scorecardresearch
 

मकर संक्रांति से शुरू होगा कोरोना टीकाकरण

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने घोषणा की है कि वैश्विक महामारी के खात्मे के लिए देश और प्रदेश में मकर संक्रांति से कोरोना का टीकाकरण शुरू हो जाएगा.

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ
स्टोरी हाइलाइट्स
  • सीएम योगी ने बताया कि यूपी के 6 जिलों में ड्राइरन शुरू हो चुका है
  • सीएम ने बताया कि श्रेणीवार टीकाकरण किया जाएगा
  • उन्होंने कहा कि मकर संक्रांति से कोरोना का टीकाकरण शुरू होगा

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने घोषणा की है कि वैश्विक महामारी के खात्मे के लिए देश और प्रदेश में मकर संक्रांति से कोरोना का टीकाकरण शुरू हो जाएगा. श्रेणीवार टीकाकरण किया जाएगा. मुख्यमंत्री ने उम्मीद जताई कि टीकाकरण से कोरोना संक्रमण पर प्रभावी रूप से नियंत्रण में सफलता मिलेगी. उत्तर प्रदेश के 6 जिलों में ड्राइरन शुरू हो चुका है. 5 जनवरी को प्रदेश के सभी जिलों में ड्राईरन सफलतापूर्वक संपन्न किया जाएगा. उन्होंने विश्वास दिलाया कि 2021 में कोरोना-19 की महामारी का खात्मा करने में सफलता अर्जित करेंगे.

मुख्यमंत्री योगी, शनिवार 2 जनवरी को कलेक्ट्रेट परिसर में अधिवक्ताओं के बहुमंजिला चेम्बर के निर्माणकार्य के शिलान्यास समारोह को संबोधित कर रहे थे. उन्होंने कहा कि पिछले 10 महीने से वैश्विक महामारी कोरोना-19 से हर व्यक्ति त्रस्त है. दुनिया की सबसे बड़ी ताकत अमेरिका की हालत किसी से छुपी नहीं. बिट्रेन जिसने टीका की शुरूआत की वहां फिर से लॉकडाउन की स्थिति बनने लगी है. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के मार्गदर्शन में देश और प्रदेश में 2021 की शुरूआत में विश्वास के साथ कह सकते हैं कि 5 जनवरी से पूरे प्रदेश में ड्राइरन होगा. 6 जिलों में ड्राइरन चल रहा है. उन्होंने कहा कि मकर संक्रांति से देश और प्रदेश में कोरोना का टीकाकरण शुरू होगा और हम इस सदी की सबसे बड़ी बीमारी का खात्मा करने में सफल होंगे.

सीएम योगी आदित्यनाथ ने कहा कि जब किसी महामारी से लड़ते हैं, सरकारें सिर्फ नेतृत्व करती हैं लेकिन सफलता जन सहयोग एवं सभी संस्थाओं से साक्षा प्रयास से मिलती है. भारत के प्रयासों की डब्ल्यूएचओ ने भी सराहना की. उन्होंने कहा कि देश की सबसे बड़ी आबादी का राज्य उत्तर प्रदेश कोरोना की रोकथाम में भी सबसे बेहतर प्रदर्शन करने में सफल रहा है. आज प्रदेश में कोरोना के मामले 68 हजार से घट कर 13 हजार पर पहुंच गए हैं. रिकवरी रेट 97 फीसद एवं मृत्यु दर 1 फीसद के आसपास है. सरकार के अस्पतालों में कोरोना का उपचार कराने वालों ने इंतजाम की सराहना की. 20 मार्च से लॉकडाउन शुरू हुआ, उत्तर प्रदेश के 40 लाख कामगार और प्रवासी यूपी आए. मजदूर और प्रतियोगी छात्रों को घरों कुशलतापूर्वक पहुंचाया गया. उन्हें रोजगार भी उपलब्ध कराया. प्रदेश के विकास की गति भी थमने नहीं दी गई. कोरोना 19 पर प्रभावी नियंत्रण भी सफलतापूर्वक लगा.

सीएम योगी आदित्यनाथ ने कहा कि कोविड महामारी के दौरान प्रदेश में तकनीक की मदद से महिलाओं, मजदूरों, पेंशनधारियों की चिंता की गई. 86 लाख से अधिक वृद्धों, निराश्रित महिलाओं एवं दिव्यांगों को पेंशन और एडवांस पेंशन की धनराशि डीबीटी के माध्यम से उनके खातों में एक क्लिक में भेजी गई. इन रुपयों के निकालने के लिए उन्हें बैकों में लाइन न लगानी पड़े, बैकिंग करेस्पांडेंट सखी की नियुक्ति हर ग्राम पंचायत में की गई. जनधन खाता धारी महिलाओं के खाते में एडवांस धनराशि उपलब्ध कराई गई. यह सब कुछ तकनीक की मदद से संभंव हो सका. इसके लिए अलग से मैनपॉवर की जरूरत नहीं हुई बल्कि मौजूदा संसाधन में सफलतापूर्वक ऐसे अनेकों कार्यक्रमों को पूर्ण किया गया.

***

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें