scorecardresearch
 

लैपटॉप के जरिए युवाओं में पैठ बनाने जुटे अखि‍लेश

सपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखि‍लेश यादव भले ही विपक्ष में हों लेकिन वह अपनी पूर्ववर्ती सपा सरकार की मुफ्त लैपटॉप वितरण योजना के जरिये युवाओं में बने आकर्षण को बनाए रखना चाहते हैं.

मेधावी छात्र सुम‍ित कुमार त्र‍िपाठी को लैपटाप देते अख‍िलेश यादव मेधावी छात्र सुम‍ित कुमार त्र‍िपाठी को लैपटाप देते अख‍िलेश यादव
स्टोरी हाइलाइट्स
  • अखिलेश यादव ने 2012 में जीत के बाद मुफ्त लैपटॉप योजना की शुरुआत की थी
  • सत्ता से बाहर होने के बाद भी इस योजना के जरिए अखिलेश सपा की अच्छी छवि बनाने चाहते हैं
  • सपा नेताओं ने एक अभि‍यान चलाकर सभी मेधावी छात्र-छात्राओं को उनके घर जाकर लैपटॉप बांटे

लखनऊ के 19 विक्रमादित्य मार्ग पर समाजवादी पार्टी (सपा) के प्रदेश मुख्यालय के मुख्य सभागार में मौजूद सुमित कुमार त्रिपाठी यूपी के पूर्व मुख्यमंत्री अखि‍लेश यादव के हाथों लैपटॉप पाने के बाद काफी खुश थे. पढ़ने में मेधावी सुमित सिटी मांटेसरी स्कूल, गोमतीनगर के छात्र रहे हैं. इन्होंने इस वर्ष केंद्रीय बोर्ड से इंटरमीडियट की परीक्षा रिकॉर्ड 99.75 प्रतिशत अंक लाकर उत्तीर्ण की है. दो दिन पहले अखि‍लेश यादव ने आइएससी बोर्ड से 99.5 प्रतिशत अंक लाकर इंटरमीडियट की परीक्षा उत्तीर्ण करने वाली छात्रा संध्य‍िका श्रीवास्तव को भी पार्टी मुख्यालय में लैपटॉप देकर सम्मानित किया. दरअसल, सपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखि‍लेश यादव भले ही विपक्ष में हों लेकिन वह अपनी पूर्ववर्ती सपा सरकार की मुफ्त लैपटॉप वितरण योजना के जरिये युवाओं में बने आकर्षण को बनाए रखना चाहते हैं.

इस वर्ष 27 जून को यूपी बोर्ड के हाइस्कूल और इंटरमीडियट परीक्षाओं का नतीजा घोषि‍त होने के बाद अखि‍लेश यादव ने दोनों परीक्षाओं के 50-50 मेधावियों को पार्टी की तरफ से लैपटॉप देने की घोषणा की थी. बाद में इस योजना का दायरा बढ़ाकर इसमें केंद्रीय बोर्ड के मेधावियों को भी शामिल कर लिया गया था. कोविड-19 महामारी के प्रोटोकॉल की वजह से अखि‍लेश ने राज्य स्तर पर लैपटॉप वितरण कार्यक्रम करने की बजाय जिला अध्यक्षों, सपा विधायकों, स्थानीय नेताओं को अपने क्षेत्र के मेधावियों को सपा की तरफ से लैपटॉप देने के निर्देश दिए थे.

सपा नेताओं ने एक अभि‍यान चलाकर सभी मेधावी छात्र-छात्राओं को उनके घर जाकर लैपटॉप बांटे. इंटरमीडिएट के मेधावी छात्रों में बागपत, उन्नाव, फतेहपुर के चार-चार, लखनऊ और कानपुर नगर के तीन-तीन, प्रयागराज, औरेया, सुल्तानपुर, लखीमपुर, वाराणसी, बरेली, मऊ तथा अमरोहा के दो-दो, कौशांबी, एटा, रायबरेली, चंदौली, कानपुर देहात, आगरा, गाजीपुर, कन्नौज, महाराजगंज, सीतापुर, चंदौली, हाथरस और जौनपुर के एक-एक छात्र को लैपटॉप दिए गए हैं. सपा नेताओं ने मेधावी छात्र-छात्राओं के माता पिता का भी सम्मान किया. सपा के मुख्य प्रवक्ता राजेंद्र चौधरी कहते हैं, “समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष एवं पूर्व मुख्यमंत्री श्री अखिलेश यादव अपने मुख्यमंत्रित्वकाल में मेधावी छात्र-छात्राओं को लैपटॉप देने का वादा आज भी निभा रहे हैं. समाजवादी सरकार ने तब 18 लाख से ज्यादा लैपटाप बांटे थे. सरकार न रहने पर भी मेधावी छात्र-छात्राओं का समाजवादी पार्टी लगातार सम्मान कर रही है.”

वर्ष 2012 के विधानसभा चुनाव के लिए पार्टी के घोषणा-पत्र में सपा ने इंटरमीडिएट उत्तीर्ण करने वाले छात्र-छात्राओं को मुफ्त में लैपटॉप देने का वादा किया था. वर्ष 2012 में सपा की सरकार बनने के एक वर्ष बाद मार्च, 2013 में तत्कालीन मुख्यमंत्री अखि‍लेश यादव ने लखनऊ के काल्व‍िन तालुकेदार कॉलेज में आयोजित एक समारोह में छात्र-छात्राओं को मुफ्त लैपटॉप वितरण की योजना शुरू की थी. वर्ष 2014 के लोकसभा चुनाव में सपा के बेहतर प्रदर्शन न करने के बाद तत्कालीन मुख्यमंत्री अखि‍लेश यादव ने मुफ्त लैपटॉप वितरण की योजना में संशोधन कर इसे मेधावी छात्र-छात्राओं तक सीमित कर दिया था.

वर्ष 2017 के विधानसभा चुनाव के बाद यूपी की सत्ता से बाहर होने के बाद भी अखि‍लेश यादव युवाओं के बीच लैपटॉप के जरिए सपा की एक सकारात्मक छवि बनाने की हर संभव कोशि‍श कर रहे हैं. इसी क्रम में उन्होंने सोशल मीडिया पर पिछले वर्ष 18 फरवरी को अमेरिका के हार्वर्ड विश्वविद्यालय में कानून की पढ़ाई कर रहे भारतीय मूल के छात्र अनुराग भास्कर के एक ट्वीट को शेयर किया. अनुराग ने अपने ट्व‍िटर हैंडल पर एक बैग की फोटो शेयर की थी जिसमें सपा के शासन के समय लैपटॉप वितरण योजना की फोटो लगी थी. इस ट्वीट में अनुराग ने लिखा था, “अक्सर मेरे विदेशी दोस्त इस बैग में लगी फोटो के बारे में पूछते रहते हैं. जब मैं उनको इसके बारे में समझाता हूं, तो वे सभी विदेशी छात्र-छात्रा लैपटॉप वितरण योजना की सराहना करते हैं.”

***

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें