scorecardresearch
 

Exclusive: 3 मास्टरमाइंड, रामनवमी से रची गई साजिश...दिल्ली के जहांगीरपुरी में हिंसा पर बड़ा खुलासा

दिल्ली पुलिस ने जहांगीर हिंसा केस में चार्जशीट फाइल करने की तैयारी कर ली है. दिल्ली पुलिस ने हिंसा के मामले में 3 नाबालिग समेत 38 लोगों को गिरफ्तार किया है. जांच में पता चला है कि दंगों की साजिश रामनवमी से ही शुरू कर दी गई थी. प्लानिंग के तहत आरोपियों ने घरों की छतों पर पत्थर और कांच की बोतलें रखी थी.

X
दिल्ली के जहांगीरपुरी में हनुमान जयंती पर हिंसा फैली थी (फाइल फोटो- पीटीआई)
दिल्ली के जहांगीरपुरी में हनुमान जयंती पर हिंसा फैली थी (फाइल फोटो- पीटीआई)
स्टोरी हाइलाइट्स
  • दिल्ली के जहांगीरपुरी में हनुमान जयंती पर फैली थी हिंसा
  • दिल्ली पुलिस ने तैयार की चार्जशीट, जल्द होगी दाखिल

दिल्ली के जहांगीरपुरी में हनुमान जयंती पर हिंसा हुई थी. अब इसे लेकर बड़ा खुलासा हुआ है. बताया जा रहा है कि हिंसा की साजिश पहले ही रच ली गई थी. इसी के तहत छत पर पत्थर और बोतलें इकट्ठा किए गए थे. इस हिंसा के तीन मास्टरमाइंड तबरेज अंसारी, मोहम्मद अंसार और इशर्फिल हैं. आरोपियों ने रामनवमी से ही हिंसा की तैयारी कर ली थी. दिल्ली की क्राइम ब्रांच वेस्ट बंगाल तक इशर्फिल की तलाश में छापेमारी कर रही है. 

ये हैं हिंसा के तीन मास्टरमाइंड

तबरेज अंसारी: तबरेज हिंसा के बाद पुलिस के सामने अच्छा बनकर अमन चैन की बात करता रहा. लेकिन वह पीछे से लोगों को लगातार उकसा रहा था. आरोप है कि CAA-NRC के विरोध के दौरान से ही तबरेज लोगों को भड़का रहा था. CAA-NRC के खिलाफ जहांगीर के कुशल चौक पर प्रोटेस्ट साइट को चलाने में इसका अहम रोल था. 
 
शेख इशर्फिल : आरोपी शेख इशर्फिल वो शख्स हैं, जिसकी छत से पथराव और कांच की बोतलें फेंकी गई थी. इसकी छत से FSL को जांच के दौरान पत्थर और कांच की बोतलें भी मिली है. इसका और इसके बेटे अशनूर और मोहम्मद अली का क्रिमिनल बैकग्राउंड भी रहा है. वहीं इशर्फिल पार्किंग माफिया भी है. 

मोहम्मद अंसार: अंसार पर तबरेज अंसारी के साथ मिलकर साजिश रचने का आरोप है. हिंसा वाले दिन भी अंसार ने लोगों को भड़काया था. 

अब तक 38 लोग गिरफ्तार

बताया जा रहा है कि दिल्ली पुलिस ने जहांगीर हिंसा केस में चार्जशीट फाइल करने की तैयारी कर ली है. दिल्ली पुलिस ने हिंसा के मामले में 3 नाबालिग समेत 38 लोगों को गिरफ्तार किया है. जांच में पता चला है कि दंगों की साजिश रामनवमी से ही शुरू कर दी गई थी. प्लानिंग के तहत आरोपियों ने घरों की छतों पर पत्थर और कांच की बोतलें रखी थी. 

सूत्रों के मुताबिक, दिल्ली पुलिस की चार्जशीट IPC की धारा 186, 353, 332, 323, 436, 109, 147, 148, 149, 307, 427, 120 B, 34, 25-27 आर्म्स एक्ट के तहत दाखिल की जाएगी. इन आरोपियों को पकड़ने के लिए पुलिस ने करीब 2300 से ज्यादा मोबाइल वीडियो और सीसीटीवी की मदद ली है. और मोबाइल डंप डाटा, CDR, फोन लोकेशन का भी सहारा लिया है. पुलिस ने आरोपियों को पकड़ने के लिए चेहरों की पहचान करने वाला (Face Recognition System) सिस्टम का भी सहारा लिया है. 

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें