scorecardresearch
 

यूपी में प्रभाव बढ़ाने की तैयारी में विश्व हिंदू परिषद

उत्तर प्रदेश में 11 जुलाई से शुरू होने वाली विहिप की जिला कार्ययोजना की बैठकों में कई नए मामले चर्चा का केंद्र बिंदु होंगे जिनके जरिए हिंदुत्व के मुद्दे लोगों के बीच पैठ बढ़ाई जा सके.

विश्व हिंदू परिषद के समर्थक (फाइल फोटो/रॉयटर्स) विश्व हिंदू परिषद के समर्थक (फाइल फोटो/रॉयटर्स)

रामजन्मभूमि और बाबरी मस्जिद विवाद के समाधान के बाद मंदिर आंदोलन की अगुआई कर रही विश्व हिंदू परिषद (विहिप) के सामने नई चुनौतियां सामने हैं. मंदिर आंदोलन के समाप्त होने से विहिप को यूपी में अपनी जमीन मजबूत करने के लिए नए मुद्दों का सहारा लेना होगा. यूपी में 11 जुलाई से शुरू होने वाली विहिप की जिला कार्ययोजना की बैठकों में ऐसे ही कई मुद्दे चर्चा का केंद्र बिंदु होंगे जिनके जरिए हिंदुत्व के मुद्दे पर लोगों के बीच पैठ बढ़ाई जा सके. विहिप ने हर जिला कार्ययोजना की बैठक में प्रांत स्तर के एक पदाधि‍कारी को भेजकर मौजूदा ताकत का जमीनी आकलन करने की योजना भी बनाई है. प्रांत पदाधि‍कारियों से इन बैठकों के जरिए जिले में साप्ताहिक सत्संग और बजरंग दल के साप्ताहिक मिलन केंद्रों की सूची, इनके प्रमुखों के नाम और मोबाइल नंबर, जिले में प्रखंडों की संख्या के साथ साथ, अलग अलग प्रखंड और प्रत्येक प्रखंड में गांवों की संख्या तथा उनमें कितनी गांव समितियां हैं, इसकी पूरी जानकारी जुटाकर संगठन को जमीनी स्तर पर दुरुस्त किया जाएगा.

मंदिर विवाद के निबट जाने के बाद विहिप के रणनीतिकार उन मुद्दों की तलाश कर रहे हैं जिनके जरिए आम लोगों के सीधा कनेक्ट बनाया जा सके. विहिप अवध प्रांत के एक पदाधि‍कारी बताते हैं, “यूपी में गायों की तस्करी और अवैध वध पर लगाम लगी है लेकिन यह पूरी तरह से बंद नहीं हुआ है. मठ-मस्जिदों पर अवैध कब्जों की भरमार है, लॉकडाउन में नदिया साफ तो हुई हैं लेकिन इन्हें गंदा करने वाले कारक अभी भी मौजूद हैं जिससे इन नदियों का भविष्य सुरक्षित नहीं है. इसाई और मुस्लिम संगठनों की ओर से हिंदुत्व के खि‍लाफ षड़यंत्र जैसे प्रयास अभी भी पूरी तरह से नहीं रुके हैं. इन्हीं सारे मुद्दों को लेकर भविष्य की रणनीति तैयार करने पर मंथन चल रहा है.”

जमीनी स्तर पर ज्यादा सक्रिय और प्रभावी दिखने के लिए विहिप ने केंद्रीय मार्गदर्शक मंडल की तर्ज पर हर प्रांत में संतों का एक मार्गदर्शक मंडल गठित करने का निर्णय लिया है. विहिप इसी केंद्रीय मार्गदर्शक मंडल की सलाह पर हिंदुत्व से जुड़े मुद्दे पर अपनी रणनीति तय करता है. अब विहिप ने तय किया है कि प्रत्येक प्रांत में आने वाले हर जिले से वहां के एक या दो प्रमुख संतों को प्रांतीय स्तर पर गठित होने वाले मार्गदर्शक मंडल में शामिल किया जाए. लखनऊ, प्रयागराज, वाराणसी, मथुरा और अयोध्या जैसे धार्मिक स्थलों के दो से अधि‍क संतों को भी इसमें शामिल किया जाएगा. एक नियमित अंतराल पर होने वाली प्रांतीय मार्गदर्शक मंडल की बैठकों में उस प्रांत में हिंदुत्व से जुड़े तत्कालिक मुद्दों पर विहि‍प की भूमिका और रणनीति तय की जाएगी.

***

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें