scorecardresearch
 

ढाई दशक बाद कानपुर के बिकरू में प्रधान के दस दावेदार

कानपुर में शि‍वराजपुर ब्लॉक की बिकरू ग्राम पंचायत पिछले वर्ष उस वक्त चर्चा में आई थी जब यहां के रहने वाले विकास दुबे ने 2 जुलाई की रात अपने गुर्गों के साथ मिलकर आठ पुलिसकर्मियों की हत्या कर दी थी. 25 साल बाद यहां नहीं होगा निर्विरोध निर्वाचन.

पिछले वर्ष जुलाई में बिकरू में पुलिस की तैनाती पिछले वर्ष जुलाई में बिकरू में पुलिस की तैनाती
स्टोरी हाइलाइट्स
  • बिकरू ग्राम पंचायत में प्रधान के लिए 10 उम्मीदवारों ने नामांकन किया है
  • दुर्दांत अपराधी विकास दुबे 1995 में पहली बार बिकरू से ग्राम प्रधान चुना गया था
  • वर्ष 2021 के पंचायत चुनाव में बिकरू में प्रधान का पद दलित वर्ग के लिए आरक्ष‍ित है

कानपुर में शि‍वराजपुर ब्लॉक की बिकरू ग्राम पंचायत पिछले वर्ष उस वक्त चर्चा में आई थी जब यहां के रहने वाले विकास दुबे ने 2 जुलाई की रात अपने गुर्गों के साथ मिलकर आठ पुलिसकर्मियों की हत्या कर दी थी. बिकरू कांड के बाद यूपी एसटीएफ ने स्थानीय पुलिस के साथ मिलकर विकास दुबे समेत 6 बदमाशों को मार गिराया था. विकास दुबे का बिकरू समेत आस-पास के दर्जनों गांवों में दबदबा था. विकास दुबे ने दहशत, दौलत और दलबल की बदौलत बिकरू गांव में अपनी बादशाहत स्थापित की थी. कुख्यात अपराधी विकास ने 25 साल तक अपनी कोठी की चौखट से लोकतंत्र को बांध कर रखा था. विकास की मौत के बाद यहां पर हो रहे पंचायत चुनाव में लोकतंत्र की बयार बहती दिखाई दे रही है. पंचायत चुनाव 2021 की आरक्षण लिस्ट में बिकरू गांव सीट दलित के खाते में गई है. बिकरू ग्राम पंचायत में प्रधान के लिए 10 उम्मीदवारों ने नामांकन किया है. इससे पहले विकास दुबे की दहशत के कारण कोई भी प्रधान पद के लिए खड़ा नहीं होता था. पंचायत चुनाव में विकास दुबे जिसे चाहता था उसे ही प्रधान पद के लिए निर्विरोध चुनाव जिताता था.

दुर्दांत अपराधी विकास दुबे 1995 में पहली बार ग्राम प्रधान चुना गया था. चुनाव जीतने के बाद लोकतंत्र की चाभी उसके हाथ लग गई. वर्ष 2000 में अनुसूचित जाति की सीट होने पर विकास ने गांव की गायत्री देवी को प्रत्याशी बनाया था. गायत्री देवी निर्विरोध चुनाव जीत कर प्रधान बन गईं. वर्ष 2005 में बिकरू ग्राम पंचायत की सीट सामान्य होने पर विकास के छोटे भाई दीपक की पत्नी अंजली दुबे को निर्विरोध प्रधान चुना गया. 2010 में सीट पिछड़ी जाति के लिए आरक्षि‍त होने पर विकास ने रजनीश कुशवाहा को मैदान में उतारा था. रजनीश कुशवाहा निर्विरोध ग्राम प्रधान चुने गए. 2015 में अंजली दुबे दोबारा निर्विरोध ग्राम प्रधान चुनी गई थीं. बिकरू गांव के रहने वाले बताते हैं कि प्रधान कोई भी बने लेकिन उसकी चाभी विकास के हाथों में रहती थी.

वर्ष 2021 के पंचायत चुनाव में बिकरू गांव में 25 साल बाद 10 उम्मीदवार प्रधानी का चुनाव लड़ रहे हैं. बिकरू गांव में सात तथा इसके मजरे डिब्बानावादा में तीन उम्मीदवारों ने नामांकन किया है. गांव में जगह-जगह लगे प्रत्याशि‍यों के पोस्टर बैनर, प्रचार के लिए उम्मीदवारों की आवाजाही बिकरू को विकास दुबे की दहशत से मिली आजादी का एहसास दिला रहे हैं. लगभग डेढ़ हजार मतदाताओं वाली इस ग्राम पंचायत में ब्राह्मण, यादव और मुस्ल‍िम वोटरो की भागीदारी निर्णायक भूमिका निभाएगी.

***

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें