scorecardresearch
 

आजादपुर चौक, पंजाबी बाग...दिल्ली के ये डार्क स्पॉट हैं क्रैश साइट, ड्राइविंग के वक्त रहें अलर्ट

दिल्ली में हर साल हजारों लोग सड़क हादसों में अपनी जान गंवाते हैं. इसी को ध्यान में रखते हुए दिल्ली पुलिस ने एक 'क्रैश रिपोर्ट' पब्लिश की है, जिसमें पुलिस ने ऐसे 87 डार्क स्पॉट और 10 ब्लैक स्पॉट की पहचान की है, जहां सबसे ज्यादा रोड एक्सीडेंट होते हैं.

X
सांकेतिक तस्वीर
सांकेतिक तस्वीर

राजधानी की सड़कों को सुरक्षित बनाने और रोड एक्सीडेंट में कमी लाने के लिए दिल्ली पुलिस ने अपनी 'क्रैश रिपोर्ट' पब्लिश की है. इस रिपोर्ट में दिल्ली की सड़कों के 87 ऐसे डार्क स्पॉट और 10 ब्लैक स्पॉट की पहचान की गई है, जहां सबसे ज्यादा रोड एक्सीडेंट होते हैं. इसी के साथ रिपोर्ट में इस साल दिल्ली में रोड एक्सीडेंट के कारणों पर भी विस्तार से चर्चा की गई है.

ब्लैक स्पॉट पर चलें जरा संभलकर

दिल्ली पुलिस के स्पेशल कमिश्नर (ट्रैफिक) सुरेन्द्र यादव ने बताया कि राजधानी की सड़कों पर 10 ब्लैक स्पॉट की पहचान की गई है. इनमें आजादपुर चौक, भलस्वा चौक, मुकरबा चौक, बुराड़ी चौक, मजनूं का टीला, पंजाबी बाग चौक, गाजीपुर फ्लाईओवर मुर्गा मंडी, मुकुंदपुर चौक, रजोकरी फ्लाईओवर और मधुबन चौक ऐसे ब्लैक स्पॉट हैं, जहां एक्सीडेंट की संभावना ज्यादा है. ऐसे मं यहां संभलकर चलने की जरूरत है.

आउटर रिंग रोड पर सबसे ज्यादा डार्क स्पॉट

वहीं दिल्ली में दुर्घटना संभावित 87 डार्क स्पॉट की भी पहचान की गई है. सबसे ज्यादा डार्क स्पॉट आउटर रिंग रोड पर हैं. बाहरी रिंग रोड पर पुलिस ने कुल 18 डार्क स्पॉट की पहचान की है. इसके अलावा रिंग रोड पर 14, जी. टी. करनाल रोड पर 8, वजीराबाद रोड पर 6 और एन. एच. 24 पर मौजूद 5 डार्क स्पॉट काफी ज्यादा दुर्घटना संभावित प्वॉइंट हैं. वहीं अन्य इलाकों में भी डार्क स्पॉट पहचाने गए हैं.

सुरेन्द्र यादव ने बताया कि दिल्ली पुलिस अब अन्य सरकारी एजेंसियों के साथ मिलकर ब्लैक स्पॉट और डार्क स्पॉट को कम करने की कोशिश कर रही है. यहां पर सड़कों पर उचित प्रकाश के साथ-साथ कई और सुधार किए जा रहे हैं. ताकि यहां होने वाले एक्सीडेंट में कमी आए. साथ ही फुटपाथ वगैरह को भी क्लीयर कराया जाएगा.

गलत साइड से ओवरटेक बड़ी प्रॉब्लम

दिल्ली पुलिस की 'क्रैश रिपोर्ट' के मुताबिक सड़कों पर होने वाले एक्सीडेंट के कई कारण हैं. इनमें तेज रफ्तार, शराब पीकर गाड़ी चलाना, गलत साइड से गाड़ी चलाना सबसे बड़ी वजहों में से एक है. वहीं कई जगह पर इसके अलावा कई जगहों पर फुटपाथ पर भी लोगों का कब्जा है. इस वजह से पेडेस्ट्रियन सड़कों पर चलने को मजबूर होते हैं और हादसे का शिकार हो जाते हैं.

1200 से ज्यादा की गई जान, 4200 से ज्यादा घायल

रिपोर्ट के मुताबिक दिल्ली में 2021 में कुल 4720 सड़क हादसे हुए. इनमें कुल 1239 लोगो की जान चली गई. जबकि 4273 लोग घायल हो गए. मरने वालों में सबसे ज्यादा संख्या पैदलयात्रियों की है. 2021 में 495 पैदल यात्री जबकि 470 बाइकर्स की जान सड़क दुर्घटना में गई है. सबसे ज्यादा दुर्घटना शाम 7 बजे से रात दो बजे की बीच हुई हैं. दिन में 561 और रात में 645 दुर्घटनाएं हुई हैं. इस साल एक्सीडेंट में होने वाली मौतों की संख्या 2020 के मुकाबले साढ़े तीन प्रतिशत ज्यादा है.

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें