scorecardresearch
 

ताज महल के दीदार में कंटेनमेंट जोन का अड़ंगा

कोरोना वायरस के संक्रमण के चलते ताज महल के कंटेनमेंट जोन में होने के कारण जिला प्रशासन ने इस विश्व प्रसिद्ध स्मारक को खोलने की अनुमति नहीं दी है.

X
ताज महल की फाइल फोटो/बंदीप सिंह ताज महल की फाइल फोटो/बंदीप सिंह

आगरा में ताज महल का दीदार करने के लिए पर्यटकों को अभी और इंतजार करना पड़ेगा. कोरोना वायरस के संक्रमण के चलते ताज महल के कंटेनमेंट जोन में होने के कारण जिला प्रशासन ने इस विश्व प्रसिद्ध स्मारक को खोलने की अनुमति नहीं दी है. कोविड-19 के बढ़ते हुए प्रकोप को देखते हुए संस्कृति मंत्रलय के आदेश पर भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण (एएसआइ) ने 17 मार्च से ताजमहल समेत आगरा के अन्य स्मारकों को पर्यटकों के लिए बंद कर दिया था.

केंद्रीय संस्कृति एवं पर्यटन मंत्री प्रहलाद सिंह पटेल ने दो जुलाई को देशभर के सभी स्मारकों को छह जुलाई से खोले जाने का ट्वीट किया था. इसके बाद संस्कृति मंत्रालय ने कंटेनमेंट जोन के बाहर स्थित स्मारकों को खोलने के लिए स्टैंडर्ड ऑपरेटिंग प्रोसीजर (एसओपी) जारी करते हुए स्मारकों को खोले जाने का फैसला राज्य सरकार और जिला प्रशासन पर छोड़ा था. इसी क्रम में आगरा के जिलाधिकारी प्रभु नारायण सिंह ने जनपद स्तरीय कोविड नियंत्रण टीम और एएसआइ के अधिकारियों के साथ बैठक कर आगरा समेत अन्य स्मारकों को नहीं खोलने का निर्णय लिया है. आगरा में पिछले चार दिनों में कोविड-19 के 55 संक्रमित मरीज सामने आए हैं. वर्तमान में 71 कंटेनमेंट जोन ऐक्टिव हैं. ताज महल ताजगंज थाने में आता है और वह कंटेनमेंट तथा बफर जोन से घि‍रा हुआ है. इसी तरह सिकंदरा, एत्माद्दौला, फतेहपुर सीकरी, आगरा किला और अन्य स्मारक भी बफर जोन में आते हैं. इन स्मारकों को खोलने पर पर्यटकों के आवागमन से कोरोना वायरस के संक्रमण की आशंका है.

गृह मंत्रालय के 30 मई के आदेश के क्रम में यूपी के मुख्य सचिव राजेंद्र कुमार तिवारी द्वारा 31 मई को जारी आदेश के अनुसार, कंटेनमेंट जोन के बाहर ऐसे क्षेत्र जहां नए केस की संभावना हो उन्हें बफर जोन के रूप में चिन्हित किया जाएगा. इनके अंतर्गत होने वाली गतिविधियों के संबंध में स्थानीय प्राधिकारी/जिला प्रशासन को अपने स्तर से दिशा-निर्देश जारी करने का अधिकार दिया गया है. इन्हीं आदेशों के क्रम में आगरा जिला प्रशासन ने ताजमहल बंद रखने का निर्णय लिया है.

छह जुलाई से स्मारकों के खुलने की घोषणा होने के बाद आगरा में एंपोरियम, शोरूम, दुकानों, होटलों और रेस्तरां में भारतीय पर्यटकों के आने की संभावना को देखते हुए तैयारियां शुरू कर दी गई थीं. यहां के गोकुलपुरा में हैंडीक्राफ्ट की दुकानें खुलना शुरू हो गई थीं, लेकिन स्मारकों को बंद रखे जाने से सभी को जोर का झटका लगा है. आगरा के एक व्यवसायी रमेश जायसवाल कहते हैं, "राजस्थान में राज्य सरकार के स्मारक एक माह पूर्व ही खुल चुके हैं. सोमवार से राजस्थान और दिल्ली में एएसआइ संरक्षित सभी स्मारक खुल जाएंगे. दिल्ली की स्थिति आगरा से बहुत अधिक निकट है, इसके बावजूद वहां स्मारक खुल रहे हैं, जामा मस्जिद तो रविवार को ही खुल गई. आगरा में कोविड-19 के कम केस होने के बावजूद स्मारकों को बंद रखे जाने से पर्यटन कारोबार पर बुरा असर पड़ेगा."

***

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें