scorecardresearch
 

चौरी-चौरा से राजघाट की पदयात्रा पर निकले दर्जन भर आंदोलनकारी गिरफ्तार

नागरिक सत्याग्रह पदयात्रा पर निकले दर्जन भर युवाओं को गाजीपुर पुलिस ने किया गिरफ्तार, आंदोलनकारियों के मुताबिक, यह पदयात्रा सीएए-एनआरसी विरोध प्रदर्शनों को दौरान पुलिस हिंसा के खिलाफ थी

फोटोः प्रदीपिका सारस्वत फोटोः प्रदीपिका सारस्वत

गोरखपुर जिले के चौरी-चौरा से दिल्ली के राजघाट तक की पदयात्रा, जिसे नागरिक सत्याग्रह पदयात्रा का नाम दिया गया है, के आंदोलनकारियों को गाजीपुर में पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है. इस पदयात्रा में कुल 12 युवा शामिल थे. इन गिरफ्तार किए गए प्रदर्शनकारियों में एकमात्र महिला सदस्य पत्रकार प्रदीपिका सारस्वत भी है. 

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, गाजीपुर पुलिस ने इस पदयात्रा के लिए अनुमति नहीं लेने को गिरफ्तारी का आधार बताया है.

यह पदयात्रा 2 फरवरी को चौरी चौरा से शुरू हुई थी और पदयात्रा के 190 किलोमीटर पूरे होने के बाद 10 फरवरी को यात्रा गाजीपुर पहुंच गई थी. यात्रा में शामिल 12 लोगों में 11 छात्र थे (विकास, रजत, मुरारी, अनंत, राज, प्रियेश, दीपक, नीरज, शेष नारायण, अक्षय, अतुल, मनीष) 

प्रदीपिका सारस्वत ने सोमवार की शाम को इस संवाददाता को बताया, "20 दिसंबर, 2019 को उत्तर प्रदेश में सीएए-एनआरसी के प्रदर्शनों के दौरान पुलिस की हिंसा और गिरफ्तारियों के बाद कुछ विश्वविद्यालयों के छात्र-छात्राओं ने मिलकर कई फ़ैक्ट-फ़ाइंडिंग टीम बनाई और शहर-शहर जाकर पीड़ितों से बातचीत की. कुल 23 मौतें हुई थीं. मरने वालों में से कुछ विवाहित भी थे, जिनमें से चार की पत्नियाँ माँ बनने वाली थीं. छात्रों ने प्रेस कॉन्फ्रेंस करके देश को इस नाइंसाफ़ी के बारे में बताया.''

गौरतलब है कि इन प्रदर्शनकारियों में से अधिकतर छात्र कांग्रेस के छात्र संगठन नेशनल स्टूडेंट यूनियन ऑफ इंडिया (एनएसयूआइ) से जुड़े हुए हैं. 

सारस्वत ने मेसेज के जरिए इंटरव्यू में बताया, "हिंसा की कहानियां इतनी मार्मिक थीं कि उन्हें सुनने के बाद वापस आम ज़िंदगी में लौट जाना आसान नहीं था. तय किया गया कि हम उत्तर प्रदेश जाएंगे, लोगों से मिलेंगे और उन्हें बताएँगे कि हमें हिंदू-मुसलमान में बंटने से बचना होगा.'' 

सारस्वत के मुताबिक, वे लोग गांव-देहात में पर्चे बांटते, लोगों से बातें करते हुए आगे बढ़ रहे थे. इन आंदोलनकारियों में बीएचयू, दिल्ली विश्वविद्यालय, इलाहाबाद विश्वविद्यालय और लखनऊ विश्वविद्यालय के छात्र शामिल हैं.

सोमवार को ही प्रदीपिका सारस्वत ने एक फेसबुक पोस्ट के जरिए उन पर निगहबानी की बात साझा की थी. 

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, गाजीपुर पुलिस ने इस पदयात्रा के लिए अनुमति नहीं लेने को गिरफ्तारी का आधार बताया है.

***

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें