scorecardresearch
 

सहरसा: घरों में घुसा कोसी नदी का पानी, नेताओं पर गुस्साए बाढ़ प्रभावित लोग

गांव में लोगों की नाराजगी, खासकर महिलाओं की शिकायत इस बात को लेकर थी कि उनका गांव पानी में डूबा हुआ है मगर अब तक कोई भी सरकार का नुमाइंदा या फिर जनप्रतिनिधि उनके पास मदद लेकर नहीं पहुंचा है.

बिहार में बाढ़ के पानी में डूबे कई इलाके (फोटो: PTI) बिहार में बाढ़ के पानी में डूबे कई इलाके (फोटो: PTI)

  • आजतक की टीम ने किया सहरसा के झिटकी गांव का दौरा
  • गांव में लोगों ने जनप्रतिनिधियों के खिलाफ जतायी नाराजगी

बिहार में कोसी नदी ने किस प्रकार से तांडव मचाया है इसका जायजा लेने के लिए आजतक की टीम मंगलवार को सहरसा जिले के महिषी प्रखंड में स्थित झिटकी गांव पहुंची. इस गांव की हालत इतनी खराब है कि गांव के लगभग सभी घरों में पानी भरा है और यहां तक पहुंचने के लिए नाव का सहारा लेना पड़ता है.

इस गांव में लोगों की नाराजगी, खासकर महिलाओं की शिकायत इस बात को लेकर थी कि उनका गांव पानी में डूबा हुआ है मगर अब तक कोई भी सरकार का नुमाइंदा या फिर जनप्रतिनिधि उनके पास मदद लेकर नहीं पहुंचा है. इस गांव में हालात इतने बुरे हैं कि घर के अंदर पानी भरा हुआ है और लोगों को घर के अंदर ही चचरी का पुल बनाकर नल तक जाना पड़ता है ताकि पीने का साफ पानी मिल सके.

यह भी पढ़ें: समस्तीपुर में बागमती का कहर, कई घर डूबे, कई जगहों पर सड़क संपर्क टूटा

झिटकी गांव की एक बाढ़ प्रभावित महिला ने कहा, "एक महीने से हमारे घर में पानी घुसा हुआ है और हमारे बच्चों को खाने के लिए भी कुछ नहीं मिल रहा है. सरकार हमारी क्या मदद कर रही है? मजदूरी बंद हो गयी है. अगर हम लोग काम पर जाएंगे नहीं तो अपने बच्चों को क्या खिलाएंगे? हम लोग गरीब लोग हैं और सरकार को हमारी मदद करनी चाहिए थी. चुनाव के समय जनप्रतिनिधि सौ बार हमारे घर पर आते हैं मगर अब कोई भी नहीं आता है".

गांव के एक निवासी सौरभ कुमार ने कहा, "हम लोगों के गांव में बहुत समस्या है मगर कोई भी सुनने के लिए नहीं आता है. हमारे घर में पानी घुसा हुआ है. घर से निकलने में काफी दिक्कत होती है. कई बार हमारे घरों में सांप भी निकल जाता है. रात भर सब अपने आप को सुरक्षित रखने के लिए ऊंची जगह पर रहते हैं".

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें