scorecardresearch
 

ऑपरेशन मॉनसूनः उफनती धारा पार कर नक्सलियों को घेर रहे जवान, देखें वीडियो

बारिश के मौसम में उफनती नदियों, नालों की धारा पार कर डिस्ट्रिक्ट रिजर्व गार्ड (डीआरजी) के जवान नक्सलियों को उनके ही गढ़ में घेरने की कोशिश कर रहे हैं.

धारा पार करता जवान (फोटोः ANI) धारा पार करता जवान (फोटोः ANI)

धान का कटोरा कहे जाने वाले छत्तीसगढ़ में अंदर तक पैर जमा चुके नक्सलियों को उखाड़ने के लिए सुरक्षाबलों ने कमर कस ली है. बारिश के मौसम में उफनती नदियों, नालों की धारा पार कर डिस्ट्रिक्ट रिजर्व गार्ड (डीआरजी) के जवान नक्सलियों को उनके ही गढ़ में घेरने की कोशिश कर रहे हैं.

समाचार एजेंसी एएनआई ने शनिवार को एक वीडियो जारी किया. प्रदेश के नक्सल प्रभावित सुकमा जिले के इस वीडियो में रस्सी के सहारे उफनती धारा पार करते डीआरजी के जवान नजर आ रहे हैं. गौरतलब है बारिश के मौसम में नदी-नाले उफान पर होते हैं. जंगल में विजिबिलिटी तो कम रहती ही है. जहरीले जीव-जंतुओं का भी खतरा अधिक रहता है.

इन सभी परेशानियों को देखते हुए बरसात के दिनों में नक्सल विरोधी अभियान रोक दिया जाता था. लेकिन पिछले साल से ही मॉनसून के दिनों में भी नक्सल विरोधी अभियान चलाया जा रहा है. पिछले साल रायपुर में पूर्व गृह मंत्री राजनाथ सिंह ने नक्सल विरोधी अभियान को लेकर बैठक की थी, जिसमें प्रदेश के तत्कालीन मुख्यमंत्री डॉक्टर रमन सिंह और अन्य वरिष्ठ अधिकारी मौजूद थे.

राजनाथ सिंह ने बैठक के बाद मॉनसून के समय नक्सलियों के खिलाफ अभियान ठप नहीं करने और इसे जारी रखने की घोषणा की थी. इसके बाद ही बारिश के मौसम में नक्सलियों के खिलाफ ऑपरेशन मॉनसून की शुरुआत हुई थी.

बता दें कि छत्तीसगढ़ के दंतेवाड़ा, बस्तर, सुकमा आदि जिलों में नक्सलियों का अधिक प्रभाव माना जाता है. नक्सलियों के सफाए के लिए डॉक्टर रमन सिंह ने मुख्यमंत्री रहते सलवा जुडूम शुरू किया था. बाद में कोर्ट ने इस पर रोक लगा दी थी.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें