scorecardresearch
 

यूपी सरकार ने चार करोड़ टीके के लिए जारी किया ग्लोबल टेंडर

अंतरराष्ट्रीय बाजार में उपलब्ध वैक्सीन को यूपी में मुहैया कराने के लिए योगी सरकार ने ग्लोबल टेंडर जारी किया है. टीके के लिए ग्लोबल टेंडर जारी करने वाला यूपी देश का पहला राज्य बना है.

यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ
स्टोरी हाइलाइट्स
  • भारत बायोटेक और सीरम इंस्टीट्यूट को 50-50 लाख टीके का आर्डर पहले ही दिया जा चुका है
  • अगले सप्ताह से प्रदेश के 17 नगर निकायों में अगले सप्ताह से टीकाकरण की शुरूआत की जाएगी
  • एक करोड़ पांच लाख 68 हजार 125 लोगों को पहला डोज और 25 लाख 22 हजार 860 लोगों को दूसरा डोज लगाया जा चुका है

देश भर में कोरोना वैक्सीन की बढ़ती मांग और वैक्सीन की कम उपब्धता से हो रही दि‍क्क्तों से निबटने के लिए केंद्र सरकार जल्द ही अमेरिकी वैक्सीन निर्माता कंपनी फाइजर-बायोटिक और मार्डना की वैक्सीन को इमरजेंसी उपयोग की अनुमति दे सकती है. अंतरराष्ट्रीय बाजार में उपलब्ध वैक्सीन को यूपी में मुहैया कराने के लिए योगी सरकार ने ग्लोबल टेंडर जारी किया है. मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ कोरोना के खिलाफ लड़ाई में टेस्ट, ट्रेस और ट्रैकिंग के अलावा ज्यादा से ज्यादा टीकाकरण पर जोर दे रहे हैं. जिस कारण अब 18-44 आयु वर्ग के युवाओं को टीकाकरण के लिए दूसरे चरण की तैयारी को अमलीजामा पहनाया जा रहा है. इसके लिए प्रदेश के 17 नगर निकायों में अगले सप्ताह से टीकाकरण की शुरूआत की जाएगी. सीएम योगी के निर्देश पर 5 मई को चार करोड़ टीके के लिए ग्लोबल टेंडर जारी किया गया है. टीके के लिए ग्लोबल टेंडर करने वाला यूपी देश का पहला राज्य बना है. “उत्तर प्रदेश मेडिकल सप्लाई कॉरपोरेशन” ने चार करोड़ टीके के लिए ग्लोबल टेंडर जारी किया है. इसके लिए टेंडर डाउनलोड करने की अंतिम तिथि 7 मई और टेंडर भरने की अंतिम तिथि 21 मई घोषित की गई है. सीएम योगी के ही निर्देश पर भारत बायोटेक और सीरम इंस्टीट्यूट को 50-50 लाख टीके का आर्डर पहले ही दे दिए गए थे और इसके लिए 10-10 करोड़ रुपये एडवांस भी दे दिए गए थे. अब दोनों कंपनियों ने जल्द टीके की आपूर्ति का आश्वासन दिया है.

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने 5 मई को टीम-9 की बैठक में टीकाकरण को लेकर कहा कि कोविड से बचाव के लिए टीकाकरण सुरक्षा का अहम माध्यम है. इस महत्व को समझते हुए प्रदेश में टीकाकरण अभियान तेजी से संचालित किया जा रहा है. 18-44 आयु वर्ग के लोगों के निशुल्क टीकाकरण की घोषणा करने और क्रियान्वित करने वाला प्रथम राज्य उत्तर प्रदेश है. अब तक 18-44 आयु वर्ग के 51,284 लोगों को टीकाकरण का पहला डोज लगाया जा चुका है. 4 मई को एक दिन में 106 सेंटर पर 17,452 टीके लगाए गए हैं. 18-44 आयु वर्ग के लोगों के वैक्सीनेशन के लिए ग्लोबल टेंडर भी जारी कर दिया गया है. इसका अनुश्रवण करते हुए यथाशीघ्र आपूर्ति सुनिश्चित कराई जाए. सीएम योगी ने कहा कि इसी प्रकार 45 वर्ष से अधिक आयु के लोगों के टीकाकरण की प्रक्रिया सुचारु रूप से चल रही है. एक करोड़ पांच लाख 68 हजार 125 लोगों को पहला डोज और 25 लाख 22 हजार 860 लोगों को दूसरा डोज लगाया जा चुका है. अब तक वर्तमान में कुल 1,30,90,985 डोज लगाए जा चुके हैं. सीएम योगी ने डॉक्टरों से वैक्सीन वेस्टेज को न्यूनतम करने के लिए विशेष प्रयास करने का निर्देश दिया है.

उधर, उत्तर प्रदेश के चिकित्सा शिक्षा मंत्री सुरेश खन्ना ने कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी, महासचिव प्रियंका गांधी और समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव से संकट की इस घड़ी में ओछी राजनैतिक बयानबाजी से बाज आने को कहा है. उनका कहना है कि कोरोना वैक्सीन पर इन दोनों राजनैतिक दलों के नेताओं ने भ्रम फैला कर उत्तर प्रदेश के लाखों लोगों की जान को खतरे में डालने के काम किया है. इन नेताओं की ओर से बारबार कोरोना वैक्सीन और सरकार की ओर से किये जा रहे अन्य प्रयासों पर सवाल उठाकर जनता में भ्रम पैदा किया जा रहा था. उन्होंने कहा कि अखिलेश यादव ने वैक्सीन पर सवाल खड़े करते हुए इसे लगवाने से इनकार कर दिया था. सुरेश खन्ना के मुताबिक, राहुल और प्रियंका वाड्रा ने तो वैक्सीन के टेस्ट पर अविश्वास जताया था, अब ये लोग ही कह रहे हैं की सब को वैक्सीन क्यों नहीं लगाई गई. सुरेश खन्ना ने इन नेताओं को सरलता, सहजता और संवदेनशीलता का परिचय देते हुए वर्तमान सरकार के साथ कोरोना के खिलाफ शुरू हुई लड़ाई में राजनीति छोड़कर सहयोग करने की अपील की है.

***

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें