scorecardresearch
 

साइकोलाजः शुतुरमुर्ग की तरह गर्दन धंसाकर तो नहीं चलता प्यार का कारोबार

हाल ही में आई एक शोध रिपोर्ट इन नतीजों पर पहुंची हैं कि एक दूसरे की कमियां गिनाकर उन्हें उलाहना देने से बात बिगड़ती है. बात बनानी है तो एक दूसरे के काम और उसकी भूमिका की कद्र करनी सीखनी होगी.

तकरार से भला प्यार तकरार से भला प्यार

एक बार दिन और रात के बीच जमकर झगड़ा हो गया. दिन ने कहा, मैं उजाला हूं. रात ने कहा बड़े आया उजाला फैलाने वाले, अरे मैं न हूं तो तुम कभी आ ही नहीं सकते. झगड़ा इतना बढ़ा की रात ने कहा आज से रात खत्म. होना क्या था. संसार में कोहराम मच गया. लोग उजाले से उकता गए. जो लोग कभी खिड़की दरवाजे खोलकर दिन के उजाले का इंतजार करते थे, वे मोट-मोट कंबल खिड़कियों पर डालने लगे और खिड़कियां बंद करवाने लगे. फिर वहां नारद जी पहुंचे और वही ज्ञान दिया जो इस कहानी को पढ़ने के बाद आपको मिलेगा. तो पढ़िए

पत्नी/प्रेमिका उवाच-सारा दिन मैं घर पर काम करती हूं. आपको कम से कम हफ्ते में तो छुट्टी मिल भी जाती है, पर यहां मैं चौबीसों घंटे-सातों दिन खटती रहती हूं...

पति/प्रेमी उवाच- बॉस की डांट सुनो तो पता चले, दफ्तर का बोझ क्या होता है तुम क्या जानों...पति-पत्नी की खटपट, एक दूसरे के काम के काम को कम बताने की होड़...

अगर दोनों कामकाजी हों तो भी इसी तरह विवाद बढ़ते-बढ़ते ब्रेकअप तक आज जाता है...और सच बताऊं चाहें बॉलीवुड इसे कितना भी ग्लेमराइज करे लेकिन सइयां जी या सजनी जी से ब्रेकअप करके आज भी प्रेमी/प्रेमिकाओं या पति-पत्नी के दिल दहाड़े मारकर रोते हैं.

और फिर विवाद- उफ्फ...कितनी चिक-चिक...और यही चिक-चिक एक दिन बन जाती है बड़ा झगड़ा.

उलटे को उलट कर सीधा करने की कला

पति/प्रेमी - सारा दिन तुम घर पर काम करती रहती हो. मुझे कम से कम हफ्ते में एक छुट्टी तो मिल जाती है, पर यहां तुम चौबीसों घंटे-सातों दिन खटती रहती हूं...

पत्नी/प्रेमिका - दफ्तर की सारी टेंशन तुम झेलते हो. मैं तो घर में अपने परिवार के साथ रहती हूं. तुम पूरा दिन काम का बोझ उठाए घूमते हो. कम से कम घर की टेंशन तो मैं कम ही कर सकती हूं.

शोध रिपोर्ट भी इन्हीं नतीजों पर पहुंची हैं...कि एक दूसरे की कमियां गिनाकर उन्हें उलाहना देने से बात बिगड़ती है...हाल ही में सेज पब्लिकेशन में प्रकाशित एक रिपोर्ट में इस बात को गंभीरता के साथ दर्ज किया गया है. नीदरलैंड और कनाडा में रोमांटिक जोड़ों के बीच एक मनोवैज्ञानिक शोध किया गया. इस शोध के लिए ऐसे सवाल तैयार किए गए, जिनमें दोनों पार्टनर से एक दूसरे के बारे में ग्रेटीट्यूड शो करने के बारे में सवाल किए गए. उनसे पूछा गया कि वह कितनी बार एक दूसरे के बारे में ग्रेटीट्यूड शो करते हैं? क्या एक दूसरे बलिदान को समझते हैं? कितनी बार उन्होंने एक दूसरे त्याग को खुद के त्याग से ज्यादा महत्व दिया?

यकीन मानिए पति-पत्नी, प्रेमी-प्रेमिका से मिले सवालों से साफ हो गया कि सजनी और सजना के बीच झगड़े की वजह एक दूसरे के त्याग को तवज्जो न देना है.....

विशेषज्ञों की मानें तो करना कुछ है नहीं...आप जो कर रहे हैं उसे करते रहिए. बस तीखी जुबान को संबंधों के बीच चाबुक बनकर बरसने से रोकना है. तो देरी किस बात की शुरू कीजिए आज से सकारात्मक संवाद....और ख्वामख्वाह की चिक-चिक को दूर भगाइये...क्योंकि कई बार हम दूसरे के काम को देखते वक्त शुतुर्मुग बन जाते हैं. जैसे वह अपनी गर्दन बालू में धंसाए रहता है. हम भी अपनो को महान बताकर अपना दीमाग बंद कर लेते हैं.

***

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें