scorecardresearch
 

कृषि कानून की खूबियां बताने बैलगाड़ी लेकर निकल पड़े भाजपा विधायक

विधायक जवाहर राजपूत कर रहे किसानों से संवाद और गांवों में ही गुजार रहे रात.

बैलगाड़ी पर सवार विधायक जवाहर राजपूत बैलगाड़ी पर सवार विधायक जवाहर राजपूत
स्टोरी हाइलाइट्स
  • भाजपा विधायक जवाहर लाल राजपूत नए कृषि कानून के समर्थन में बैलगाड़ी लेकर निकले हैं
  • लोग भी जवाहर राजपूत की बैलगाड़ी यात्रा में दिलचस्पी ले रहे हैं
  • इस यात्रा का मकसद किसानों को कृषि कानून की खूबियां बताना है

हाल ही केंद्र की मोदी सरकार की ओर से लाए गए कृषि कानून को लेकर कई जगहों से किसान प्रदर्शन की खबरें आ रहीं हैं. किसान इस कानून को विरोध कर रहे हैं, लेकिन वहीं अपनी एक ठेठ किसान की पहचान रखने वाले झांसी की गरौठा सीट से भाजपा विधायक जवाहर लाल राजपूत इसके समर्थन में बैलगाड़ी लेकर निकले हैं. विधायक जवाहर ने कृषि कानून के समर्थन में दस बैलगाड़ियों के काफिले के साथ गांव किसान संपर्क यात्रा शुरू की है. वे किसानों को नए कानून से होने वाले फयदों के पीछे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का मकसद समझा रहे हैं और गांव में ही किसान के घर रात गुजार रहे हैं. नौ अक्तूबर से शुरू हुए इस अनोखे कृषि कानून जागरुकता अभियान को खासा समर्थन मिल रहा है.

झांसी जिले की गरौठा विधानसभा सीट से भाजपा विधायक जवाहर लाल राजपूत जमीनी और किसान नेता के तौर पर जाने जाते हैं. उन्होंने अपना पर्चा दाखिल करने के साथ ही विधानसभा में एंट्री भी बैलगाड़ी से की थी. लेकिन अब वह अपनी बैलगाड़ी के साथ एक बार फिर से सुर्खियों में हैं. इसकी वजह किसान कानून बैलगाड़ी यात्रा है. शुक्रवार से शुरू की गई बैलगाड़ी यात्रा में ग्रामीणों की भीड़ पहुंच रही है. इस दौरान विधायक बैलगाड़ी से ही ग्रामीणों और किसानों को संबोधित कर रहे हैं. कई जगह चौपाल लगाकर सभा की जा रही है. शनिवार को दूसरे दिन बैलगाड़ी यात्रा गरौठा से शुरू होकर शीला, वीरपुरा, मदरवारा, रगौली व ककरबई गांव में पहुंची. ककरबई गांव में पहुंचकर ही किसान के यहां रात्रि विश्राम किया गया.

इस यात्रा को लेकर विधायक जवाहर लाल राजपूत कहते हैं, "मोदी सरकार ने किसानों की आय दोगुनी करने के इरादे से कृषि सुधार कानून पास कराया है. इससे किसानों की सूरत बदल जाएगी. विपक्षी दल कृषि कानून को लेकर किसानों के बीच भ्रम फैला रहे हैं. विधायक राजपूत कहते हैं कि यह ठीक वैसा ही भ्रम है जैसा एनआरसी को लेकर मुस्लिमों को भ्रमित करने के लिए फैलाया गया, जबकि वह पाकिस्तानी घुसपैठियों के खिलाफ था. उसी तरह से कृषि कानून पर एमएसपी घटने का झूठ बोलकर किसानों को विरोधी पार्टियां गुमराह कर रहीं हैं, जबकि यह दलालों और बिचौलियों के खिलाफ है." वे कहते हैं कि उन्होंने किसानों को कृषि कानून की सही-सही जानकारी देने, खूबियां बताने के लिए पांच दिन की बैलगाड़ी यात्रा शुरू की है. इसके माध्यम से रोजाना हजारों किसानों से संपर्क कर उनको भाजपा सरकार की ओर से लाए गए कृषि कानून की अच्छाईयां बताई जा रहीं हैं.

झांसी जिला भाजपा किसान मोर्चा के जिला महामंत्री छत्रपाल राजपूत कहते हैं, "मोदी सरकार की ओर से लाया गया कृषि कानून किसानों को एक राष्ट्र एक बाजार की परिकल्पना पर आधारित है. इससे किसानों को समर्थन मूल्य का तो पूरा लाभ मिलेगा ही साथ ही देश में कहीं पर भी अपनी उपज को बेचने का अधिकार भी मिलेगा." वहीं, मदरवारा के ग्राम प्रधान महेश पटेल कहते हैं कि भाजपा विधायक की बैलगाड़ी यात्रा को लेकर किसानों में उत्साह है. अभी किसान वाकई भ्रमित थे, लेकिन इस यात्रा के दौरान जो जानकारियां किसानों को दी जा रहीं हैं उसमें गलतफहमियां दूर हो रहीं हैं. किसान सीधे संवाद कर के भी विधायक जवाहर राजपूत से इसको लेकर अपनी भ्रम दूर कर रहे हैं. गरौठा विधायक कहते हैं कि वे खुद एक किसान हैं और इस कानून को समझने के बाद ही वे किसान भाईयों को जागरूक करने निकले हैं. भाजपा संगठन से लेकर सरकार इसको लेकर विशेष जागरुकता अभियान चला रही है. हम बैलगाड़ी से इसलिए निकले हैं ताकि धीरे-धीरे चलते हुए एक-एक व्यक्ति से संपर्क किया जा सके और उन्हें कृषि कानून की खूबियां बताई जा सकें. जब तक किसानों का भ्रम दूर नहीं होगा तब तक गरौठा विधानसभा में वे बैलगाड़ी से यात्रा कर किसानों को समझाते रहेंगे.

***

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें