scorecardresearch
 

अभी नहीं थमेगा रेपो रेट में कटौती का सिलसिला

बैंक ऑफ अमेरिका ने अपने ताजा अनुमान में यह माना है कि आरबीआइ 6 अगस्त को होने वाली समीक्षा में रेपो रेट चौथाई फीसद घटा सकता है. इसके अलावा 0.5 फीसद की कटौती अक्तूबर तक अपेक्षित है.

रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया

अक्तूबर तक भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआइ) नीतिगत दरों में 0.75 प्रतिशत की कटौती कर सकता है. बैंक ऑफ अमेरिका (बोफा) ने अपने ताजा अनुमान में यह माना है कि केंद्रीय बैंक 6 अगस्त को होने वाली समीक्षा में रेपो रेट चौथाई फीसद घटा सकता है. इसके अलावा 0.5 फीसद की कटौती अक्तूबर तक अपेक्षित है. बोफा के अलावा स्विट्जरलैंड की फर्म यूबीएस का भी अनुमान है कि रेपो दर में 0.5 प्रतिशत की कटौती और हो सकती है. रेपो रेट में इस कटौती का कारण खुदरा मुद्रास्फीति के दिसंबर तक गिरकर 2 से 2.5 प्रतिशत पर पहुंचने की संभावना है क्योंकि जीडीपी समेत अर्थव्यवस्था के सभी कारक कमजोर बने हुए हैं.

महंगाई घटने की उम्मीद

बोफा का कहना है कि जून में खुदरा मुद्रास्फीति 6.1 प्रतिशत रही जो बाजार की 5.2 प्रतिशत की उम्मीद से अधिक है. लेकिन यह मई में 6.3 प्रतिशत और अप्रैल में 7.2 प्रतिशत के मुकाबले कम है. जुलाई में इसके 6.4 प्रतिशत रहने की संभावना है. बोफा ने अपनी ताजा रिपोर्ट में कहा, ‘‘हमारा अनुमान है कि मुद्रास्फीति चालू वित्त वर्ष की दूसरी छमाही में घटकर 2.5 प्रतिशत पर आ जाएगी. इसका कारण जीडीपी (सकल घरेलू उत्पाद) में गिरावट, नकदी की कमी, अच्छी बारिश, सीमित आयातित मुद्रास्फीति और राजकोषीय स्थिति के मोर्चे पर सीमित गिरावट जैसे कारक हैं.’’ बोफा के अर्थशास्त्रियों ने मंगलवार को कहा, ‘‘इसीलिए हमारा मानना है कि आरबीआइ 5 अगस्त को रेपो दर में 0.25 प्रतिशत और अक्तूबर में मौद्रिक नीति समीक्षा में 0.5 प्रतिशत की कटौती कर सकता है.’’

वहीं यूबीएस ने रिपोर्ट में कहा कि निकट भविष्य में तेजी के बावजूद हमारा अनुमान है कि उपभोक्ता मूल्य सूचकांक आधारित मुद्रास्फीति दिसंबर में 2 से 2.5 प्रतिशत रह सकती है. इसको देखते हुए हमारा मानना है कि आरबीआइ 2020-21 में नीतिगत दर में 0.5 प्रतिशत की और कटौती कर सकता है जिससे रेपो दर 3.5 प्रतिशत पर आ जाएगी.’’ जून में महंगाई में तेजी का कारण यूबीएस ने आपूर्ति संबंधी बाधाओं के साथ परिवहन लागत में बढ़ोतरी को माना है.

***

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें