scorecardresearch
 

Independence day 2022 : 'शिक्षा फ्री-बी नहीं है'... स्वतंत्रता दिवस कार्यक्रम में बोले दिल्ली सीएम अरविंद केजरीवाल

Independence day 2022 : शिक्षा फ्री-बी नहीं है. शिक्षा को फ्री-बी मत कहिए. एक मां-बाप अपना पेट काटकर अपने बच्चे को पढ़ाते हैं. वो एक टाइम की रोटी कम खा लेते हैं लेकिन अपने बच्चे को फ्री-बी नहीं देते. हमारा 130 करोड़ लोगों का परिवार है. देश के 27 करोड़ बच्चे हमारे बच्चे हैं. ये कोई पराए बच्चे नहीं हैं.

X
दिल्ली सीएम अरविंद केजरीवाल ( फाइल फोटो )
दिल्ली सीएम अरविंद केजरीवाल ( फाइल फोटो )

दिल्ली सीएम अरविंद केजरीवाल ने देशवासियों ने देश की आजादी के 75 साल पूरे होने पर बधाई दी. दिल्ली के छत्रसाल स्टेडियम में आयोजित स्वतंत्रता दिवस कार्यक्रम में केजरीवाल ने दूसरे देशों से भारत को आगे ले जाने की बात कही. फ्री शिक्षा और फ्री इलाज को लेकर भी बोला. अरविंद केजरीवाल ने अपने भाषण के दौरान 'हम होंगे कामयाब' गीत भी गाया. केजरीवाल ने कहा कि सिंगापुर को भारत की आजादी के 15 साल बाद आजादी मिली थी लेकिन आज सिंगापुर हमारे देश से आगे है. हम भी दुनिया के नंबर एक देश बन सकते हैं हमारे देश में टैलेंट की कोई कमी नहीं है.

दिल्ली सीएम केजरीवाल ने कहा कि आजादी को बरकरार रखना और आगे बढ़ना अलग बात है. देश ने खूब तरक्की की है लेकिन आज ये सोचने का वक़्त है कि देश के सामने क्या चुनौतियां हैं. देश को आजाद हुए 75 साल हो गए हैं. इन 75 सालों में कई देश हमारे बाद आज़ाद हुए जैसे सिंगापुर, जापान, जर्मनी. लेकिन आज ये देश हमसे आगे क्यों निकल गए हैं. भारत के लोग दुनिया के सबसे इंटेलिजेंट, मेहनती, बेस्ट हैं फिर हम पीछे क्यों रह गए ? भगवान ने कोई कमी नहीं छोड़ी, भगवान ने सबसे खूबसूरत भारत को बनाया फिर भारत पीछे क्यों ?

केजरीवाल ने कहा कि ''मैंने स्टडी किया है. दुनिया के जितने अमीर देश हैं वो क्यों अमीर बने? इन देशो ने 2 काम जरुर किए है. पहला काम अपने बच्चों की शिक्षा का अच्छा इंतज़ाम किया और दूसरा, इन देशों ने अपने लोगों के अच्छे इलाज का इंतजाम किया. भारत को अमीर बनना है तो देश के बच्चों की शानदार पढ़ाई और इलाज का इंतज़ाम करना होगा. जब '' भारत माँ का बच्चा अच्छी शिक्षा पायेगा तभी अमर तिरंगा शान से आसमान में लगराएगा. ''

बजट का 25 फीसदी स्कूलों पर खर्च

अरविंद केजरीवाल बोले हमारी सरकार से पहले दिल्ली के सरकारी स्कूलों का भी बुरा हाल था. मैं साल 2012 में दिल्ली के एक सरकारी स्कूल में गया था  वहां एक बच्चे ने कहा कि भारत का भविष्य तो प्राइवेट स्कूल वालों का होता है. फिर मैंने मनीष सिसोदिया से बात की और अपने बजट का 25 फीसदी स्कूलों पर खर्च करना शुरू किया. स्कूलों के प्रिंसिपल्स को विदेशों में भेजकर ट्रेनिंग कराई. इसका नतीजा यह हुआ कि सरकारी स्कूलों के 99.7 परसेंट नतीजे आन लगा. 4 लाख बच्चे प्राइवेट स्कूलों से नाम कटाकर सरकारी में भर्ती हुए हैं. पूर्व अमेरिकी राष्ट्रपति ट्रंप की पत्नी दिल्ली सरकार के स्कूल को देखने पहुंचीं.

शिक्षा नहीं है फ्री बी

अरविंद केजरीवाल ने अपने भाषण में बोला कि 'शिक्षा फ्री बी नहीं है'. मां-बाप अपने बच्चे को फ्री बी नहीं देते. ये हमारे बच्चे हैं, पैसे की कमी है तो एक वक़्त की रोटी कम खा लेंगे लेकिन बच्चों को फ्री और अच्छी शिक्षा देंगे. दुनिया के 39 देशों में फ्री शिक्षा दी जाती है. सिर्फ शिक्षा से एक पीढ़ी में भारत अमीर देश हो जायेगा. आज देश के 27 करोड़ बच्चों का भविष्य अंधकार में है. दिल्ली की तरह देश में रौशनी आ सकती है. दिल्ली को सिस्टम ठीक करना आ गया है पूरे देश का सिस्टम 5 साल में ठीक हो सकता है. देश के 130 करोड़ लोगों को संकल्प लेना होगा कि भारत को दुनिया का नंबर 1 देश बनाना है.

देश को बीमा नहीं अस्पताल चाहिए

मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने निवेदन करते हुए कहा कि लोगों को अच्छा इलाज देना फ्री-बी नहीं , फ्री की रेवड़ी नहीं. हमारे घर में कोई बीमार हो हम कुछ भी करके उनका इलाज करता हैं. हमारा 130 करोड़ लोगों का परिवार है. आज हमें प्रण लेना होगा कि 130 करोड़ लोगों में कोई भी बीमार होगा, तो हमारा देश उसका फ्री में इलाज कराएगा. कनाडा, इंग्लैंड, डेनमार्क, नार्वे समेत बहुत सारे अमीर देशों ने अपने सारे लोगों का फ्री में इलाज का इंतजाम कर रखा है. अगर भारत को अमीर बनना है, तो हमें शिक्षा और इलाज का अच्छा, शानदार और मुफ्त इलाज का इंतजाम करना पड़ेगा.

अगर देश के 130 करोड़ लोग यह ठान लें कि भारत को दुनिया का नंबर वन देश बनाना है, तो हम पीछे नहीं रहेंगे. आज से 75 साल पहले पूरा देश इकट्ठा हुआ था और हमने अंग्रेजों को उठाकर बाहर फेंक दिया. आज अगर पूरा देश इकट्ठा हो जाए, तो भारत को दुनिया का नंबर वन देश बनाने से कोई नहीं रोक सकता है. आने वाला समय भारत का समय है. मुझे पूरा यकीन है कि बहुत कम समय में आने वाले समय में भारत दुनिया का नंबर वन देश बनकर रहेगा.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें