scorecardresearch
 

बिहार: JDU नेता ने पीएम की तारीफ में लिखी Facebook पोस्ट, मोदी-नीतीश में देखी राजनीतिक समानताएं

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी आज एक दिवसीय दौरे पर बिहार आ रहे हैं. वह शाम करीब 5:15 बजे पटना पहुंचेंगे. इसके बाद वह बिहार विधानसभा शताब्दी समापन समारोह में शामिल होने के लिए विधानसभा जाएंगे. प्रधानमंत्री शाम 7 बजे वापस दिल्ली लौट जाएंगे. 

X
बिहार विधानसभा शताब्दी समापन समारोह में शामिल होंगे पीएम मोदी (फाइल फोटो)
बिहार विधानसभा शताब्दी समापन समारोह में शामिल होंगे पीएम मोदी (फाइल फोटो)
स्टोरी हाइलाइट्स
  • जदयू संसदीय बोर्ड के अध्यक्ष उपेंद्र कुशवाहा ने लिखा
  • भ्रष्टाचार पर जीरो टॉलरेंस नीति को लेकर की तारीफ

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी आज पटना आ रहे हैं. वह बिहार विधानसभा शताब्दी समापन समारोह में शामिल होंगे, लेकिन उनके आने से पहले ही जदयू के एक नेता ने उनकी तारीफों के पुल बांध दिए. अपनी बातों में उन्होंने नीतीश कुमार को भी सराहा. ये नेता जदयू संसदीय बोर्ड के अध्यक्ष उपेंद्र कुशवाहा हैं.

उन्होंने अपनी फेसबुक पोस्ट में लिखा कि प्रधानमंत्री के पटना दौरे को लेकर एक विशेष अनुभूति का अहसास हो रहा है और वह है बिहार और देश के वर्तमान मुखिया में एक खास किस्म की समानता का. 

उन्होंने लिखा कि मैंने अपने राजनीतिक जीवन की शुरुआत उस नेता के सानिध्य में की, जिनके निधन के समय उनका बैंक एकाउंट खाली था. संपत्ति के नाम पर गांव में एक झोपड़ी, वह भी पैतृक. आप ठीक समझ रहे हैं. वह जननायक कर्पूरी ठाकुर ही थे. उनकी मृत्यु के बाद कबीर का यह दोहा फिर से जीवंत हो उठा- जस की तस धर दीनी चदरिया. 

उपेंद्र कुशवाहा ने आगे लिखा कि बाद के दिनों में मुझे अपने राजनीतिक सफर का ज्यादातर हिस्सा नीतीश कुमार और एक छोटा हिस्सा (संसदीय जीवन का एक कार्यकाल) नरेंद्र मोदी के सानिध्य में रहकर पूरा करने का सौभाग्य मिला. 

काजल की कोठरी में रहकर नीतीश बेदाग रहे

जदयू संसदीय बोर्ड के अध्यक्ष ने दोनों नेताओं (नरेंद्र मोदी और नीतीश कुमार) की समानता का जिक्र करते हुए लिखा,'सत्तासीन होने के बाद नीतीशजी को कई तरह की चुनौतियों का सामना करना पड़ा था, जिनमें से एक बड़ी चुनौती थी-काजल की कोठरी में रहकर अपने को बेदाग बचा लेना. ऐसा करने में वह पूरी तरह से सफल रहे.

उन्होंने कहा कि आज मुझे यह सोच कर गर्व होता है कि मुझे उस नेता के नेतृत्व में राजनीति करने का सौभाग्य मिला है, जिसने भ्रष्टाचार को लेकर न सिर्फ जीरो टॉलरेंस की बात की, बल्कि कई बार अपने-पराये का ख्याल किए बिना कठोरतम एक्शन लेने से भी परहेज नहीं किया.

विशेष राज्य का दर्ज देने की उम्मीद जताई

उपेंद्र कुशवाहा ने आगे लिखा,''प्रधानमंत्रीजी और मुख्यमंत्रीजी की पार्टी में स्पष्ट तौर पर वैचारिक विभिन्नताएं हैं और स्वाभाविक रूप से रहेंगी. नरेंद्र मोदीजी की मंत्री परिषद के सदस्य के रूप में काम करते हुए मैंने वहां खुद भी अनुभव किया कि उनकी आलोचना अलग कारणों से भले की जा सकती हो लेकिन भ्रष्टाचार रूपी काजल के पास उतनी स्याही नहीं कि अपनी छीटें उनके दामन तक पहुंचा सके.

उन्होंने लिखा कि तमाम तरह के झंझावातों के बावजूद शायद यही या कुछ ऐसी समानताएं ही दोनों नेताओं के साथ चलने का आधार भी बनाती हैं. यह हमारे लिए विचारणीय है कि "जीरो टॉलरेंस की नीति" को सफल बनाने में क्या हम सभी का कोई व्यक्तिगत दायित्व नहीं है? अगर है तो अपने नेताओं के संदेश को स्पष्ट रूप ग्रहण करना ही पड़ेगा."

उपेंद्र कुशवाहा ने अपनी फेसबुक पोस्ट में लिखा कि पीएम नरेंद्र मोदी बिहार को कुछ विशेष (राज्य का दर्जा) जरूर देने की कृपा करेंगे. 

RJD ने एक दिन पहले की थी विशेष दर्जे की मांग

पीएम नरेंद्र मोदी के बिहार दौरे से पहले आरजेडी ने बिहार को विशेष राज्य दर्जा दिए जाने की मांग उठाई है. आरजेडी ने कहा कि बिहार को विशेष राज्य का दर्जा दिए जाने की हमारी पुरानी मांग है. प्रधानमंत्री बिहार विधानसभा शताब्दी समापन समारोह में शामिल होने के लिए आ रहे हैं, लेकिन सभी की नजरें इस बात पर टिकी हैं कि क्या बिहार को विशेष राज्य का दर्जा देने की घोषणा होगी?

बिहार को विशेष राज्य का दर्जा दिए जाने का प्रस्ताव बिहार विधानमंडल के दोनों सदनों से पहले ही पारित हो चुका है, कल प्रधानमंत्री के लिए अच्छा मौका है कि वह बिहार को विशेष राज्य का दर्जा दिए जाने की घोषणा करें.

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें