scorecardresearch
 

दिल्ली: DCP राजेश देव को गृह मंत्रालय का मेडल, जामिया हिंसा की कर रहे हैं जांच

केंद्रीय गृह मंत्रालय की ओर से जांच में उत्कृष्टता के लिए दिए जाने वाले पदक में जिन 121 अधिकारियों के नाम हैं, उनमें सीबीआई से 15, मध्य प्रदेश-महाराष्ट्र पुलिस से 10-10, यूपी पुलिस से 8, केरल और बंगाल पुलिस से 7 और बाकी अन्य प्रदेशों/संघ शासित प्रदेशों से शामिल हैं.

गृह मंत्रालय की फाइल फोटो (PTI) गृह मंत्रालय की फाइल फोटो (PTI)

  • 121 अधिकारियों को जांच में उत्कृष्टता का पदक
  • सम्मान पाने वालों में 21 महिला पुलिस अधिकारी

केंद्रीय गृह मंत्रालय ने इस साल के उत्कृष्ट सेवा पदक का ऐलान कर दिया है. यह सम्मान पुलिस जांच के लिए दिया गया है. इस बार 121 पुलिस अधिकारियों को यह सम्मान दिया जाएगा. इसमें 21 महिला पुलिस अधिकारी भी शामिल हैं. दिल्ली से डीसीपी क्राइम राजेश देव का नाम भी इसमें शामिल है. राजेश देव जामिया हिंसा की जांच कर रहे हैं.

केंद्रीय गृह मंत्रालय की ओर से जांच में उत्कृष्टता के लिए दिए जाने वाले पदक में जिन 121 अधिकारियों के नाम हैं, उनमें सीबीआई से 15, मध्यप्रदेश-महाराष्ट्र पुलिस से 10-10, यूपी पुलिस से 8, केरल और बंगाल पुलिस से 7 और बाकी अन्य प्रदेशों/संघ शासित प्रदेशों से शामिल हैं.

ये भी पढ़ें: हवाला रैकेट: रोज 3 करोड़ निकालता था चीनी नागरिक, मणिपुर की लड़की से की थी शादी

केंद्रीय गृह मंत्रालय की ओर से दी गई जानकारी के मुताबिक, 121 सम्मानित लोगों में 21 महिला अधिकारियों के नाम हैं. इस जांच पदक का गठन 2018 में किया गया था. यह सम्मान उन अधिकारियों के दिए जाते हैं जो अपराध के क्षेत्र में उत्कृष्ट जांच की कार्रवाई को अंजाम देते हैं. दिल्ली में इस बार यह सम्मान डीसीपी क्राइम राजेश देव को दिया जा रहा है जो जामिया हिंसा जांच से जुड़े हैं. यह मामला पिछले साल दिसंबर में दर्ज हुआ था जब दिल्ली में हिंसा भड़की थी. सीएए विरोध में भड़की हिंसा में पुलिस ने शरजील इमाम पर देशद्रोह का केस दर्ज किया था.

केंद्रीय गृह मंत्रालय की ओर से दिए जाने वाले इस सम्मान का नाम "जांच में उत्कृष्टता के लिए केंद्रीय गृह मंत्री का पदक" 2020 है. जिन लोगों के इसमें नाम शामिल हैं, उन्हें 15 अगस्त को इस पदक से नवाजा जाएगा. अपराध की दुनिया में उत्कृष्ट जांच के लिए गृह मंत्रालय ने 121 पुलिस अधिकारियों का नाम चुना है. पुलिस अधिकारियों को जांच में प्रोत्साहित करने के लिए इस पदक का गठन किया गया था. यह पदक उन पुलिस और केंद्रीय अर्धसैनिक बलों को दिया जाता है जो अपने क्षेत्र में उत्कृष्ट योगदान देते हैं.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें