scorecardresearch
 

BIHAR: बगहा में आदमखोर बाघ की दहशत, 3 लोगों को बना चुका है अपना शिकार

बिहार के वाल्मीकि नगर टाइगर रिजर्व के पास के गांवों में इन दिनों आदमखोर बाघ का खौफ है. बाघ के हमले में तीन लोगों की जान जा चुकी है. ऐसे में वन विभाग बाघ को पकड़ने में जुट गया है.

X
आदमखोर बाघ की दहशत में ग्रामीण
आदमखोर बाघ की दहशत में ग्रामीण
स्टोरी हाइलाइट्स
  • वन विभाग लोगों से सावधानी बरतने की कर रही है अपील
  • पल-पल में मूवमेंट बदलकर चौंका रहा है खूनी बाघ

बिहार के वाल्मीकि नगर टाइगर रिजर्व के पास के गांवों में इन दिनों आदमखोर बाघ का खौफ है. बाघ के डर से आसपास के इलाके के लोग खेतों में जाने से बच रहे हैं. वन विभाग बाघ की तलाश में जुट गया है. पिछले कुछ दिनों में बाघ चार लोगों पर अटैक कर चुका है. इनमें तीन लोगों की जान चली गई.

हाल ही में बाघ ने एक व्यक्ति को अपना शिकार बनाया था. मृतक की पहचान बैरिया कला गांव निवासी धर्मराज काजी के रूप में हुई थी. इससे पहले 20 मई को बाघ ने स्थानीय निवासी अविनाश पर हमला किया था, जिसमें वह जख्मी हो गए.14 मई को जिमरी नौतनवा निवासी राजकुमार (13) और 20 मई को पुरैना कटहा गांव की पार्वती देवी की बाघ के हमले में मौत हुई थी. रविवार देर रात बाघ का मूवमेंट देखा गया. ऐसे में वन विभाग पूरी तरह अलर्ट है. 

ग्रामीण बताते हैं कि बाघ काफी खतरनाक है. पहले भी लोगों पर हमला कर चुका है. काफी शांत तरीके से वह पीछे से हमला करता है. खासकर छोटे जानवरों पर पलक झपकते ही हमला कर देता है. वन विभाग को इसकी जानकारी दी गई है, लेकिन अभी तक उसके बारे में कुछ पता नहीं चल पाया है.

वन विभाग के रेंजर आरपी श्रीवास्तव ने बाघ के हमले में तीन लोगों की मौत की पुष्टि की है. उनका कहना है कि वन विभाग की टीम की गश्त जारी है. लोगों को जागरूक भी किया जा रहा है. उन्हें अपने सिर के पीछे विशेष प्रकार के प्रतीक चिह्न बांधकर चलने को कहा गया है. बाघ की एक्टिविटी पर नजर है. ट्रैपिंग कैमरा लगाया गया है. बाघ के फुटमार्क पर खास नजर है.

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें