scorecardresearch
 

पायलट इस तख्तापलट की साजिश छह महीने से रच रहे थेः अशोक गहलोत

राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत की इंडिया टुडे के सीनियर एडिटर रोहित परिहार से बातचीत.

राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत (फोटोः बंदीप सिंह) राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत (फोटोः बंदीप सिंह)

भारत के रेगिस्तानी राज्य में राजनैतिक संकट जारी है. इसकी शुरुआत पूर्व उपमुख्यमंत्री सचिन पायलट और कांग्रेस के 18 विधायकों के सरकार छोड़ने के साथ हुई. राज्य की पुलिस अब इस मामले में एक केंद्रीय मंत्री की भूमिका की जांच कर रही है, और केंद्रीय एजेंसियां राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के करीबी माने जाने वाले लोगों के घरों तथा प्रतिष्ठानों पर छापे मार रही हैं. गहलोत ने इंडिया टुडे के सीनियर एडिटर रोहित परिहार के साथ बातचीत में कहा कि वे छापों से नहीं डरते, और यह कि उनकी सरकार अपना कार्यकाल पूरा करेगी. बातचीत के अंशः

प्र. आपको कब शक हुआ कि आपके पूर्व उपमुख्यमंत्री सचिन पायलट बगावत की साजिश रच रहे हैं?

उ. मुझे इस तरह की सूचनाएं कम से कम छह महीने से मिल रही थीं. इसीलिए हमने राजस्थान पुलिस के स्पेशल ऑपरेशंस ग्रुप (एसओजी) से इसकी शिकायत की. (पायलट और उनके विधायकों ने) राज्यसभा चुनाव के दौरान (बगावत) की योजना बनाई थी. उनमें से कुछ ने 10 जून की रात में 2 बजे (राज्य से बाहर एक होटल में) जाने की योजना बनाई थी (जैसा कि उन्होंने अभी किया है); बाकी लोग 11 को कांग्रेस के दिवंगत नेता श्री राजेश पायलट की बरसी पर दौसा में उन्हें श्रद्धांजलि देने के बाद जाने की योजना बना रहे थे. मुझे 11 जून की आधी रात को इसकी खबर मिल गई. मैंने अपने विधायकों को बुलाया और लोकतंत्र तथा जनादेश को बचाने की खातिर उन्हें एक होटल में भेज दिया.

प्र. क्या पायलट कोई तीसरी पार्टी लॉन्च करना चाहते हैं, या वे भाजपा में शामिल होना चाहते हैं?

उः बेहतर होगा कि आप इस बारे में श्री सचिन पायलट से ही पूछें. लेकिन उन्हें हमेशा एक चीज के लिए आभारी रहना होगा—कि वह कांग्रेस ही है जिसने उन्हें बहुत कम उम्र में ही पार्टी और सरकार में सारे प्रमुख ओहदे दिए.

प्र. एसओजी जांच के बारे में कुछ लोगों का कहना है कि राजस्थान सरकार ने अवैध तरीके से फोन टैप किया. क्या यह सही है?

उ. नैतिक मूल्यों का पालन करने वाली कोई भी सरकार कोई अनैतिक काम नहीं कर सकती. जो कुछ हुआ है, वह कानून के दायरे में ही हुआ है. हमारी सरकार कानून का उल्लंघन नहीं कर सकती और न ही करेगी.

प्र. क्या आपको पक्का मालूम है कि पायलट की बगावत के पीछे भाजपा के राज्य और केंद्रीय स्तर के नेता हैं? आपको किन नेताओं के शामिल होने के बारे में मालूम है?

उ. पायलट और उनके विधायक एक भाजपा शासित राज्य में रह रहे हैं. भाजपा नेता उनसे नियमित रूप से मिल रहे हैं. हरियाणा पुलिस एसओजी की पड़ताल में बाधाएं उत्पन्न करने की कोशिश कर रही है. पायलट खेमे के लिए अदालत में पेश होने वाले वकील भाजपा और भाजपा समर्थित बड़े कॉर्पोरेट घरानों के करीबी हैं. साथ ही, प्रवर्तन निदेशालय और आयकर विभाग मेरे करीबी लोगों पर छापे मार रहे हैं. लेकिन हमें इससे डर नहीं लगता. इससे सबको इस तरह की कार्रवाई का पता चल जाता है.

प्र. पायलट प्ररकण में आपके लिए सबसे ज्यादा दुखद क्या है?

उ. जिस शख्स को (लोकसभा चुनाव के लिए) 26 साल की उम्र में टिकट दिया गया, जिसे 31 साल की उम्र में केंद्र में मंत्री बानाया गया, 36 साल की उम्र में प्रदेश कांग्रेस कमेटी का अध्यक्ष और 41 साल की उम्र में उपमुख्यमंत्री बनाया गया, वह अब भी बेसब्र है. वे बहुत महत्वाकांक्षी हैं, अपनी ही पार्टी के साथ दगा करके सरकार गिराने की कोशिश कर रहे हैं, और वह महामारी के दौरान. जिस युवा नेता को पार्टी ने सब कुछ दिया, उसका इस तरह के अमर्यादित राजनैतिक विमर्श पर उतरना सभी सही सोचने वाले लोगों के लिए गले उतार पाना मुश्किल है.

प्र. आरोप हैं कि आपने मंत्री के तौर पर पायलट के काम में बाधा डाला, मिसाल के तौर पर आपने उनके मंत्रालय को पर्याप्त बजट आवंटित नहीं किया. क्या यह सही है?

उ. कृपया आप बजट के बाद का उनका बयान देखिए, जब मैंने पीडब्ल्यूडी (लोकनिर्माण विभाग) को करीब 6,800 करोड़ रु. दिए. इसके अलावा, ग्रामीण सड़कों को अपग्रेड करने और मरम्मत करने के काम के लिए काफी पैसे दिए. हमने रिकॉर्ड संख्या में मनरेगा मजदूरों को रोजगार देने के लिए भी काम किया. (पायलट राजस्थान सरकार में पीडब्ल्यूडी और ग्रामीण विकास मंत्री थे.)

प्र. आपने अपनी सरकार गिराने की साजिश के बारे में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को क्यों लिखा?

उ. मैंने उन्हें इसलिए लिखा ताकि वे बाद में ऐसा जाहिर न करें कि उन्हें मालूम ही नहीं था. वे उस संघीय गणराज्य के प्रधानमंत्री हैं, जिसमें मैं मुख्यमंत्री हूं.

प्र. क्या आपको राजस्थान में मध्यावधि चुनाव की संभावना लग रही है?

उ. कतई नहीं. हमारी सरकार अपना कार्यकाल पूरा करेगी.

प्र. क्या आप बहुमत परीक्षण करना चाहते हैं? कब?

उ. हम लोकतांत्रिक प्रक्रिया के लिए जरूरी कुछ भी, कभी भी करने से कतरा नहीं रहे हैं. जरूरत पड़ने पर हम बहुमत परीक्षण करने के ‌लिए तैयार हैं, जिसे हम बहुमत के साथ जीतेंगे.

प्र. आपको अपनी सरकार बचाने और साजिश का पर्दाफाश करने में किस बात से मदद मिली?

उ. राजस्थान के 7 करोड़ लोगों का समर्थन और आशीर्वाद हमारे साथ है. हमारे विधायकों का कांग्रेस की विचारधारा में विश्वास है. वे हमारे आधार स्तंभ हैं.

***

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें