scorecardresearch
 

दिल्ली में बढ़ा सियासी पारा, लेकिन वोटिंग के दिन मिल सकती है गर्मी से राहत

रविवार को दिल्ली में  7 सीटों पर चुनाव है तो ये बड़ा सवाल होगा कि क्या दिल्ली की जनता बड़ी संख्या में अपने घरों से बाहर आकर अपने मतअधिकार का प्रयोग करती है या नहीं.

दिल्ली में तापमान 40 से 45 डिग्री तक दर्ज(फाइल फोटो-दिल्ली आजतक) दिल्ली में तापमान 40 से 45 डिग्री तक दर्ज(फाइल फोटो-दिल्ली आजतक)

देश में चुनावी माहौल अपने चरम पर है. सियासी पारा लगातार बढ़ रहा है और और सभी राजनेता जनता को रिझाने में लगे हैं.  एक तरफ नेता जनता का वोट पाने की कवायद में हैं तो वहीं दूसरी तरफ नागरिकों पर भी अपने मत का प्रयोग करने की अहम जिम्मेदारी है. लेकिन इसी सियासी पारे के बीच दिल्ली का तापमान भी लगातार बढ़ रहा है.

मौसम विभाग के मुताब‍िक, अगले कुछ घंटों के दौरान हरियाणा के कैथल, नरवाना, जींद जिले के आसपास के इलाकों में बारिश होने की संभावना जताई गई है. इस दौरान हल्की बारिश और 20 से 25 किमी प्रतिघंटे की रफ्तार की तेज हवाएं चलने का पूर्वानुमान है. इसका असर दिल्ली-एनसीआर में भी देखने को मिलेगा.

इससे पहले शनिवार को दिल्ली में तापमान 40 से 45 डिग्री तक दर्ज किया गया. अब इस चिलचिलाती धूप में वोटिंग करना अपने आप में चुनौती है. ऐसे में रविवार को दिल्ली में 7 सीटों पर चुनाव है तो ये बड़ा सवाल होगा कि क्या दिल्ली की जनता बड़ी संख्या में अपने घरों से बाहर आकर अपने मताधिकार का प्रयोग करती है या नहीं.

इसी सिलसिले में जब आजतक ने दिल्लीवासियों का मिजाज जानने की कोशिश की तो उनमें भरपूर उत्साह नजर आया. राजधानी के लोगों को भीषण गर्मी और धूप के थपेड़ों से तकलीफ जरूर है, लेकिन वे अपना मताधिकार छोड़ना नहीं चाहते. वे इस लोकतंत्र के पर्व में बढ़चढ़कर हिस्सा लेना चाहते है .

दिल्ली के एक नागरिक ने कहा कि तेज गर्मी में कठिनाई का सामना जरूर करना पड़ेगा, लेकिन वे सुबह जल्दी जाकर अपना वोट करेंगे. उनके मुताब‍िक, "गर्मी तो काफी है ,लेकिन वोटिंग करना भी जरूरी है. अब अगर चिलचिलाती धूप से बचना है तो सुबह जल्दी वोटिंग करने जाना पड़ेगा."

बता दें, दिल्ली वाले खुद तो जागरूक हैं ही, साथ में वे दूसरों को भी मतदान करने के लिए प्रेरित कर रहे हैं. इंडिया गेट पर खड़े एक युवक से बात की तो उन्होंने कहा "गर्मी कभी वोटिंग ना करने का बहाना नहीं बन सकती. हर किसी को वोटिंग तो करनी ही चाहिए क्योंकि देश का भविष्य इसी पर निर्भर करता है."

अब इस बात में तो कोई दो राय नहीं कि दिल्ली की जनता जागरुक भी है और अपनी जिम्मेदारियां भी बखूबी जानती है. लेकिन अगर फिर भी तेज गर्मी के चलते मत प्रतिशत अनुमान से कम रहा तो कई सियासी समीकरण बदल सकते हैं.  इसी बात पर जोर देते हुए एक युवक ने कहा की तेज गर्मी के चलते मत प्रतिशत 4 से 5 फीसदी तक कम रह सकता है. लेकिन ऐसा होगा इसकी संभावना बहुत कम है.

मौसम वैज्ञानिकों की मानें तो रविवार के दिन मौसम और दिनों के मुकाबले ठंडा रहेगा और लोगों को भी गर्मी से राहत मिलेगी. मौसम विभाग के निर्देशक बीपी यादव कहते हैं,  "रविवार का दिन और दिनों के मुकाबले राहत भरा रहेगा. औसत तापमान 29 से 40 डिग्री रहने का अनुमान है. कुछ जगहों पर हल्की बारिश होने के भी आसार है. तो वोटिंग के हिसाब से रविवार का दिन बिल्कुल अनुकूल है."

बता दें कि पिछले कुछ सालों से मौसम विभाग की भविष्यवाणी एकदम सटीक साबित हुई हैं. ऐसे में अगर मौसम विभाग कह रहा है कि मतदान के दिन गर्मी कम रहेगी, तो सभी नागरिकों को बढ़-चढ़कर वोटिंग करके दुनिया के सबसे बड़े लोकतंत्र को सशक्त बनाना चाहिए.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें