scorecardresearch
 

चिराग पासवान का नीतीश कुमार पर अटैक, बोले- अपने मॉडल पर अकेले चुनाव लड़के दिखाएं CM

चिराग पासवान ने प्रेस कॉन्फ्रेंस कर बिहार सीएम नीतीश कुमार पर गंभीर आरोप लगाए हैं. चिराग ने कहा है कि सत्ता के नीतीश कुमार जंगलराज भूल जाते हैं, नीतीश कुमार की पार्टी टूटी तो चिराग मॉडल की बात कर रहे हैं. नीतीश ने मेरी पार्टी को तोड़ा और आज अपनी पार्टी टूट रही है तो उन्हें तकलीफ हो रही है.

X
चिराग पासवान ( फाइल फोटो ) चिराग पासवान ( फाइल फोटो )

लोक जनशक्ति पार्टी के नेता और सांसद चिराग पासवान ने बिहार सीएम नीतीश कुमार पर तंज कसा है. चिराग ने नीतीश कुमार पर उनकी पार्टी को तोड़ने का आरोप लगाया. साथ ही कहा कि नीतीश कुमार को पीएम मोदी का डर है जिस वजह से वो नीति आयोग की बैठक में शामिल नहीं हुए. इसके पहले चिराग ने ट्वीट करते हुए जेडीयू राष्ट्रीय अध्यक्ष के बयान पर पलटवार किया था.

चिराग ने कहा कि सत्ता के लिए नीतीश कुमार जंगलराज भूल जाते हैं. नीतीश कुमार की पार्टी टूटी तो चिराग मॉडल की बात कर रहे हैं. नीतीश ने मेरी पार्टी को तोड़ा और आज जब अपनी पार्टी टूट रही है तो उन्हें तकलीफ हो रही है. नीतीश क्या चाहते हैं इतिहास उनको सत्ता का लोभी और पलटू राम के तौर पर याद रखे.

बिहार सीएम के नीति आयोग की बैठक में शामिल ना होने पर चिराग पासवान से सवाल दागते हुए कहा कि नीति आयोग की बैठक में नीतीश कुमार क्यों नहीं गए ? ममता बनर्जी और अरविंद केजरीवाल नीति आयोग की बैठक में शामिल हुए. लेकिन मोदी के डर से नीतीश कुमार नीति आयोग की बैठक में नहीं गए. मोदी का विरोध करते-करते नीतीश कुमार बिहार की जनता का विरोध करने लगे हैं. नीतीश सत्ता के लोभी हैं. नीतीश कुमार नीतीश मॉडल की बात करते हैं अगर इतना भरोसा है तो अपने मॉडल पर तो अकेले चुनाव लड़ के दिखाएं. 

इसके पहले जेडीयू राष्ट्रीय अध्यक्ष ललन सिंह के बयान पर चिराग पासवान ने ट्वीट के जरिए कहा था ''मैं सकारात्मक राजनीति करता हूं. किसी का कोई मॉडल नहीं हूं. दूसरे का घर तोड़ने वाले के घर में ही आज फूट हो गई है. बेहतर होगा कि वे कारणों को बाहर चौराहे पर ना तलाशें. उन्होंने कहा कि 2024 में हार का डर ऐसा घुस गया है कि मामा कंस की तरह मां देवकी के हर पुत्र को मार देना चाहते हैं. पहले मुझ पर हमला और अब RCP सिंह पर. इस बार पाला बदलना भी काम नहीं आएगा.''

चिराग पासवान ने एक और ट्वीट में कहा था ''ये तीन योद्धा जो बैठे थे. इनका ट्रैक रिकॉर्ड देखने के लिए ज्यादा पीछे जाने की जरूरत नहीं है. आसानी से पता चल जाएगा कि नीतीश कुमार को दरअसल डरना किससे चाहिए.''

आरसीपी सिंह के जेडीयू से इस्तीफा देने के बाद से बिहार की राजनीति में हलचल मची हुई है. आरसीपी सिंह ने जेडीयू को डूबता जहाज बताते हुए इस्तीफा दिया था. वे जेडीयू से मोदी कैबिनेट में एक मात्र मंत्री थे. आरसीपी सिंह ने अपने इस्तीफे में लिखा था- इस पार्टी में कुछ नहीं बचा है. वो (JDU) डूबता हुआ जहाज है. हमसे चिढ़ है, तो हमसे निपटो, हमारे पास विकल्प खुले हुए हैं. वर्तमान समय में मुझ पर अकूत संपत्ति अर्जित करने का आरोप लगाया गया. ये उनकी छवि को बदनाम करने की कोशिश थी.

 

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें