scorecardresearch
 

आत्महत्या के ख्याल पर यूं चलाएं खंजर

आत्महत्या के ख्याल में हाईजैक होने की जगह तुरंत तैयार करें विरोधी इमोशन की सेना. शांत होकर रणनीति बनाएं. और फिर दुश्मन सेना को ललकारें और युद्ध में जुट जाएं. युद्ध में आपकी जीत पक्की करेगी विशेषज्ञों की सलाह.

आत्महत्या के ख्याल पर लगाम लगाना इतना कठिन भी नहीं आत्महत्या के ख्याल पर लगाम लगाना इतना कठिन भी नहीं

भारत में आत्महत्या के आंकड़े साल दर साल बढ़ते ही जा रहे हैं. पिछले चार सालों के मुकाबले 2018 में ज्यादा लोगों ने समस्याओं से निपटने के लिए जिंदगी को खत्म करना बेहतर समझा. 2018 में ही आई किताब सुसाइडलः व्हाय वी किल अवरसेल्व्स की लेखिका जेसी बेरिंग कहती हैं-ज्यादातर आत्महत्या का कारण डिप्रेशन (Depression), वर्तमान से खुद को जोड़ न पाना, अंतहीन महत्वकांक्षाएं और सबसे ज्यादा खुद के वजूद के खोने का डर, कहीं न कहीं जिंदगी को खत्म करने के लिए प्रेरक तत्व साबित होते हैं. लेकिन क्या आत्महत्या करने वाले लोग पलायनवादी होते हैं? कायर होते हैं? इस पर लंबे समय से बहस चल रही है. क्योंकि बेरिंग कहती हैं, किताब के लिए आंकड़े इकट्ठे करने के दौरान मैंने पाया कि आत्महत्या करने वाला हर व्यक्ति पलायनवादी या फिर कायर नहीं था. उसने जीवन में कई लक्ष्य हासिल किए थे.

वह बुरी परिस्थितयों से भी लड़ा. तो क्या समस्याओं से जूझने की भी एक सीमा होती है? वे कहती हैं, शायद हां, शायद ना. इस सीमा का कोई मानक नहीं है. हर व्यक्ति के जूझने की सीमा अलग-अलग होती है. खैर आत्महत्या को लेकर काफी काम हुआ. फाइंडिंग पर्सपस ऑफ गॉडलेस वर्ल्ड शीर्षक से आई 2018 में प्रकाशित हुई किताब की लेखिका राल्फ लुइस आत्महत्या के कारणों में सबसे ऊपर जिंदगी के मायने खो जाने या फिर वजूद पर मंडराते संकट को मानती हैं. तो क्या लोग खुद की जान से ज्यादा अपने वजूद को तवज्जो देते हैं? दरअसल, इस सवाल का जवाब सटीक तौर पर दुनियाभर के मनोवैज्ञानिक और मनोचिकित्सक अभी खोज नहीं पाए हैं.

वजूद बड़ा या जिंदगी? पाठकों को लगर रहा होगा कि अचानक आत्महत्या पर इतनी बात मैं क्यों कर रही हूं? दरअसल हाल ही में आई एक्सीडेंटल डेथ ऐंड सुसाइड इन इंडिया की ताजा रिपोर्ट में दर्ज आंकड़े आत्महत्या की बढ़ती संख्या की तरफ इशारा करते हैं. पिछले चार सालों में भारत में आत्महत्या के आंकड़े लगातार बढ़े हैं. दुखद यह है कि सबसे ज्यादा ऐसे लोगों ने आत्महत्या की जो पारिवारिक उलझनों की उलझन से निकल नहीं पाए. सवाल कई हैं. तो क्या परिवार उलझने देता है? दर्द बांटने की जगह दर्द बढ़ा देता है? वजह जो भी हो आंकड़े यही कहते हैं. पारिवारिक उलझनों ने सबसे ज्यादा जिंदगियों को लील लिया.

मर्द को भी होता है दर्द

आंकड़ों से बनी तस्वीर प्रचलित कहावत ‘मर्द को दर्द नहीं होता’ के बिल्कुल उलट है. 2018 के आंकड़े कहते हैं कि पुरुषों ने औरतों के मुकाबले आत्महत्या ज्यादा की. 68.5 फीसद पुरुषों के मुकाबले 31.5 फीसद औरतों ने आत्महत्या की.

आत्महत्या के खौफनाख ख्याल से खुद को कैसे बचाएं?

दरअसल, आत्महत्या का ख्याल आपके दिमाग के भीतर उठने वाला एक ज्वारभाटा है. एक ऐसा इमोशन जो आपके दूसरे सारे विचारों को ठेलता हुआ सबसे आगे खड़ा हो जाता है. थोड़ा वैज्ञानिक भाषा में समझें तो इमोशन को नियंत्रित करने के लिए दिमाग के भीतर एक हिस्सा होता है. इसे एमाग्डला कहते हैं. मौजूदा समय में लोग इस हिस्से पर कुछ ज्यादा ही जुल्म ढा रहे हैं. मतलब उसकी क्षमता से ज्यादा काम करवाते हैं. दरअसल जैसे ही आप इमोशनल हुए यह आपको मौजूदा इमोशन से मिलते-जुलते अतीत में हुए वैसे ही अनुभवों से जोड़ देता है.

अगर इमोशन सकारात्मक हैं तो ठीक अगर नहीं तो फिर एमाग्डला भाई साहेब खंजर बनकर आपकी यादों को कुरेदना शुरू कर देते हैं. तो क्या इससे बचने का कोई उपाय नहीं? बिल्कुल है. जैसे भीड़ से उकताने के बाद आप खुद को अकेले शांत जगह लेकर जाते हैं. नींद भर नींद लेते हैं. वैसे ही विचारों की इस भीड़ से खुद को अलग करने के लिए किसी नए विचार को मस्तिष्क में रोपने की कोशिश उतने ही बल से करनी चाहिए जितने बल से आत्महत्या का ख्याल आप पर हावी हो रहे हैं.

आत्महत्या ही नहीं किसी भी नकारात्मक इमोशन से छुटकारा पाने का भी यही तरीका है. अगर एक इमोशन आपको हाईजैक करने की कोशिश करे तो दूसर अपोजिट इमोशन की सेना आप उससे लड़ने भेज दीजिए. युद्ध भी तो वहीं जीतते हैं जो युद्ध की टेक्निक जानते हैं. एमाग्डला भाई साहेब को बेलगाम इमोशन का घर न बनने दें. इमोशन की निराई, गुड़ाई और फिर उनमें स्वस्थ बीजों की रोपाई कम से कम छुट्टी के दिन तो जरूर करें.

***

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें