scorecardresearch
 

लॉकडाउनः श्मशान घाट में रखी हैं अस्थियां, हरिद्वार में प्रवाहित किए जाने का इंतजार

दिल्ली के सीमापुरी इलाके में स्थित श्मशान घाट पर कई अस्थियां रखी हुई हैं. लॉकडाउन खुलने का इंतजार किया जा रहा है, ताकि इन्हें हरिद्वार में प्रवाहित किया जा सके

एक श्मशान घाट में रखी अस्थियां (फोटो-PTI) एक श्मशान घाट में रखी अस्थियां (फोटो-PTI)

  • सीमापुरी श्मशान घाट में रखी हैं अस्थियां
  • अस्थियां हरिद्वार में प्रवाहित की जाएंगी

दुनियाभर में कोरोना लॉकडाउन के चलते सब कुछ थम सा गया है. लॉकडाउन की वजह से दिल्ली के सीमापुरी स्थित श्मशान घाट में अस्थियां रखी हुई हैं जिन्हें हरिद्वार में गंगा नदी में प्रवाहित किया जाना है. लेकिन लॉकडाउन की वजह से इन अस्थियों को लोग हरिद्वार नहीं ले जा पा रहे हैं.

दिल्ली के सीमापुरी इलाके में स्थित श्मशान घाट पर कई अस्थियां रखी हुई हैं. लॉकडाउन खुलने का इंतजार किया जा रहा है ताकि इन्हें हरिद्वार में प्रवाहित किया जा सके. लेकिन हालात को देखते हुए यह कहा जा सकता है कि मरने के बाद भी इंसान को मुक्ति नहीं मिल पा रही है.

दरअसल, इस श्मशान घाट का संचालन शहीद भगत सिंह सेवा दल कर रहा है. सीमापुरी श्मशान घाट के संचालक जिंतेंद्र शांति ने बताया कि लॉकडाउन की वजह से उन्हें खासी दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है.

कोरोना पर फुल कवरेज के लि‍ए यहां क्ल‍िक करें

कोरोना कमांडोज़ का हौसला बढ़ाएं और उन्हें शुक्रिया कहें...

वहीं सेवा दल के आधिकारियों की मानें तो कोरोना वायरस की वजह से श्मशान घाट लोग कम आ रहे हैं. लेकिन यह जो अस्थियां रखी हैं. ये कोरोना से संक्रमण से मरने वाले लोगों की नहीं हैं.

देश-दुनिया के किस हिस्से में कितना है कोरोना का कहर? यहां क्लिक कर देखें

सेवा दल के मुताबिक ये उनकी अस्थियां हैं जिनकी किन्हीं अन्य वजह से मौत हुई हैं. सेना दल के सदस्यों ने बताया कि जैसे ही लॉकडाउन खुलेगा वैसे ही शहीद भगत सिंह सेवा दल हर एक अस्थियों को हरिद्वार में प्रवाहित करेगा और साथ में उनके एक रिश्तेदार को अपने साथ लेकर जाएगा.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें