scorecardresearch
 

यूपी: कोरोना के खि‍लाफ तेज हुई जंग, स्कूल-कॉलेज 30 अप्रैल तक बंद

उत्तर प्रदेश में कोरोना संक्रमण घातक रूप अख्त‍ियार करता जा रहा है. यूपी में रविवार, 11 अप्रैल को 15,353 नए संक्रमित मरीज मिले, जबकि 67 मरीजों की मौत हो गई. नवरात्र और रमजान को ध्यान में रखते हुए योगी सरकार ने नई गाइडलाइन जारी की है.

लखनऊ में इंटीग्रेटेड कंट्रोल रूम का निरीक्षण करते मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ लखनऊ में इंटीग्रेटेड कंट्रोल रूम का निरीक्षण करते मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ
स्टोरी हाइलाइट्स
  • धर्मस्थलों के अंदर एक बार में एक स्थान पर पांच से अधिक श्रद्धालुओं को प्रवेश नहीं दिया जाएगा
  • रेलवे स्टेशन पर आने वाले सभी यात्रियों की स्क्रीनिंग, एंटीजन टेस्ट व जरूरी होने पर आरटीपीसीआर टेस्ट कराने के निर्देश
  • आज मंत्रिमंडल के सदस्यों के साथ बैठक में महत्वपूर्ण निर्णय ले सकते हैं मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ

उत्तर प्रदेश में कोरोना संक्रमण घातक रूप अख्त‍ियार करता जा रहा है. यूपी में रविवार, 11 अप्रैल को 15,353 नए संक्रमित मरीज मिले, जबकि 67 मरीजों की मौत हो गई. राजधानी लखनऊ में 4,444 मरीज मिले जबकि 31 लोगों की जान चली गई. यूपी और राजधानी दोनों में यह नया रिकॉर्ड है. प्रदेश में अब ऐक्टिव मरीजों की संख्या बढ़कर 71,241 हो गई है. कोरोना के बढ़ते संक्रमण के बीच मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ पूरी तरह से ऐक्टि‍व मोड में आ गए हैं. रविवार को हुई सर्वदलीय बैठक में मुख्यमंत्री ने नेताओं को प्रदेश सरकार के प्रयासों की जानकारी दी. उधर नवरात्र और रमजान को ध्यान में रखते हुए योगी सरकार ने नई गाइडलाइन जारी की है.

धार्मिक स्थलों में एक साथ अधिकतम 5 लोगों को ही प्रवेश

मुख्य सचिव राजेंद्र कुमार तिवारी द्वारा जारी शासनादेश के अनुसार, कंटेनमेंट जोन को छोड़कर शेष स्थानों पर धर्मस्थलों के अंदर एक बार में एक स्थान पर पांच से अधिक श्रद्धालुओं को प्रवेश नहीं दिया जाएगा. धर्मस्थलों के प्रवेश द्वार पर सैनिटाइजर का प्रयोग किया जाए और यथासंभव इंफ्रारेड थर्मामीटर की भी व्यवस्था की जाए. जिन व्यक्तियों में कोई लक्षण प्रदर्शित नहीं होगा केवल उन्हें ही परिसर में प्रवेश की अनुमति होगी. सभी प्रवेश करने वाले व्यक्तियों को फेस कवर-मास्क का प्रयोग करना अनिवार्य होगा. प्रवेश एवं निकास के समय अलग-अलग व्यवस्था की जाए. लाइनों में सभी व्यक्ति एक दूसरे से कम छह फुट की शारीरिक दूरी पर रहेंगे. मूर्तियों, प्रतिरूप व पवित्र ग्रंथों को स्पर्श करने की अनुमति नहीं होगी. सभी प्रकार की सभाओं पर प्रतिबंध रहेगा. रिकॉर्ड किए हुए भक्ति संगीत या गाने तो बजाए जा सकते हैं लेकिन समूह में एकत्रित होकर गायन की अनुमति नहीं होगी. धर्मस्थल के अंदर किसी प्रकार के प्रसाद वितरण या पवित्र जल के छिड़काव की अनुमति नहीं होगी. एक दूसरे को बधाई देते समय शारीरिक संपर्क से बचना होगा. श्रद्धालु एवं पूजा कराने वाले समेत कोई भी किसी को किसी रूप में स्पर्श नहीं करेगा. परिसर के अंदर शौचालयों, हाथ-पैर धोने के स्थानों पर स्वच्छता के लिए विशेष उपाय करने होंगे. परिसर के फर्श को विशेष रूप से कई बार साफ कराना होगा. परिसर के बाहर पार्किंग स्थलों पर भीड़ प्रबंधन करते समय सोशल डिस्टेंसिंग का कड़ाई से पालन किया जाएगा. परिसर के बाहर किसी भी प्रकार की दुकानों, स्टॉल या कैफेटेरिया में पूरे समय सोशल डिस्टेंसिंग का पालन कराया जाएगा. लंगर या सामुदायिक रसोई या अन्न दान के लिए भोजन तैयार करने या वितरित करने में शारीरिक दूरी के मानकों का पालन करना होगा.

रेलवे स्टेशन पर आने वालों का होगा एंटीजन टेस्ट

शासनादेश में लखनऊ, गोरखपुर, प्रयागराज, वाराणसी, कानपुर, आगरा, झांसी, बरेली, मेरठ, गाजियाबाद, मथुरा, आजमगढ़, पं. दीन दयाल नगर, अयोध्या, बस्ती, मुरादाबाद व अलीगढ़ के डीएम व एसएसपी-एसपी-पुलिस कमिश्नर को संयुक्त निरीक्षण कर कोविड संक्रमण रोकने के लिए रेलवे स्टेशनों पर की गई व्यवस्था के बारे में रिपोर्ट मांगी गई है. एडीजी रेलवे से भी सभी जीआरपी थानों से सूचना संकलित कर गृह विभाग को रिपोर्ट देने को कहा गया है. इन जिलों में रेलवे स्टेशन पर आने वाले सभी यात्रियों की स्क्रीनिंग, एंटीजन टेस्ट व जरूरी होने पर आरटीपीसीआर टेस्ट कराने को कहा गया है. 

मंडी की दुकानें अलग-अलग समय पर खोली जाएं

शासन ने मंडी में अलग-अलग दुकानों को अलग-अलग समय पर खोलने तथा फुटकर दुकानों को सुबह सात बजे से शाम सात बजे तक संचालित कराने के निर्देश दिए हैं, जिससे एक ही समय में अधिक व्यक्ति एकत्रित न होने पाएं. वहीं धर्मस्थलों में एक साथ पांच से ज्यादा लोगों को प्रवेश की अनुमति नहीं होगी. मुख्य सचिव आरके तिवारी द्वारा जारी शासनादेश में ज्यादा से ज्यादा मोबाइल इकाइयों द्वारा डोर स्टेप डिलीवरी से ही फल व सब्जी आदि नागरिकों को उपलब्ध कराने को कहा गया है. शासन ने यह भी कहा है कि सभी प्रमुख मंडियों में सुबह चार बजे से आठ बजे के बीच ट्रकों की निर्बाध रूप से आवाजाही कराई जाए. सभी डीएम, एसपी तथा एडीएम व एएसपी से सुबह चार बजे से आठ बजे के बीच संयुक्त रूप से निरीक्षण करने को कहा गया है. निदेशक मंडी से भी कहा गया है कि वे संबंधित जिलों की मंडी समितियों से समन्वय स्थापित कर इसकी व्यवस्था कराएं. स्थानीय मंडियों को भीड़-भाड़ वाले स्थानों से दूर अथवा अन्य खुले स्थानों पर कोविड प्रोटोकॉल के नियमों का पालन करते हुए स्थानान्तरित करने पर भी विचार करने का कहा गया है.

पहली से बारहवीं तक के स्कूल और कोचिंग संस्थान 30 तक बंद

प्रदेश में तेजी से बढ़ते कोरोना संक्रमण के मद्देनजर पहली से बारहवीं तक के सभी स्कूल और कोचिंग संस्थान 30 अप्रैल तक बंद रहेंगे. हालांकि पूर्व निर्धारित परीक्षाएं हो सकेंगी. आवश्यकता के हिसाब से शिक्षकों व अन्य स्टाफ को बुलाया जा सकेगा. रविवार को मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की अध्यक्षता में आयोजित कोविड-19 संक्रमण की रोकथाम से जुड़ी कार्यवाही की समीक्षा के लिए आयोजित टीम 11 की बैठक में यह निर्णय लिया गया. इसके बाद बेसिक शिक्षा विभाग की अपर मुख्य सचिव रेणुका कुमार ने पहली से आठवीं तक के सभी स्कूलों को 30 अप्रैल तक बंद करने का शासनादेश जारी कर दिया. उन्होंने निर्देश दिए कि 30 अप्रैल तक स्कूल बंद रहेंगे. छात्र-छात्राएं उपस्थित नहीं हो सकेंगे. यदि विद्यालय में कोई प्रशासकीय कार्य कराया जाना है तो कोविड-19 प्रोटोकॉल के पालन के तहत कराया जाएगा. जिन स्कूलों में पूर्व निर्धारित परीक्षाएं चल रही हैं, वे खुले रहेंगे. स्कूल शिक्षा महानिदेशक विजय किरन आनंद ने बताया कि 28 अप्रैल से परिषदीय स्कूलों में होने वाले असेस्मेंट भी नहीं होंगे.

मंत्रियों को नई जिम्मेदारी दे सकते हैं योगी  

कोरोना संक्रमण की बड़ी चुनौती से निपटने की कोशिश में लगे मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ इस मुद्दे पर सबकी राय लेकर काम करना चाहते हैं. इसीलिए उन्होंने सर्वदलीय बैठक बुलाकर विपक्षी दलों के नेताओं से उनके विचार जाने. अब मुख्यमंत्री ने सोमवार को अपने सभी मंत्रियों की बैठक बुलाई है. इसमें अलग-अलग जिलों में संक्रमण रोकने के लिए रणनीति बनेगी. साथ ही मुख्यमंत्री अपने सहयोगी मंत्रियों के साथ विपक्ष की राय को साझा करेंगे. संभव है कि मंत्रियों को कुछ इस बाबत जिम्मेदारी भी दी जाए. सर्वदलीय बैठक में मुख्यमंत्री ने जानकारी दी कि पंचायत चुनाव में जनसभा के लिए 200 लोगो की अनुमति को अब 100 कर दिया गया है. मुख्यमंत्री ने कहा कि भीड़भाड़ वाले स्थान की जगह, दुकानदारों रेहड़ी वालो को खुले स्थान में दुकान लगाने की व्यवस्था की जा रही है.

***

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें