scorecardresearch
 

शराब घोटाला: यूपी से पंजाब तक... कारोबारियों के इन 35 ठिकानों पर ED की छापेमारी

दिल्ली की नई शराब पॉलिसी के मामले में आज ईडी ने शराब कारोबारियों के 35 ठिकानों पर छापेमारी की. जांच एजेंसी ने मेसर्स इंडो स्प्रिट्स के एमडी समीर महेंद्रू के ठिकाने पर भी छापा मारा है. ये दिल्ली के जोर बाग इलाके में रहते हैं. वहीं, ED ने बिजनेसमैन अमित अरोड़ की पॉपर्टी फ्लैट नंबर 1410 पर भी छापेमारी की.

X
सांकेतिक तस्वीर
सांकेतिक तस्वीर

शराब घोटाले में CBI के बाद अब ED ने एक्शन लेना शुरू कर दिया है. मंगलवार को ईडी ने दिल्ली, यूपी, पंजाब सहित कई राज्यों में शराब कारोबारियों के ठिकानों पर छापेमारी की. ये कार्रवाई गुरुग्राम, लखनऊ, हैदराबाद, मुंबई, बेंगलुरु सहित करीब 35 ठिकानों पर की गई.

जांच एजेंसी ने मेसर्स इंडो स्प्रिट्स के एमडी समीर महेंद्रू के ठिकाने पर भी छापा मारा है. ये दिल्ली के जोर बाग इलाके में रहते हैं. उन पर 1 करोड़ रुपए मेसर्स राधा इंडस्ट्रीज के राजेन्द्र प्लेस स्थित यूको बैंक के अकाउंट में ट्रांसफर करने का आरोप है. महेंद्रू के गार्ड ने आजतक को बताया कि सुबह करीब 7 बजे के आसपास ईडी की टीम पहुंची थी. टीम यहां से घर के एक सदस्य को लेकर निकली है. प्रवर्तन निदेशालय (ED) ने बिजनेसमैन अमित अरोड़ की पॉपर्टी फ्लैट नंबर 1410 पर भी छापेमारी की. 

मनीष सिसोदिया का आया बयान

छापेमारी के बीच दिल्ली के डिप्टी सीएम मनीष सिसोदिया का बयान भी सामने आया है. उन्होंने कहा,'पहले इन्होंने सीबीआई के छापे मारे. कुछ नहीं मिला. अभी ईडी के छापे मारेंगे. इसमें कुछ नहीं निकलेगा. देश में जो शिक्षा का माहौल बना हुआ है, अरविंद केजरीवालजी जो काम कर रहे हैं, उसे रोकने का काम हो रहा है. लेकिन उसे रोक नहीं पाएंगे. यह सीबीआई यूज कर लें, ये ईडी यूज कर लें. उसे रोक नहीं पाएंगे शिक्षा के काम को रोक नहीं पाएंगे. मेरे पास ज्यादा सूचना नहीं है. मैंने ईमानदारी से काम किया है. 4 स्कूलों के नक्शे और उन्हें मिल जाएंगे.'

दरअसल, दिल्ली में केजरीवाल सरकार नई शराब नीति लेकर आई थी. इस नीति के आने के बाद दिल्ली के शराब कारोबारी ग्राहकों को डिस्काउंटेड रेट पर शराब बेच रहे थे. कई जगहों पर एक बोतल खरीदने पर दूसरी मुफ्त दी जा रही थी.आबकारी नीति 2021-22 के चलते एक समय ऐसा भी आया था, जब दिल्ली में शराब दुकानों की संख्या करीब 650 पहुंच गई थी.

जांच एजेंसी ने नई शराब नीति में घोटाला होने का दावा किया था, जिसके बाद उपराज्यपाल वीके सक्सेना ने सीबीआई जांच की सिफारिश की थी. इसके बाद दिल्ली सरकार ने आबकारी नीति 2021-22 को वापस ले लिया था.राज्य में 1 सितंबर से पुरानी शराब नीति दोबारा लागू कर दी गई है. नई नीति लागू होने से पहले ही कई लाइसेंस धारकों ने अपने लाइसेंस सरेंडर कर दिए थे.

शराब घोटाले में दिल्ली के उप मुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया के खिलाफ भी केस दर्ज किया गया है. उन्हें इस मामले में मुख्य आरोपी बनाया गया है. सीबीआई ने शराब घोटाला मामले में उनसे लंबी पूछताछ भी की थी. सीबीआई की टीम ने डिप्टी सीएम के घर से सीक्रेट डॉक्यूमेंट भी बरामद किए थे.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें