scorecardresearch
 

टॉपडॉग बनाम अंडरडॉग

लंदन में उस एक घंटे के दौरान जैसे आसमान में दो ग्रह बराबरी पर अड़ गए थे. कोई भी पीछे हटने को तैयार नहीं. वर्ना ऐसा कैसे हो सकता है कि उसी घंटे भर में खेल की दो चैंपियनशिप में एक-सा फैसला! 

फोटो सौजन्यः बिजनेस टुडे फोटो सौजन्यः बिजनेस टुडे

कहने को दो दिन हो गए पर वह लम्हा आंखों से उतरता नहीं. लॉर्ड्स पर हार के बाद केन विलियमसन का मासूम उदास चेहरा बार-बार याद आता है. न्यूजीलैंड के एक स्तंभकार ने ठीक ही लिखा कि क्रिकेट विश्व कप-2019 के फाइनल में 22 खिलाड़ी जीते, हारा कोई नहीं. कई उलटे-सीधे फैसले देने वाले फाइनल के मैदानी अंपायरों पर भी उंगलियां उठ रही हैं. खुद प्रतिष्ठित अंपायर रहे साइमन टाउफेल ने भी एक फैसले पर उंगली उठाकर इशारा कर दिया है कि क्रिकेट के इस सबसे रोमांचक फाइनल मुकाबले पर बहस लंबी चलेगी.

पर लगता है, लंदन में उस एक घंटे के दौरान जैसे आसमान में दो ग्रह बराबरी पर अड़ गए थे. कोई भी पीछे हटने को तैयार नहीं. वर्ना ऐसा कैसे हो सकता है कि उसी घंटे भर में खेल की दो चैंपियनशिप में एक-सा फैसला! 

लॉर्ड्स पर न्यूजीलैंड 50 ओवर में 241, और जवाब में लीजिए इंग्लैंड के भी 241, फिर सुपर ओवर में 15, दूसरे के भी 15. विंबलडन चैंपियनशिप के लिए चंद मील दूरी पर सेंटर कोर्ट में स्कोर: दो सेट नोवाक जोकोविच (सर्बिया) और दो सेट रोजर फेडरर (स्विट्जरलैंड). पांचवां निर्णायक सेट: 7-7, 8-8, 9-9, 10-10, 11-11...उफ् ...12-12! पिछले ऐसे इससे भी लंबे चले एक मुकाबले के बाद टेनिस में नियम ही बदल दिए गए कि नहीं, अब मुकाबला 12-12 तक भी बराबर रहने पर टाइब्रेकर होगा. 

आखिरकार इतिहास के सबसे लंबे चले (4.57 घंटे) विंबलडन फाइनल में जोकोविच यानी जग्गू ने इतिहास पुरुष फेडरर को अंगूठे भर की बढ़त से हरा दिया.

पर बेचारे विलियनसन पर नियम ही भारी पड़े. एक दिन पहले तक इंग्लैंड के कुछ नकचढ़े पत्रकार उनको जैसे अपमानित करते हुए पूछ रहे थे कि अंडरडॉग के रूप में फाइनल में पहुंचकर कैसा लग रहा है? चढक़र खेलते आने और फाइनल में झंडा गाडऩे के बावजूद अंडरडॉग! तेरी तो. 

लेकिन विलियमसन ने न तो उस वक्त सब्र खोया और न ही दो-दो टाइ के बाद हारने पर. यह सचमुच दिलचस्प है कि दुनिया भर के क्रिकेटप्रेमी विश्वविजेता इंग्लैंड के दमखम की बजाय न्यूजीलैंड के साहस और उसके धैर्य की तारीफ कर रहे हैं.

पर जीत-हार से थोड़ा हटकर अगर देख सकें तो पाएंगे कि इस विश्व कप ने गेंदबाजों की अस्मिता को बहाल कर दिया. हैरत की बात है कि टूर्नामेंट शुरू होने से पहले कई विशेषज्ञों ने भी रनों का पहाड़ खड़ा होने का दावा किया था. पर रनों का नजारा देखिए. विश्व कप में कुल 44 मैच खेले गए और चार रद्द हुए. 44 मैचों की 88 में से 35 पारियों का स्कोर 200 से 250 रनों के बीच रहा. पांच मैचों में ऐसा हुआ कि 250 से कम का स्कोर देने वाली टीम ने जीत हासिल की, जिनमें भारत और न्यूजीलैंड का सेमी फाइनल भी शामिल है. सिर्फ चार पारियों में 350 से ऊपर स्कोर गया, जिनमें से दो बांग्लादेश और एक अफगानिस्तान के खिलाफ था. 

मिशेल स्टार्क, जसप्रीत बुमरा, जोफरा आर्चर जैसे गेंदबाजों ने बताया कि वन डे में भी टेस्ट मैच सरीके अनुशासन के साथ गेंद फेंकी जा सकती है. जोकोविच हों या बुमरा, बेन स्टोन्न्स हों या विलियमसन, इन धुरंधरों ने साबित किया कि सब्र और संयम बड़े काम की चीज है.

(शिवकेश मिश्र इंडिया टुडे के सीनियर असिस्टेंड एडिटर हैं)

***

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें