scorecardresearch
 

चुनाव बाद हो सकता है केजरीवाल सरकार और MCD में टकराव, CM से मांगा वक्त

दिल्ली सरकार और दिल्ली नगर निगम के बीच टकराव की स्थिति बनती हुई नजर आ रही है. दरअसल, फंड की कमी से जूझ रही दिल्ली नगर निगम ने मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल को चिट्ठी लिखकर तुरंत अपॉइंटमेंट मांगा है.

दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल (फोटो-PTI) दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल (फोटो-PTI)

  • फंड की कमी से जूझ रही दिल्ली नगर निगम
  • MCD ने केजरीवाल सरकार से मांगा सहयोग

दिल्ली सरकार और दिल्ली नगर निगम के बीच टकराव की स्थिति बनती हुई नजर आ रही है. दरअसल, फंड की कमी से जूझ रही दिल्ली नगर निगम ने मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल को चिट्ठी लिखकर तुरंत अपॉइंटमेंट मांगा है. एमसीडी के सीनियर नेताओं की ओर से लिखी चिट्ठी में केजरीवाल सरकार से जल्द मिलने के लिए वक्त मांगा गया है. साथ ही फंड के मुद्दे को सुलझाने की मांग की गई है.

दक्षिणी दिल्ली नगर निगम की स्थाई समिति के अध्यक्ष भूपेंद्र गुप्ता ने बताया, "हम नई सरकार को बधाई देते हैं, लेकिन हम चाहते हैं कि इस बार दिल्ली सरकार नगर निगम को सहयोग करे ताकि मिलकर दिल्ली को बेहतर शहर बना सकें."

ये भी पढ़ेंः वार्ताकारों से मुलाकात से पहले बोलीं शाहीन बाग की महिलाएं- हटने का सवाल नहीं

भूपेंद्र गुप्ता आगे कहते हैं, "सीएम केजरीवाल ने कई मंचों से कहा है कि वह केंद्र सरकार के सहयोग की मांग करते हैं. ऐसे में हम केजरीवाल सरकार से अपने लिए सहयोग की मांग करते हैं. बड़े भाई होने के नाते केजरीवाल सरकार को नगर निगम की परेशानियों को दूर करना चाहिए."

मुख्यमंत्री को संबोधित चिट्ठी में लिखा है " जैसा कि आपने अपने शपथ ग्रहण समारोह में भाषण में यह कहा था कि केंद्र सरकार के साथ टकराव की नीति पर हम काम नहीं करेंगे. केंद्र से दिल्ली को चलाने के लिए समायोजन की अपेक्षा करते हैं. इसी तरह से दिल्ली नगर निगम भी आपसे सहयोग की अपेक्षा करती है ताकि दिल्ली को एक विश्वस्तरीय शहर बनाया जा सके. दिल्लीवासियों को समस्त नागरिक सुविधाएं उपलब्ध कराई जा सकें."

ये भी पढ़ेंः CM केजरीवाल ने बुलाई हाई लेवल मीटिंग, वादों के अमल पर होगी चर्चा

चिट्ठी में आगे लिखा है, "लिहाजा आपसे यह अपेक्षा करते हैं कि जिस तरह से आपने अपने आप को दिल्ली का बेटा कहा है उसी तरह निगम को भी दिल्ली सरकार अपना छोटा भाई मान कर बकाया राशि का भुगतान शीघ्र करे."

वहीं दूसरी ओर उत्तरी दिल्ली नगर निगम में स्थाई समिति चेयरमैन जयप्रकाश कहते हैं, "नॉर्थ एमसीडी की स्थिति बहुत खराब है, कई विभागों के कर्मचारियों को बीते 2 महीने से सैलरी नहीं मिली है, हम चाहते हैं कि दिल्ली सरकार फौरन हमारे 4000 करोड़ के बकाया राशि को जारी करे. इसके लिए हमने केजरीवाल जी से फौरन ही मिलने के लिए वक्त मांगा है."

हालांकि दिल्ली नगर निगम में विपक्ष के नेता और आम आदमी पार्टी के पार्षद सुरजीत पवार इस मामले में दिल्ली सरकार का बचाव करते हुए नजर आए.

सुरजीत ने कहा, "बीजेपी नेताओं को कम से कम अब तो यह समझ आ जाना चाहिए कि दिल्ली की जनता ने उन्हें नकार दिया है. दिल्ली की जनता ने बीजेपी के नगर निगम के मॉडल और दिल्ली सरकार के मॉडल के बीच में सरकार के मॉडल को चुन लिया है, ऐसे में अब झगड़ा करने के बजाए दिल्ली सरकार के साथ मिलकर सहयोग करके नगर निगम चले बेहतर रहेगा."

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें