scorecardresearch
 

दिल्ली: Monkeypox का पहला मरीज डिस्चार्ज, डॉक्टर्स ने बताया किन बातों का रखें ध्यान

मंकीपॉक्स के मरीज की देखभाल कर चुके डॉक्टरों की टीम ने बताया है कि ये वायरस कोरोना से अलग है. मंकीपॉक्स एक DNA वायरस है. अगर मंकीपॉक्स से पीड़ित किसी मरीज की इम्युनिटी कमजोर है तो खतरा ज्यादा है. कोरोना की वैक्सीन का इस पर कोई असर नहीं होता है. ये बीमारी स्किन, दिमाग या आंखों पर भी असर करती है.

X
सांकेतिक तस्वीर सांकेतिक तस्वीर

देश में मंकीपॉक्स से मौत का पहला मामला सामने आ चुका है तो वहीं राजधानी दिल्ली में एक मंकीपॉक्स संक्रमित मरीज के डिस्चार्ज होने की खबर राहत लेकर आई है. दरअसल, दिल्ली के पहले मंकी पॉक्स संक्रमित को LNJP अस्पताल से डिस्चार्ज कर दिया गया है. 

LNJP अस्पताल के मेडिकल डायरेक्टर डॉ. सुरेश कुमार ने कहा कि यह लोकनायक अस्पताल के लिए बहुत बड़ी उपलब्धि है. मंकीपॉक्स के इलाज में लगी डॉक्टर्स की टीम को बधाई. उन्होंने दिन रात मेहनत की और यह मरीज ठीक हो गया. मरीज को साइकोलॉजीकल सपोर्ट की भी ज़रूरत थी, जो हमारी टीम ने उसे दिया.

डॉ. सुरेश ने आगे बताया कि यह मरीज दिल्ली से ही है. इसकी कॉन्टैक्ट हिस्ट्री हिमाचल की निकली है. हमारे यहां एडमिट होने से पहले वह 15 दिन तक बीमार था. उसे फीवर और स्किन में प्रॉब्लम थी. LNJP में वो 11 दिन तक एडमिट रहा. उसकी शुरुआती दो रिपोर्ट पॉजिटिव आई थीं, तीसरी रिपोर्ट नेगेटिव आई, जिसके बाद हमने उसे डिस्चार्ज कर दिया.

डॉक्टर ने बताया कि ये वायरस कोरोना से अलग है. मंकीपॉक्स एक DNA वायरस है. अगर मंकीपॉक्स से पीड़ित किसी मरीज की इम्युनिटी कमजोर है तो खतरा ज्यादा है. कोरोना की वैक्सीन का इस पर कोई असर नहीं होता है. ये बीमारी स्किन, दिमाग या आंखों पर भी असर करती है. मंकीपॉक्स के मरीज के इलाज में ध्यान रखा जाता है कि बुखार न आए, शरीर में पानी की कमी न हो, और इन्फेक्शन होने पर सभी बेसिक टेस्ट किए जाते हैं.

उन्होंने आगे बताया कि मंकीपॉक्स के मरीज का इलाज LNJP अस्पताल के आइसोलेशन वार्ड में चल रहा है. इस वार्ड में फिलहाल 6 बेड की व्यवस्था है. अस्पताल में 20 डॉक्टर्स की टीम तैनात है, जिसमें स्किन स्पेशलिट, फिजिशियन, माइक्रो बायोलॉजी के साथ साथ नर्सिंग स्टॉफ, हेल्थ वर्कर्स शामिल हैं.

डॉ. सुरेश ने बताया कि जो अफ्रीकन मूल का शख्स मंकीपॉक्स पॉजिटिव आया है, वह 2 दिन पहले ही हमारे यहां एडमिट हुआ था. उसकी उम्र 31 साल है. वह लंबे समय से दिल्ली में रह रहा है. भर्ती होते समय उसे बुखार था, स्किन पर निशान थे, फेस पर भी निशान थे. सिर दर्द और बदन दर्द था. उसकी बॉडी का तापमान कुछ कम हुआ है. मरीज स्थिर है.

मेडिकल डायरेक्टर ने मरीज की हेल्थ कंडीशन के बारे में बताया कि संक्रमित में मल्टी ऑर्गन इंवॉल्वमेंट या ब्रेन इन्वॉल्वमेंट जैसा कुछ नहीं है. वायरल निमोनिया भी नहीं है, उसकी एक्स-रे रिपोर्ट सही है. पहले उसे हमने सस्पेक्ट कैटेगरी में रखा था, लेकिन जैसे ही रिपोर्ट आई और पता चला कि वह पॉजिटिव है, उसे अलग से ट्रीट कर रहे हैं. उसके कॉन्टैक्ट में जो लोग आए हैं, उनकी ट्रेसिंग की जा रही है. कल रात भी LNJP अस्पताल में एक मंकीपॉक्स का संदिग्ध भर्ती हुआ है. फिलहाल अस्पताल में  1 पॉजिटिव और 2 संदिग्ध भर्ती हैं.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें