scorecardresearch
 

बिहार बोर्ड 10वीं और 12वीं के रिजल्ट घोषित करने के पहले उठा रहा ये कदम

फिजिकल वेरीफिकेशन के जरिए एक्सपर्ट कमेटी सुनिश्चित करती है कि जिस किसी अभ्यर्थी ने परीक्षा में टॉप किया है, वह सही है और उसके बदले किसी और ने परीक्षा तो नहीं दी थी. अगर कोई परीक्षार्थी फिजिकल वेरिफिकेशन के लिए नहीं पहुंचते हैं, तो फिर बिहार बोर्ड उसके रिजल्ट को रोक देता है.

सांकेतिक तस्वीर (Courtesy- PTI) सांकेतिक तस्वीर (Courtesy- PTI)

  • टॉपर्स की कॉपियों की दोबारा की जा रही जांच
  • टॉपर्स का किया जा रहा फिजिकल वेरीफिकेशन

बिहार में साल 2016 में हुए टॉपर्स घोटाला और साल 2017 में फर्जी आर्ट्स टॉपर विवाद के बाद बिहार विद्यालय परीक्षा समिति कॉपी जांचने से लेकर टॉपर की घोषणा तक कई सारे सतर्कता भरे कदम उठाती आ रही है. इस बार इतनी सतर्कता इसलिए बरती जा रही है कि कहीं किसी भी प्रकार का विवाद फिर से न खड़ा हो जाए.

बताया जा रहा है कि मैट्रिक की परीक्षा हो या फिर इंटरमीडिएट की, एक बार कॉपी की जांच करने के बाद इन परीक्षाओं में जो भी टॉप 10 अभ्यर्थी हैं, उनकी कॉपी की दोबारा जांच की जा रही है. इसके बाद बेहद ही गोपनीय तरीके से फिजिकल वेरिफिकेशन बिहार विद्यालय परीक्षा समिति द्वारा बनाई गई एक्सपर्ट कमेटी द्वारा किया जाता है.

फिजिकल वेरीफिकेशन के जरिए एक्सपर्ट कमेटी सुनिश्चित करती है कि जिस किसी अभ्यर्थी ने परीक्षा में टॉप किया है, वह सही है और उसके बदले किसी और ने परीक्षा तो नहीं दी थी. अगर कोई परीक्षार्थी फिजिकल वेरिफिकेशन के लिए नहीं पहुंचते हैं, तो फिर बिहार बोर्ड उसके रिजल्ट को रोक देता है.

इसे भी पढ़ेंः बिहार बोर्ड 10th रिजल्ट का इंतजार खत्म! यूं चुटकियों में चेक करें नतीजे

एक्सपर्ट कमेटी के द्वारा टॉप 10 परीक्षार्थियों के विषय ज्ञान के बारे में जानकारी ली जाती है और उसके साथ ही शैक्षणिक पृष्ठभूमि की भी जानकारी प्राप्त की जाती है. एक्सपर्ट कमेटी यह सुनिश्चित करने की कोशिश करती है कि जो भी परीक्षार्थी टॉप किया है, वो वास्तव में टॉप करने के योग्य है या नहीं?

कोरोना पर फुल कवरेज के लि‍ए यहां क्ल‍िक करें

बिहार बोर्ड इन सब प्रक्रिया से गुजरने के बाद ही मैट्रिक या फिर इंटर के परीक्षा के नतीजों की घोषणा करता है. जाहिर है कि साल 2016 और साल 2017 में हुए विवादों को लेकर बिहार बोर्ड की काफी फजीहत हुई थी और इसीलिए बिहार बोर्ड उसके बाद से ही पूरी सतर्कता बरतते हुए पेपर की जांच से लेकर रिजल्ट घोषित करने तक फूंक-फूंककर कदम रखता है.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें