scorecardresearch
 

दिल्ली में लंपी वायरस की एंट्री, 11 रैपिड रिस्पांस टीम का गठन, हेल्पलाइन नंबर जारी

दिल्ली में लंपी वायरस के मामले सामने से स्वास्थ्य महकमा सतर्क हो गया है. मंत्री गोपाल राय ने कहा कि लंपी वायरस को लेकर एक स्पेशल कंट्रोल रूम तुरंत बनाने के निर्देश दिये गये हैं. मंत्री ने विभाग को निर्देश दिया कि सभी हॉस्पिटल में दवा उचित मात्रा में उपलब्ध हो. साथ ही जल्द से जल्द वैक्सीन लगाएं ताकि रोग न फैले.

X
दिल्ली में लंपी वायरस को लेकर स्वास्थ्य विभाग अलर्ट
दिल्ली में लंपी वायरस को लेकर स्वास्थ्य विभाग अलर्ट

दिल्ली में लंपी वायरस की एंट्री हो गयी है. दिल्ली सरकार ने वायरस की रोकथाम के लिए हेल्पलाइन नंबर 8287848586 जारी किया है. साथ ही रेवला खानपुर गौसदन में पशुओं के लिए आइसोलेशन वार्ड भी बनाए जाने की योजना है. लंपी वायरस की चपेट में आए इलाकों में दो मोबाइल पशु चिकित्सा क्लीनिक की तैयारी तेज कर दी गयी है. वायरस से ग्रसित पशुओं के इलाज को लेकर 11 रैपिड रिस्पांस टीम का गठन किया गया है.

वायरस को लेकर मंत्री गोपाल राय ने शनिवार को पशुपालन विभाग के अधिकारियों के साथ बैठक की. इसके बाद गोपाल राय ने कहा कि देश के कई राज्यों में लंपी वायरस पशुओं पर कहर बनकर टूट रहा है. पड़ोसी राज्यों उत्तर प्रदेश, राजस्थान, पंजाब, हरियाणा, हिमाचल प्रदेश और उत्तराखंड में इसके फैलने से दिल्ली में भी संक्रमण का खतरा बढ़ गया है. अभी तक दिल्ली में लंपी वायरस संक्रमण के 173 मामले सामने आये हैं. जिनको देखते हुए पशुपालन विभाग को आवश्यक कदम उठाने के निर्देश दिए गए हैं.

चलेगा जागरुकता अभियान

मंत्री गोपाल राय ने बताया कि किसानों-पशुपालक के बीच लंपी वायरस को लेकर जागरूकता अभियान चलाने  का निर्देश दिया गया है. डेयरी मालिक और किसानों को जागरूक किया जाएगा. अखबारों में पब्लिक नोटिस जारी किया जाएगा. 4 टीमों का गठन किया गया है जो किसानों और पशुपालक को जागरूक करने का अभियान चलाएंगे. गोयला डेयरी एरिया, रेवला खानपुर एरिया, घुम्मनहेड़ा एरिया, नजफगढ़ एरिया आदि में विशेष ध्यान दिया जाएगा.

सरकार ने लंपी वायरस को लेकर एक स्पेशल कंट्रोल रूम तुरंत बनाने के निर्देश दिये गये हैं. मंत्री ने विभाग को निर्देश दिया कि सभी हॉस्पिटल में दवा उचित मात्रा में उपलब्ध हो. साथ ही जल्द से जल्द वैक्सीन लगाएं ताकि रोग न फैले.

लंपी रोग के ये हैं लक्षण

इस वायरस से संक्रमित पशुओं को लगातार तेज बुखार आता है. उनकी आंख और नाक बहने लगती है. शरीर पर चकत्ते पड़ना, स्किन पर चेचक होना, लार निकलना, दूध का कम होना और वजन कम होना इस वायरस के लक्षणों में शमिल हैं. लंपी वायरस मच्छर, मक्खी, जूं द्वारा फैलता है. अभी तक यह एक दूषित गाय के दूसरी गाय के संपर्क में आने से फैल रहा है, चूंकि बड़ी संख्या में दुधारू पशुओं में इसकी पुष्टि हो रही है तो ऐसे में इंसानों में डर बना हुआ है कि कहीं वायरस उनमें भी न फैल जाए. हालांकि एक्सपर्ट्स का कहना है कि मनुष्यों को इससे कोई खतरा नहीं है.

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें