scorecardresearch
 

लापता नरभसलाल का लगा पता

मेरे परम मित्र नरभसलाल एक महीने पहले अचानक लापता हो गए थे. उनके घरवाले, दोस्त, रिश्तेदार सब परेशान थे. पुलिस के पास शिकायत लेकर गए लेकिन पुलिस ने लापता रिपोर्ट लिखने से मना कर दिया कि पहले तलाशो और नहीं मिले तब रिपोर्ट लिखवाना.

सतीश आचार्य सतीश आचार्य

मेरे परम मित्र नरभसलाल एक महीने पहले अचानक से लापता हो गए थे. उनके घरवाले, दोस्त, रिश्तेदार सब परेशान थे. पुलिस के पास शिकायत लेकर गए लेकिन लापता का रिपोर्ट लिखने से मना कर दिया कि पहले तलाशो और नहीं मिला तब रिपोर्ट लिखवाना. आखिरकार कल अचानक से नरभसलाल प्रकट हो गए.उन्हे सही सलामत देखकर मैंने राहत की सांस ली. 

मैंने डांटते हुए कहा कि पागल हो क्या. कहां चले गए थे, पता है सब कितने परेशान हैं, न तो फोन किया और ऊपर से अपना फोन भी बंद रखा था. 

मैं कुछ और बोलता उससे पहले नरभसलाल चालू हो गए. बोले, ‘पहले हमारा बात सुनो फिर अपना लेक्चर झाड़ना.’ मैं उनकी तरफ देखने लगा. फिर वो फ्लैश बैक में चले गए और अपनी कथा बतानी शुरू कर दी जो इस प्रकार है. बोले, ‘हे सुजीत, तुम तो जानबे करते हो कि उस दिन पार्लियामेंट में बहस चल रहा था और जम्मू-कश्मीर में अनुच्छेद 370 हटाने को लेकर गृहमंत्री, विपक्ष का गरदा उड़ाए हुए थे. जैसे ही गृहमंत्री ने अनुच्छेद 370 का ठोंठी (गला) दबा कर रगड़ना शुरू किया हम सीधे कश्मीर निकल गये. 

सोचे थे सबसे पहले वहां जाकर दो कठ्ठा जमीन खरीदते हैं. एक बार जमीन खरीद लिए फिर इस साल के अंत तक वहां पक्का मकान नहीं तो खपरैल का घर तो बना ही लेंगे. मरने के बाद तो स्वर्ग में ठिकाना मिलेगा या नहीं पता नहीं तो सोचा जीते जी कश्मीर, जिसे धरती पर स्वर्ग कहते हैं वहां का सुख भोग सकूं. कुछ नकदी और चेकबुक लेकर निकल पड़ा कश्मीर. लेकिन बाप रे बाप वहां जाकर तो फंसिये गये यार. वहां जितने गाछ (पेड़) नहीं होंगे उतना तो दोनाली लेकर जवान खड़े थे. ऐसी आंख लाल कर निहारते हैं साले जैसे कि हम ओसामा बिन लादेन के साढ़ू हों. खैर किसी तरह एक होटल में जगह मिला, सोचा लौट जाऊं लेकिन सारा रास्ता ऐसे बंद किया हुआ है कि कोई पैदलो चल कर एयर पोर्ट नहीं पहुंच सकता. जमीन खऱीदने के लिए जो पैसे लिए थे वो होटले में खर्च हो गया. मोबाइल, इंटरनेट सब बंद था सो संपर्क भी नहीं कर सका. धरती का स्वर्ग कहा जाने वाला कश्मीर किसी नर्क से कम नहीं लगा. 

इतना पहरा कि सांस भी सोच-सोच कर लेना पड़े. कुछ दिन ऐसा ही रहा तो वहां से चिड़ैया तक भाग कर दरभंगा में खोंता बना कर रहने लगेगा. खैर किसी तरह एक महीने बाद जब थोड़ा राहत मिला तो वहां से निकल कर आया. 

राज्य की सीमा से बाहर आया तो पता चला कि सुषमा स्वराज और अरुण जेटली स्वर्ग सिधार गए. इतना दुखी हुआ इस समाचार से कि, खाना खाए बिना स्कूटर उठा कर तुम से मिलने निकला. 

रास्ते में ट्रैफिक पुलिसवाला मिल गया. फिर उन्होंने वह हाल कर दिया जो कश्मीरियों का इन दिनों है. 

कश्मीर में फौज और देश के अन्य भाग में चालान इतना घुसेड़ दिया गया है कि जीना मुहाल हो गया. ट्रैफिकवाले ने 15 हजार का चालान कर दिया. पैसा था नहीं इतना सो झट से माचिस ली और लगा दिया आग स्कूटर में. फिर पैदल चलते-चलते तुम्हारे घर पहुंचा हूं किसी तरह से’. 

मैं कुछ कहता इससे पहले फिर चालू हो गए. बोले कि, ‘कुछ पैसे उधार दे दो’. मैंने कहा कि पैसों की ऐसी क्या जरूरत पड़ गई. बोले ‘भाई, पैसे तो बैंक में हैं लेकिन किस ब्रांच में जाकर पैसे निकालूं यह समझे नहीं आ रहा है’. मैंने पूछा ऐसा क्यों तो बोले, ‘भाई जिस बैंक में एकाउंट था सुना है वह किसी दूसरे बैंक में मर्ज हो गया है. मैं तो पूरा कंफ्यूज हो गया हूं, मेरा बैंक किसी दूसरे बैंक में मर्ज हो गया है या फिर मेरे बैंक में कोइ दूसरा बैंक मर्ज कर गया है’. 

मैं बोला  इससे क्या फर्क पड़ता है? पैसे तो निकाल ही सकते हो तो बोले, ‘हां भाई यही तो मैं कह रहा हूं कि जब पैसे किसी भी बैंक से निकाल सकते हैं तो फिर मर्ज करने का क्या फायदा’. मैंने कहा कि सरकार घाटे में चल रहे बैंकों को डूबने से बचाने के लिए ऐसा कर रही है तो बोले, ‘भाई मर्ज करने से क्या नीरब मोदी या विजय माल्या जो पैसा लेकर भाग गया था वह वापस मिलेगा क्या. तुम तो जानते ही हो कि संगत का असर पड़ता है. यदि बीमार बैंक, स्वस्थ बैंक में मिला दिए गए तो इसका बात की आशंका है कि स्वस्थ बैंक भी बीमार पड़ जाए. देखा नहीं कश्मीर को ठीक करने के लिए उसे दूसरे राज्यों जैसा बनाने की कोशिश शुरू हुई और एनआरसी का आपरेशन ही फेल हो गया’. 

नरभसलाल की बात सुनकर मैं खुद ही नरभसाने लगा. तुरंत ही उनके साथ भोजन करने ढाबे की तरफ निकल गया.

(सुजीत ठाकुर इंडिया टुडे में असिस्टेंट एडिटर हैं)

***

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें