scorecardresearch
 

मध्य प्रदेश में लगातार विधायक क्यों खोती जा रही है कांग्रेस

दलबदल से सत्ताधारी भाजपा को सिंधिया खेमे का असर घटाने में और उपचुनाव से अपने विधायकों की संख्या बढ़ाने तथा सरकार को सुरक्षित रखने में मदद मिलेगी.

भाजपा में शामिल होने वाले प्रद्युम्न सिंह लोधी को मिठाई खिलाते शिवराज सिंह चौहान (एएनआइ) भाजपा में शामिल होने वाले प्रद्युम्न सिंह लोधी को मिठाई खिलाते शिवराज सिंह चौहान (एएनआइ)

मध्य प्रदेश में 10 मार्च को कांग्रेस के 22 विधायकों ने पार्टी से इस्तीफा देकर भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) की सदस्यता ले ली और तत्कालीन कमलनाथ सरकार को अल्पमत में लाकर आखिरकार गिरा दिया था. इसके बाद भाजपा सत्ता में आ गई और शिवराज सिंह चौहान ने चौथी बार मुख्यमंत्री पद की शपथ ली. विधायकों के पार्टी छोड़ने से कांग्रेस नेता काफी नाखुश थे लेकिन वे दावा भी कर रहे थे कि इस सबसे पार्टी की सफाई हो गई और अब केवल निष्ठावान कांग्रेस नेता ही पार्टी में हैं.

लेकिन चार महीने बाद अब जो घटनाक्रम है वह इस धारणा से एकदम उलट है. 12 जुलाई को बड़ा मलहरा से कांग्रेस विधायक प्रद्युम्न सिंह लोधी ने इस्तीफा दे दिया. इसके पांच दिन बाद नेपानगर से कांग्रेस विधायक सुमित्रा देवी कसडेकर ने भी इस्तीफा दे दिया और इस तरह मार्च से अब तक पार्टी से इस्तीफा देने वालों की संख्या अब 24 हो गई है.

पार्टी की इस दलबदल की समय रहते भनक न लग पाना चिंता का विषय है. पीसीसी (प्रदेश कांग्रेस कमेटी) के मुखिया कमलनाथ कहते रहे कि पार्टी में कोई असंतोष नहीं है और कोई पार्टी नहीं छोड़ेगा. लेकिन वे बार-बार गलत साबित हो रहे हैं.

लोधी और कसडेकर दोनों ने कांग्रेस और विधानसभा की सदस्यता छोड़ने के तत्काल बाद भाजपा की सदस्यता ले ली. आखिर वह क्या चीज है जो कांग्रेस विधायकों को भाजपा की तरफ खींच रही है? और क्यों भारतीय जनता पार्टी इन बागियों को शामिल कर रही है जबकि भाजपा के भीतर के लोग ही इन पर सवाल उठा रहे हैं. मार्च में कांग्रेस छोड़ने वाले विधायकों के जत्थे में 19 विधायक ज्योतिरादित्य सिंधिया के वफादार थे और उन्होंने अपने नेता का ही अनुसरण किया. बाकी बचे तीन बिसाहूलाल सिंह, ऐदल सिंह कंसाना और हरदीप सिंह डंग सिंधिया के वफादारों में शामिल नहीं थे. ये लोग मूल रूप से कमलनाथ कैबिनेट में स्थान न मिलने से नाराज थे और उन्होंने भाजपा में जाने के लिए बातचीत अपने स्तर पर की थी.

लोधी और कसडेकर का प्रदेश कांग्रेस के किसी भी खेमे से ताल्लुक नहीं है. 2018 के विधानसभा चुनाव में ये लोग कमलनाथ की ओर से प्रत्याशी चुनने के लिए किए गए सर्वे के जरिये पार्टी उम्मीदवार बनाए गए थे. इस लिहाज से कसडेकर और लोधी का कोई गहरा वैचारिक नाता कांग्रेस से नहीं था. ये लोग टिकट बंटवारे के समय पीसीसी को जातीय गणित में मुफीद और जीतने लायक प्रत्याशी लगे थे.

लोधी पहले भाजपा में थे. कुछ अन्य नेता जो कांग्रेस में आए, वे पहले भाजपा में थे और उन्होंने 2018 के चुनाव से ठीक पहले पार्टी छोड़ी थी. तेंदूखेड़ा से विधायक संजय शर्मा ऐसे ही एक नेता हैं.

कुछ पूर्व कांग्रेसी विधायक अब भाजपा विधायक हैं. इनमें प्रमुख हैं-नारायण त्रिपाठी, नागेंद्र सिंह, वीरेंद्र रघुवंशी और संजय पाठक. माना जाता है कि इन्होंने 2018 में सत्ता में वापस आने के बाद अपनी पुरानी पार्टी में वापस जाने पर भी विचार किया था. कुछ कांग्रेस नेता कहते हैं कि पार्टी नेताओं को बांधे रखने में असमर्थ है क्योंकि नेतृत्व का सीधा कनेक्ट इन लोगों से नहीं है. नाम न छापने की शर्त पर एक कांग्रेस नेता बताते हैं, “जो कांग्रेस नेता किसी गुट से जुड़े हुए हैं उनके भाजपा में जाने की संभावना कम है क्योंकि उनका अपने बॉस के साथ लंबा जुड़ाव रहा है. जिनके कांग्रेस छोड़ने की ज्यादा संभावना होती है उनमें- पहली बार के विधायक, पार्टी में नए आए नेता या जिन्होंने वर्षों की राजनीति के दौरान नेताओं से किसी तरह के संबंध या गठजोड़ नहीं बनाए हैं-शामिल हैं.” लेकिन भाजपा का मामला थोड़ा अलग है क्योंकि इसके विधायक पार्टी से विचारधारा के आधार पर जुड़े होते हैं.

एक और वजह कांग्रेस विधायकों के दलबदल की ये है कि उनका भाजपा में लाभदायक पुनर्वास होता है. मार्च में कांग्रेस छोड़ने वाले 22 विधायकों में से 14 आज की तारीख में चौहान मंत्रिमंडल में मत्री बन चुके हैं. लोधी को उसी दिन मध्य प्रदेश स्टेट सिविल सप्लाइज कॉर्पोरेशन का चेयरमैन बनाया गया जिस दिन उन्होंने कांग्रेस छोड़ी. स्वतंत्र विधायक प्रदीप जायसवाल को मध्य प्रदेश राज्य खनिज निगम का चेयरमैन बनाया गया. इस तरह की नियुक्तियों से उन भाजपा नेताओं के कलेजे में भी सांप लोट सकता है जो ये मानते हैं कि उन्होंने पार्टी के लिए पसीना बहाया है और इसका पुरस्कार उन्हें मिलना चाहिए. जबकि दूसरी पार्टी से आए नेता मलाई खा रहे हैं. लेकिन भाजपा को भरोसा है कि उसके यहां अगर कोई बागी होगा तो भी उसे मना लिया जाएगा.

वरिष्ठ पत्रकार और राजनीतिक विश्लेषक गिरिजा शंकर कहते हैं, “केंद्र और राज्य दोनों के ही स्तर पर कांग्रेस कमजोर और अनिर्णय से घिरी दिखती है. बहुत सारे लोग जो कांग्रेस में अपना भविष्य असुरक्षित महसूस करते हैं, वे इसे छोड़कर भाजपा में जा रहे हैं. कांग्रेस को उप चुनाव से पहले कमजोर करने के लिहाज से भी ऐसा हो रहा है.”

भाजपा के एक सूत्र का कहना है कि पूर्व कांग्रेस विधायक, जो सिंधिया के वफादार नहीं हैं, वे भाजपा के भीतर ही सिंधिया खेमे को कमजोर करेंगे. हाल के मंत्रिमंडल विस्तार में सिंधिया खेमे को काफी महत्व दिया गया और उन्हें अच्छे मंत्रालय भई मिले. सूत्र का कहना है, “सिंधिया के वफादारों की संख्या घटाने के साथ ही आगामी उपचुनाव में और ज्यादा सीटें हासिल कर भाजपा राज्य में सत्ता बरकरार रखना चाहती है.” भाजपा के पास अभी 107 विधायक हैं; सरकार बनाए रखने के लिए उसे छह और सीटों की जरूरत है जबकि अभी 26 विधानसभा सीटों पर उपचुनाव होने हैं.

कांग्रेस इस घटनाक्रम को अलग तरीके से देखती है. कांग्रेस प्रवक्ता भूपेंद्र गुप्ता कहते हैं, “संविधान ने लोगों को अपना प्रतिनिधि चुनने का अधिकार दिया है ताकि सरकार बन सके. लेकिन इसमें चुने हुए प्रतिनिधियों को खरीदने या उनके दलबदल की कोई व्यवस्था नहीं है. भाजपा देश की सभी संस्थाओं को नष्ट करने पर तुली हुई है. चाहे आप मध्य प्रदेश, कर्नाटक या राजस्थान का उदाहरण देख लीजिए. जब भी उन्हें बहुमत में कमी होती है वे खरीदने पर भरोसा करते हैं. जो लोग जा रहे हैं वे खुद को विकास का पैरोकार बताते हैं लेकिन सच ये है कि वे दबाव में हैं. मतदाता इसे पसंद नहीं करते और उपचुनाव में वे भाजपा को उचित जवाब देंगे.”

भाजपा का दावा है कि और कांग्रेस विधायक, भाजपा में आने के लिए तैयार बैठे हैं. कसडेकर के भाजपा में आने के मौके पर 17 जुलाई को मुख्यमंत्री चौहान ने कहा, “कांग्रेस एक डूबता जहाज है और इसी वजह से लोग इसे छोड़ रहे हैं.” पिछले हफ्ते कमलनाथ ने लोधी समुदाय से ताल्लुक रखने वाले दो विधायकों से मुलाकात थी. माना जा रहा है कि ये दोनों भाजपा में जा सकते हैं. दोनों ने नाथ को भरोसा दिया है कि ऐसा कुछ नहीं होगा. लेकिन पूर्व के भी ऐसे भरोसे काम नहीं आए थे. क्या ये भरोसा खरा उतरेगा?

***

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें