scorecardresearch
 

एनडीए से बाहर हो सकती है लोजपा

बिहार में भाजपा की पहली पसंद नीतीश कुमार हैं.

चिराग पासवान चिराग पासवान
स्टोरी हाइलाइट्स
  • आक्रामक रुख अपना रही लोजपा पर भाजपा ने कड़ा रुख अपना लिया है
  • ऐसे में लोजपा के गठबंधन से बाहर निकलने की संभावना बढ़ गई है
  • चिराग पासवान ने अपने कार्यकर्ताओं को सभी सीटों पर चुनाव लड़ने के लिए तैयार रहने कहा है

भाजपा की तरफ से नीतीश कुमार को एनडीए के सीएम उम्मीदवार घोषित किए जाने के बाद से आक्रामक रुख अपना रही लोजपा पर भाजपा ने कड़ा रुख अपना लिया है. पार्टी ने लोजपा को दो-टूक कह दिया है कि बिहार में भाजपा की पहली पसंद नीतीश हैं. भाजपा के इस रुख के बाद लोजपा के गठबंधन से बाहर निकलने की संभावना बढ़ गई है.

भाजपा के एक वरिष्ठ महासचिव कहते हैं कि प्रधानमंत्री, केंद्रीय गृहमंत्री और भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष की तरफ से जब साफ कर दिया गया है कि बिहार में एनडीए का चेहरा नीतीश कुमार हैं, तो फिर इसके बाद मामला खत्म है. गठबंधन के सभी दलों को साथ मिल कर चुनाव लड़ना चाहिए. सीट शेयरिंग या अन्य मुद्दों पर यदि कोई दिक्कत है तो उसके लिए बात करना जरूरी है, न कि गठबंधन में शामिल दलों के खिलाफ ही ताल ठोकना कोई विकल्प है.

सूत्रों का कहना है कि भाजपा नेतृत्व के बार-बार समझाने के बावजदू लोजपा के तेवर कम नहीं हो रहे हैं और वह जद (यू) प्रत्याशी के खिलाफ अपना प्रत्याशी उतारने की बात कर रही है. इसका मतलब साफ है कि गठबंधन को कमजोर करने की कोशिश की जा रही है और यदि लोजपा की यही राय है तो वह गठबंधन से निकलने का फैसला ले सकती है.

भाजपा के इस कड़क रुख के बाद माना जा रहा है कि लोजपा राजग से बाहर निकल सकता है. खासकर चिराग पासवान ने जिस तरह से अपने कैडर को यह संकेत दे दिया है कि वह सभी सीटों पर लड़ने को तैयार रहे. चिराग के इस बयान को भाजपा इस रूप में देख रही है कि लोजपा, गठबंधन से निकलने का मन बना चुका है. बिहार भाजपा के एक नेता का कहना है कि भाजपा के कैडर, चिराग के रुख को लेकर अभी असमंजस की स्थिति में हैं. वे समझ नहीं पा रहे हैं कि चिराग, एनडीए में रहेंगे या नहीं. जब तक स्थिति साफ नहीं होती तो ऐसे में लोजपा के प्रभाव वाले इलाके में प्रचार कैसे किया जाए इसको लेकर स्थिति साफ नहीं हो रही है.

***

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें