scorecardresearch
 

MCD चुनाव: सभी नेताओं से नाराज़ हैं चंद्रावल गांव के लोग

दिल्ली के नगर निगम चुनाव की तारीखें नजदीक आते ही सभी सियासी दलों ने कमर कस ली है. वक्त है जनता के बीच जाने का, वादे करने का और वोट मांगने का, लेकिन इस बार नगर निगम का चुनाव सभी राजनीतिक दलों के लिए टेढ़ी खीर साबित हो रही है.

गांव में प्रचार करते AAP के कार्यकर्ता गांव में प्रचार करते AAP के कार्यकर्ता

दिल्ली के नगर निगम चुनाव की तारीखें नजदीक आते ही सभी सियासी दलों ने कमर कस ली है. वक्त है जनता के बीच जाने का, वादे करने का और वोट मांगने का, लेकिन इस बार नगर निगम का चुनाव सभी राजनीतिक दलों के लिए टेढ़ी खीर साबित हो रही है.

दस साल से निगम की सत्ता में काबिज बीजेपी एंटी इनकंबेंसी झेल रही है, तो वहीं 2 साल से दिल्ली में राज कर रही आम आदमी पार्टी भी लोगों का गुस्सा झेल रही है. कांग्रेस के लिए निगम का चुनाव अस्तित्व बचाने की लड़ाई साबित हो सकती है. ऐसे में क्या है जनता का मूड यह जानने के लिए आजतक पहुंचा दिल्ली के चांदनी चौक विधानसभा के पुराने चंद्रावल गांव और जायजा लिया इस गांव का.

वार्ड 78 के चंद्रावल गांव में घुसने से पहले ही निगम का ढलाव घर है. आस-पास के इलाकों से कचरा यहां जमा होता है और फिर डंपिंग यार्ड तक भेजा जाता है. कूड़े का ढेर बने इस ढलाव घर की चलते आसपास के इलाकों में बदबू है.

गांव में घुसते ही बाई तरफ एक पुराना स्नान घर है. 15 साल पहले बनाया गया, लेकिन आज मृत अवस्था में पड़ा है. लोगों की शिकायत है बिगड़ने के बाद इसे बनाने के लिए कोई नहीं आया. चुनाव आते रहे, नेता आते रहे , वोट मांगते रहे लेकिन काम करने कोई नहीं आया.

थोड़ा आगे जाते ही एक पुराना बरात घर है. यूं तो यहां पार्क बनना था, लेकिन अब एक बारात घर है. लेकिन लोगों का आरोप है इस बारात घर को एक निजी एनजीओ को सौंप दिया गया है.

इस गांव के निवासी अमित कहते हैं यहां एक पार्क और 12 घर की जरूरत है, लेकिन अब इसे एक ngo को दे दिया गया है. गांव के पास ही वह इलाका है जहां घुसने से पहले आप सौ बार सोचेंगे. कहने को तो यह इंसानों की बस्ती है, लेकिन यहां हालत बद से बदतर है.

बस्ती में पानी तो है, लेकिन निकासी के लिए सीवर लाइन नहीं. दो साल पहले आम आदमी पार्टी की नेता अलका लांबा झाड़ू निशान पर विधायक चुनी गईं, लेकिन 2 साल बीतने के बाद लोगों का आरोप है कि विधायक जी दोबारा कभी नजर भी नहीं आईं. यही हाल निगम में शासित BJP का है. तमाम शिकायतों के बाद भी समस्या सुनने के लिए निगम का एक भी नुमाइंदा इस इलाके में नहीं आया. सीवर लाइन की हालत इतनी ख़राब है कि जब कोई नहीं आया तो लोगों ने खुद ही पैसा जमा कर साफ सफाई करवाई.

रेहाना कहती हैं कि लोग वोट मांगने आते हैं, लेकिन हमारी जरूरतों के वक्त गायब हो जाते हैं, हमारी कोई नहीं सुनता. लोगों का आरोप है कि न केजरीवाल ने कुछ किया न एमसीडी ने. अब जब चुनाव सिर पर हैं, इस इलाके के लोगों को उम्मीद है कि नेता जी फिर आएंगे और वोट मांगेंगे, लेकिन इस बार इतनी आसानी से वोट नहीं मिलेगा. इस बार सवाल पूछा जाएगा और जिम्मेदारी तय की जाएगी.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें