scorecardresearch
 

दिल्ली विधानसभा चुनाव में जीत के लिए कांग्रेस में मंथन

दिल्ली में कांग्रेस को हार किन कारणों से मिली इस मुद्दे को लेकर कांग्रेस ने 5 सदस्यीय कमेटी बनाई है, कमेटी के सदस्यों की बैठक हुई. बैठक में दिल्ली कांग्रेस अध्यक्ष शीला दीक्षित, कांग्रेस प्रवक्ता पवन खेड़ा, वरिष्ठ कांग्रेस नेता योगानन्द शास्त्री, परवेज हाशमी, पूर्व मंत्री एके वालिया शामिल हुए.

दिल्ली कांग्रेस की अध्यक्ष शीला दीक्षित. (फाइल फोटो) दिल्ली कांग्रेस की अध्यक्ष शीला दीक्षित. (फाइल फोटो)

हाल ही में हुए लोकसभा चुनाव में मिली हार के बाद कांग्रेस पार्टी अब हार की समीक्षा में जुट गई है. दिल्ली की 7 सीटों में से 5 सीटों पर कांग्रेस नंबर दो पर रही है. ऐसे में पार्टी को उम्मीद है कि अगर विधानसभा चुनाव पूरी तैयारी से लड़ा जाए तो नतीजे अच्छे हो सकते हैं. इसी सिलसिले में लोकसभा चुनाव की हार के मुद्दों को लेकर पार्टी के वरिष्ठ नेताओं की मंगलवार को समीक्षा बैठक हुई. समीक्षा बैठक में लोकसभा चुनाव के हार के कारणों पर चर्चा हुई , साथ ही साथ दिल्ली विधानसभा चुनाव में कांग्रेस कैसे सफल होगी इस मुद्दे पर भी चर्चा की गई.

दिल्ली में कांग्रेस को हार किन कारणों से मिली इस मुद्दे को लेकर कांग्रेस ने 5 सदस्यीय कमेटी बनाई है, कमेटी के सदस्यों की बैठक हुई. बैठक में दिल्ली कांग्रेस अध्यक्ष शीला दीक्षित, कांग्रेस प्रवक्ता पवन खेड़ा, वरिष्ठ कांग्रेस नेता योगानन्द शास्त्री, परवेज हाशमी, पूर्व मंत्री एके वालिया शामिल हुए. बैठक में निर्णय लिया गया कि दिल्ली में हारे हुए सातों उम्मीदवारों को बारी-बारी से 5 सदस्यीय कमेटी के समक्ष पेश किया जाएगा. कमेटी के समक्ष सभी हारे हुए उम्मीदवार 2 जिलाध्यक्ष के साथ रहेंगे ताकि हार के कारणों पर विस्तृत चर्चा हो सके. बुधवार सुबह 11 बजे से लेकर 2 बजे तक कांग्रेस दफ्तर में सभी उम्मीदवारों को बुलाया जाएगा ताकि कमेटी के समक्ष हार के विस्तृत कारणों पर चर्चा हो सके.

वहीं दूसरी तरफ दिल्ली प्रदेश अध्यक्ष शीला दीक्षित ने साफ किया कि हार के कारणों पर बैठक तो होगी ही साथ ही साथ दिल्ली में विधानसभा चुनाव मजबूती से कैसे लड़ा जाए इस पर भी पार्टी बात करेगी. शीला ने साफ किया कि हार जिन कारणों से हुई है उन कारणों पर पार्टी मंथन कर रही है. जाहिर है दिल्ली में लोकसभा चुनाव में मिली हार के बाद अब कांग्रेस पार्टी की नजर 6 महीने बाद होने वाले विधानसभा चुनाव पर है ताकि नंबर दो पर आई पार्टी को नंबर एक पर लाया जा सके. 5 सीटों पर आम आदमी को दूसरे नंबर पर धकेलने के बाद कांग्रेस कार्यकर्ताओं के इस जोश का इस्तेमाल विधानसभा चुनाव में करना चाहती है.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें