scorecardresearch
 

उदयपुर और नुपूर शर्मा को लेकर बिहार में बजरंग दल कार्यकर्ता को मिली धमकी, पुलिस जांच में हुआ ये खुलासा

आरोपी की ओर से भेजे गए मैसेज में बजरंग दल के कार्यकर्ता आर्य राजपूत को चार दिनों के अंदर मार डालने की धमकी दी गई थी. धमकी भरे मैसेज में आरोपी ने उदयपुर में कन्हैयालाल की निर्मम हत्या का जिक्र भी किया था.

X
पुलिस ने धमकी देने वाले आरोपी को अरेस्ट कर लिया है. -सांकेतिक तस्वीर.
पुलिस ने धमकी देने वाले आरोपी को अरेस्ट कर लिया है. -सांकेतिक तस्वीर.
स्टोरी हाइलाइट्स
  • आईपीसी और आईटी एक्ट के तहत मामला दर्ज
  • 1 जून को आरोपी ने भेजा था धमकी भरा मैसेज
  • आरोपी ने चार दिन में हत्या की दी थी धमकी

उदयपुर हत्याकांड और नूपुर शर्मा मामले को लेकर बिहार में बजरंग दल के एक कार्यकर्ता को धमकी मिली है. पुलिस ने मामले में आरोपी को गिरफ्तार कर लिया है. बताया जा रहा है कि आरोपी ने बजरंग दल के कार्यकर्ता को वॉट्सएप पर धमकी भरा मैसेज भेजा था. मैसेज में राजस्थान में हाल ही में हुए कन्हैयालाल हत्याकांड का भी जिक्र किया गया था. 

शिकायतकर्ता सन्नी कुमार सिंह उर्फ ​​आर्य राजपूत रोहतास जिले के सोन कस्बे के डेहरी का रहने वाला है और बजरंग दल का स्थानीय कार्यकर्ता है. एक अनजान नंबर से वॉट्सएप पर धमकी भरा मैसेज मिलने के बाद उसने एक जुलाई को पुलिस में शिकायत दर्ज कराई थी.

जांच पड़ताल में हुआ ये खुलासा

रोहतास के एसपी आशीष भारती ने कहा कि जांच के दौरान पता चला कि जिस नंबर से बजरंग दल के कार्यकर्ता को धमकी भरा मैसेज भेजा गया था, वह नंबर इंटरनेट जेनरेटेड था. उन्होंने बताया कि पुलिस जांच पड़ताल में जुटी थी. इस दौरान जांच की आंच डिहरी ऑन सोन जिले के दरीहाट थाना क्षेत्र के धरहरा गांव के रहने वाले प्रतीक शर्मा तक पहुंची.

एसपी आशीष भारती ने कहा कि आरोपी प्रतीक शर्मा ने पूछताछ के दौरान कबूल किया कि वह आर्य राजपूत को जानता था और उसी ने आर्य को वॉट्सएप मैसेज भेजा था. प्रतीक ने बताया कि उसने शरारत करते हुए ये वॉट्सएप मैसेज भेजा था. बता दें कि प्रतीक की ओर से भेजे गए मैसेज में उदयपुर हत्याकांड की याद दिलाते हुए आर्य राजपूत को चार दिनों के अंदर मार डालने की धमकी दी गई थी. 

रोहतास के एसपी ने बताया कि मामले को सुलझाने वाली टीम को इनाम दिया जाएगा. साथ ही आरोपी प्रतीक शर्मा के खिलाफ आईपीसी और आईटी एक्ट की संबंधित धाराओं के तहत मामला दर्ज कर आगे की कार्रवाई की जाएगी. बता दें कि 28 जून को उदयपुर में नूपुर शर्मा का समर्थन करने पर कन्हैयालाल की निर्मम तरीके से हत्या कर दी गई थी. नूपुर शर्मा ने पैगंबर मोहम्मद को लेकर विवादित टिप्पणी की थी.

ये भी पढ़ें

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें