्थायी टीचर दोनों ने मिलकर काम किया है. दिल्ली में करीब 60 हजार शिक्षक सेवाएं दे रहे हैं. दिल्ली में पहले इन शिक्षकों को लेकर कहा जाता था कि सरकारी स्कूल में पढ़ाई नहीं होती है. महिला शिक्षक स्वेटर बुनती रहती हैं. हमारे उन्हीं शिक्षकों ने दिल्ली में शिक्षा क्रांति करके दिखाई. हमारे सरकारी डॉक्टर्स, नर्सेज और मेडिकल स्टाफ ने सरकारी अस्पतालों और मोहल्ला क्लीनिक में कमाल करके दिखाया है. इसलिए यह कहना गलत है कि स्थायी कर्मचारी काम नहीं करते हैं.

अरविंद केजरीवाल ने कहा कि अस्थायी कर्मचारियों का बेइंतहां शोषण किया जाता है. उस शोषण को खत्म करने का समय आ गया है. पंजाब से यह जो हवा निकली है जो पूरे देश में फैलेगी. दिल्ली में हम गेस्ट टीचर को स्थायी करने के लिए विधानसभा में बिल भी लाए लेकिन केंद्र सरकार ने मंजूरी नहीं दी. अरविंद केजरीवाल ने केंद्र और राज्य सरकारों से अपील करते हुए कहा कि जैसे पंजाब सरकार ने अस्थायी कर्मचारियों को स्थायी किया है वैसे ही अन्य सरकारें भी करें. आम आदमी पार्टी की तरफ से मैं कहना चाहता हूं कि देश में जहां भी हमारी सरकार बनेगी, हम हर जगह ऐसा करेंगे.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें