scorecardresearch
 

'मेंढक तौलने के बराबर है विपक्ष को एक करना', CM नीतीश की मुहिम पर RJD के सीनियर नेता ने ही जताया संदेह

बिहार के सीएम नीतीश कुमार 2024 लोकसभा चुनाव से पहले विपक्ष को एकजुट करना चाहते हैं. लेकिन इस मुहिम पर RJD के सीनियर नेता शिवानंद तिवारी ने संदेह जताया है. शिवानंद तिवारी को अनुभवी नेता के तौर पर जाना जाता है. वो लालू यादव के साथ रहे हैं. साथ ही नीतीश के साथ भी रहे हैं.

X
नीतीश कुमार के विपक्ष एकजुटता प्लान पर शिवानंद तिवारी ने टिप्पणी की नीतीश कुमार के विपक्ष एकजुटता प्लान पर शिवानंद तिवारी ने टिप्पणी की

बिहार के सीएम नीतीश कुमार विपक्ष को एकजुट करने की कोशिशों में लगे हुए हैं. लेकिन नीतीश इसमें सफल होंगे या नहीं इसपर उनकी सहयोगी पार्टी RJD से ही सवाल उठने लगे हैं. RJD के सीनियर नेता शिवानंद तिवारी मानते हैं कि विपक्ष को एक करना इतना आसान नहीं है. वह बोले कि यह मेंढक तौलने के बराबर है.

बिहार की राजनीति में शिवानंद तिवारी को अनुभवी नेता के तौर पर जाना जाता है. वो लालू यादव के साथ रहे हैं. साथ ही नीतीश के साथ भी रहे हैं. समाजवादी आंदोलन से निकले शिवानंद तिवारी के सियासी अनुभव को राजनीतिक गलियारों में लोहा माना जाता है. वो जो कहते हैं, उसे गंभीरता से लिया जाता है.

अब शिवानंद तिवारी को नीतीश कुमार की विपक्ष को एक करने की कवायद पर संदेह है. शिवानंद तिवारी ने राजद की राज्यपरिषद की बैठक में कहा कि बिहार में जो भी सियासी परिवर्तन हुआ है, उससे देश में अच्छा संदेश गया है. उन्होंने कहा कि नीतीश कुमार दिल्ली गए और विपक्षी दलों को एकजुट करने की कवायद शुरू किए हैं. तिवारी ने कहा कि नीतीश कुमार ने एक और बात कही कि हमलोगों का जमाना खत्म हो रहा है. वो नये लोगों को उत्साहित करेंगे ये बहुत ही अच्छी बात है.

विपक्ष को जोड़ने को बताया बहुत कठिन काम

शिवानंद तिवारी ने 2024 के लोकसभा चुनाव को लेकर कहा कि देश की राजनीति को बदलने वाला चुनाव होगा. लेकिन मेरे मन में गंभीर संदेह भी है. उन्होंने कहा कि इतने दिनों से राजनीति को देखते हुए तमाम विपक्षी दलों को एक साथ और एक मोर्चा के अंदर लाना बहुत कठिन काम है. उन्होंने कहा कि अगर मुहावरे का इस्तेमाल करें, तो ये मेंढक तौलने की बराबर है.

तिवारी के बयान के तुरंत बाद JDU के प्रवक्ता नीरज कुमार का भी बयान आ गया. नीरज कुमार ने शिवानंद तिवारी को जवाब देते हुए कहा कि ये कठिन काम जरूर है. लेकिन इसे कठिन परिस्थिति में कठिन कार्य को पूरा किया जाएगा. देश में संवैधानिक संस्था का गलत प्रयोग हो रहा है. पूरी व्यवस्था पर संकट है. इस चुनौती को स्वीकार कर विपक्षी पार्टियों को एकजुट करना है.

वहीं बीजेपी प्रवक्ता निखिल आनंद ने कहा कि JDU और BJP के बीच शह मात का खेल चल रहा है. शिवानंद तिवारी लालू के मूड को भांपकर कोई बात कहते हैं. शिवानंद तिवारी के मेंढक तौलने वाली बात पर लालू जी मंद-मंद मुस्कुराते रहे, इसलिए इसके निहितार्थ समझ लीजिए.

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें