scorecardresearch
 

सोशल डिस्टेंसिंग सिखाएगा आइआइआइटी दिल्ली का यह ऐप

आइआइआइटी दिल्ली में वॉश करो ऐप बनाने वाली टीम ने इसे डब्ल्यूएचओ के सामने भी प्रेजेंट किया है. जल्द ही यह ऐप फ्रांस, इटली और अन्य देशों के लोगों को भी सिखाएगा सोशल डिस्टेंसिंग के गुण और बताएगा सरकारों की गाइडलाइन. इस ऐप की सबसे बड़ी खासियत टैक्स्ट के साथ इसका ऑडियो वर्जन में भी होना है ताकि बिना पढ़े लिखे लोग भी इसका उपयोग आसानी से कर पाएं.

कोरोना संकट से बचाएगा यह ऐप कोरोना संकट से बचाएगा यह ऐप

कोरोना संक्रमण से लड़ने के लिए लगातार टेक्नोलॉजी का इस्तेमाल किया जा रहा है. केंद्र से लेकर राज्य सरकारें लगातार टेक्निकल इंस्टीट्यूट की मदद ले रही हैं. इस बीच IIIT DELHIने भी कोरोना संक्रमण के प्रति जागरुकता लाने, उपचार, सोशल डिस्टेंसिंग और कोरोना मरीजों को ट्रैक करने के लिए एक ऐप का निर्माण किया है. इस ऐप का नाम है, वॉश करो (WashKaro APP).इस ऐप का निर्माण करने वाली टीम की अगुवाई क्लिनिशियन डेटा साइंटिस्ट एवं आइआइआइटी दिल्ली में कंप्युटेशनल बायोलोजी विभाग मेंअसिस्टेंट प्रोफेसर डॉ. ताव प्रितेश सेठी (tavpretesh Sethi)और आइआइआइटी दिल्ली में स्टूडेंट अफेयर्स के डीन एवं कंप्यूटर साइंस में प्रो. पोन्नूरैंगम कुमारगुरु (Ponnurangam Kumaraguru)ने किया है.

कैसे काम करता है यह ऐप?

-वॉश करो ऐप राज्य और केंद्र सरकार के द्वारा कोविड-19 से निपटने के लिए बनाई गए दिशानिर्देशों के बारे में यूजर को जानकारी देता है.

-डबल्यूएचओ (WHO)के दिशा निर्देश के बारे में जानकारी देता है.

-सोशल डिस्टेंसिंग मेंटेन करने में मददगार है. यह यूजर को यह बताता है कि वह किसी अन्य व्यक्ति से कितनी दूरी पर है. ताकि यूजर सोशल डिस्टेंसिंग के नियम के मुताबिक अगले व्यक्ति से दूरी बना सके.

-आम लोगों तक सरल भाषा ही नहीं बल्कि आडियोस के फॉर्मेट में सूचनाएं पहुंचाने की खासियत इसे दूसरे ऐप से अलग बनाती है.

प्रो. पोन्नूरैंगम कुमारगुरु कहते हैं, '' ऑडियो डिवाइस के जरिए सचूना पहुंचाने जैसे फीचर और सुगम होने की वजह से इसे जल्द ही इंटरनेशनल स्तर पर लॉंच करने की भी तैयारी की जा रही है.

इस बाबत डब्ल्यूएचओ के सामने हमने और हमारी टीम ने इसका प्रजेंटेशन भी किया है.''

वहां पर भी इस ऐप में भारत की तरह ही वहां की सरकारों के दिशानिर्देश देने के साथ मौजूदा सभी फीचर्स का प्रयोग किया जाएगा. वे कहते हैं, फिलहाल भारत में यह अभी हिंदी, अंग्रेजी भाषा में मौजूद है.

लेकिन अन्य राज्य सरकारों से हमारी बात हो रही है. जो सरकार इस ऐप के प्रयोग के लिए राजी होगी उस राज्य की भाषा में ही लोगों को जानकारी दी जाएगी.

जैसे तमिलनाडु में तमिल भाष, गुजरात में गुजराती भाष.

भविष्य को लेकर योजनाएं

-यह ऐप अभी एंड्रवायड फोन में ही इंस्टाल किया जा सकता है लेकिन जल्द ही आइफोन भी इंस्टाल करने की सुविधा देने की तैयारी है.

-अभी हम दूसरे व्यक्ति से सोशल डिस्टेंसिंग के लिए इसका इस्तेमाल कर रहे हैं.

लेकिन राज्य सरकारें अगर इस ऐप के इस्तेमाल में रुझान दिखाती हैं और हमसे कोरोना पॉजिटिव लोगों के डेटा साझा करती हैं तो ऐप का यूजर इससे यह भी जान सकेगा की आखिर वह किसी कोरोना पॉजिटिव व्यक्ति से कितनी दूर है.

इस ऐप को प्रो. पोन्नूरैंगम कुमारगुरु और डॉ. ताव प्रितेश सेठी की अगुवाई में 15-16 छात्रों की टीम ने मिलकर बनाया है. ऐप को बनाने में 3 हफ्तों का समय लगा.

***

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें