scorecardresearch
 

'आवारा कुत्तों का कहर...' घर से बिस्किट लेने निकली थी मासूम एंजल, कुत्तों ने नोच-नोच कर मार डाला

मां के सामने ही आवारा कुत्तों ने तीन साल की मासूम को बुरी तरह नोच डाला. खून से लथपथ बच्ची को अस्पताल लेके पहुंचे लेकिन तब तक बच्ची की जान जा चुकी थी. मासूम को कुत्तों ने गले और पेट पर बुरी तरह काटा और नोचा था. मां घरोंं में चौका बर्तन का काम करती है. पिता ड्राइवर है.

X
कुत्तों के हमले में मारी गई बच्ची एंजल. (फाइल फोटो)
कुत्तों के हमले में मारी गई बच्ची एंजल. (फाइल फोटो)

बिहार के मुजफ्फरपुर में आवारा कुत्तों ने तीन साल की मासूम की जान ले ली. बच्ची अपने घर से दुकान पर बिस्किट लेने के लिए निकली थी. रास्ते में बच्ची को आवारा कुत्तों ने नोच डाला. बुरी तरह जख्मी बच्ची की इलाज के दौरान मौत हो गई. बेटी के गम में मां-बाप का रो-रोकर बुरा हाल है. बच्ची अपने माता-पिता की एकलौती संतान थी. इस घटना में बच्ची की मां को भी कुत्तों ने काटा है.

दिलदहला देने वाली यह घटना मुजफ्फरपुर के मिठनपुरा थाना क्षेत्र की है. यहां के शिवशंकर पथ पर रितु नाम की महिला अपनी तीन साल की बेटी एंजल के साथ रहती थी. शनिवार शाम को एंजल ने अपनी मां से बिस्किट की मांग की. रितु ने बिस्किट लाने के लिए 5 रुपये एंजल को दे दिए. एंजल रुपये लेकर बिस्किट लेने के लिए घर के पास मौजूद दुकान पर जाने लगी. एंजल की पीछे-पीछे उसकी मां रितु भी चल दी.

घर से निकलते ही गली में मौजूद आवारा कुत्तों ने अचानक से एंजल पर हमला कर दिया. कुत्ते मासूम बच्ची को अपने पंजों और नुकीले दांतों से नोचने लगे. सब कुछ इतना जल्दी हुआ कि देखते ही देखते मासूम एंजल के गले और पेट पर कुत्तों के काटे और नोचे जाने से गहरे घाव हो गए. रितु अपनी बेटी को कुत्तों से बचाने के लिए दौड़ी. इस दौरान कुत्तों ने रितु को भी काट लिया. तभी वहां से गुजर रहे कुछ मजदूरों ने मां-बेटी को कुत्तों से बचाया.

बेटी की मौत से सदमे में पिता आनंद महतो और मां रितु

 

नहीं बच सकी एंजल

खून से लथपथ एंजल को मां रितु गोद में लेकर अस्पताल की ओर भागी. एंजल को पहले जूरनछपरा के एक निजी अस्पताल ले जाया गया. बच्ची की गंभीर हालत देख अस्पताल ने उसे एसकेएमसीएच ( SKMCH) रेफर कर दिया. जिसके बाद घायल बच्ची को SKMCH ले जाया गया लेकिन तब तक बहुत देर हो गई और खूंखार कुत्तों के नोचे जाने के कारण एंजल की मौत हो गई.

अपनी बेटी की मौत की खबर लगते ही पिता आनंद महतो कोलकाता से मुजफ्फरपुर पहुंचे. पता चला कि आनंद महतो का परिवार मूल रूप से सकरा थाना के बाजितपुर सुंदरपुर गांव का निवासी है.

मां-बाप की एकलौती संतान थी एंजल

पिता आनंद महतो  ने बताया, एंजल हमारी एकलौती संतान थी. उसी की पढ़ाई की खातिर पत्नी रितु शहर में रह रही थी. मैं ड्राइवरी का काम करता हूं और रितु घरों में चौका-बर्तन का काम करती है. हम दोनों अपनी बेटी को पढ़ा लिखाकर अफसर बनाने के लिए मेहनत कर रहे थे. लेकिन अब सब कुछ खत्म हो गया. हम दोनों का सपना टूट गया.

यह बोले अधिकारी

आवारा कुत्तों के हमले में मासूम की मौत पर नगर आयुक्त आशुतोष द्विवेदी ने कहा कि संज्ञान में आया है कुत्ते के काटने से एक मासूम का देहांत हो गया है. यह घटना काफी दुखद है. निगम डॉग कैचर खरीदने की प्रक्रिया करने जा रहा है. इसके अलावा वन विभाग के साथ मिलकर आवारा पशु और आवारा कुत्तों के कारण जो समस्याएं हो रही हैं, उनसे निजात पाने के लिए बहुत जल्द कदम उठाए जा रहे हैं.

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें