scorecardresearch
 

नरभसलालः चांद जैसे मुखड़े पे

नरभसलाल ने चंद्रयान का प्रक्षेपण क्या देख लिया, चांद को धरती से बेहतर मानने लगे हैं.

फोटो सौजन्यः इंडिया टुडे फोटो सौजन्यः इंडिया टुडे

मेरे परम मित्र नरभसलाल आज पूरे फॉर्म में हैं. गरियाये जा रहे हैं चांद को. बोले, बड़ा अकड़ता था. अपनी सुंदरता पर इतराता था. धरती पर रहने वालों को बनाना पीपल समझता था. लेकिन अब गरदा उड़ गया साले का. बुद्धि भसियाया हुआ था, सोचता था नीचे रहने वाले नंगे-भूखे लोग निहारते रहेंगे. सड़क चलती लड़कियों को देखकर चाह (चाय) की दुकान पर बैठे कॉलेजिया छौंड़ा (लड़के) सब गाने गाते रहेंगे कि चेहरा है या चांद खिला है. 

मुंह में पान घुसेड़े और हाथ से खैनी मलते हुए सैंकड़ों की तादाद में मुकेश बने आशिक चांद आहें भरेगा जैसा गाने गाते-गाते हमारी उपमा देंगे. अब सब हेकड़ी हो गया न फुस्स. चढ़ गए हम चांद पर. अब पता चलेगा बहुत जल्दी जब हम साले की छाती पर चढ़कर मसूर दल देंगें. 

'रुको-रुको नरभसलाल', मैंने टोका, 'चांद पर कोई पहली बार थोड़े न गया है. नील आर्मस्ट्रांग तो पहले ही जा चुका है, और वहां जाकर अमेरिका का झंडा भी गाड़ आया है. तुम इतने उतावले क्यों हो रहे हो?' 

मेरी बात पर और भन्ना गये नरभसलाल. बोले, 'तुम अपने देश के लोगों को डिमोरलाइज करने वाले बयान दे रहे हो. अमेरिका तो सबका बाप है. वहां जाकर झंडा ही गाड़ आया न. देखना जब हमारे लोग जाएंगे तो सिर्फ देश का झंडा ही नहीं, भाजपा का, कांग्रेस का, बसपा का टीएमसी बाले का भी गाड़ आएंगे. और तो और निर्दलीय लोग भी वहां झंडा फहराएंगे.' फिर अचानक सवाल भी पूछ बैंठे, 'अच्छा ये बताओ को वहां जाकर पान खाकर पुच्च से पीक फेंकना या फिर खैनी रगड़कर खाने का मजा ही कुछ और होगा न.'

मैंने कहा, 'नरभसलाल तुम बहुत दूर की बात करने लगे हो. चांद पर न पानी है न आक्सीजन है. ना ही गुरुत्वाकर्षण शक्ति. जो तुम्हारा ख्वाब है न वह सिर्फ कल्पना है.' इतना सुनते ही नरभसलाल गंभीर हो गए. और ज्यादा गंभीर होते हुुए पूछा, 'अच्छा बताओ कि पृथ्वी पर है अब आक्सीजन?' 

मैंने कहा, 'हां है. नहीं होता तो सांस कैसे लेते?' 

जवाब में गहरी सांस छोड़ते हुए नरभसलाल बोले, 'छोड़ो. गंदी-गंदी हवा में थोड़ा बहुत आक्सीजन मिला कर सांस ले रहे हो ठीक वैसे ही जैसे बजट में सरकार थोड़ी-बहुत राहत देकर पूरा जेब काट ले रही है. और बात करते हो कि चांद पर आक्सीजन नहीं है. यहां जमीन पर हुकर-हुकर कर जी रहे हो और बात करते हो कि चांद पर कुछ नहीं है. और क्या कहा था तुम ने कि पानी नहीं है. यहां धरती पर कौन ससुरा पानी मिल रहा है तुम्हे. देखा नहीं जलशक्ती मंत्रालय बन गया है. गंगा सूखी जा रही है जमुना सड़ गई है. हां बाढ़ में बहुत पानी है लेकिन पीने लायक नहीं है. वह तो लोगों को बहाकर अपने साथ ले जाती है. जमीन-जथा, फसल सब डूब जाता है और फिर कुछ ही दिनों में पानी पता नहीं कहीं चला जाता है. फिर पानी के लिए मारपीट शुरू. चांद पर रहेंगे तो अगर आक्सीजन नहीं होगा तो कम से कम कार्बन भी नहीं होगा. यहां हॉस्पिटल से आक्सीजन सिलेंडर भर के ले चलेंगे महीना भर का. फिर सरकार तो है न पब्लिक के साथ. कोई पार्टी अपने मेनिफेस्टों में वादा करेगी कि चांद पर आक्सीजन देंगे. विकास की न सही पानी की नदियां बहाने का भी वादा होगा.'

मैंने कहा, 'भाई नरभस मुझे छोड़ दो. नाम तुम्हारा नरभसलाल है और हम नरभसा गए हैं.'

नरभसलाल गदगद होते दिखे. कहने लगे, 'ऐसे कैसे जाने दूंगा? क्या बोल रहे थे तुम कि वहां गुरुत्वाकर्षण शक्ति नहीं है? यदि ऐसा होता तो कोई चमचा अपने नेता के लिए चांद पर जमीन खरीद कर गिफ्ट करने की बात करता. सरकार जिस आत्म-विश्वास से चल रही है उसमें चांद पर गुरुत्वाकर्षण नहीं होने की बात देशद्रोह जैसा है. यह कहना वैसा ही है जैसा यह कहना कि कश्मीर-भारत का अभिन्न हिस्सा नहीं है.' 

नरभसलाल ने मुझे घुड़की देने के अंदाज में कहा, 'ऐसी बातें हवा में नहीं करते है. साथ है, विश्वास है हो रहा विकास है जब माहौल यह हो तो फिर नामुमकिन नहीं है. नेता है तो मुमिकन है यह भरोसा रखो. वैसे भी चांद कोई दूर थोड़े न है. वहां जाने के लिए उतना ही टाइम लगेगा जितना लोकल ट्रेन में बैठ कर दिल्ली से दरभंगा जाने में लगता है. 1000 किलोमीटर की दूरी कुहर-कुहर कर कैसे 30 से 36 घंटे में स्वतंत्रता सेनानी एक्सप्रेस लेती है. चांद पर जाने के लिए यह दिक्कत नहीं होगी न. सीधे धरती से उड़ो और धम्म से चांद पर लैंड. अब भाई प्लीज यह मत कहना कि चांद पर गुरुत्वाकर्षण नहीं है. वहां नहीं है तो धरती पर ही कौन सा है. यहां कौन सा इंसान तुम्हे दिखता है जिसके पैर के नीचे जमीन हो और वहीं जमा हुआ रहे. 

रोज ऐसा-ऐसा वाकिया दिखता है कि लोग कहते हैं कि उसके तो पैर के नीचे की जमीन खिसक गई. यहां जमीन होती और उसमें गुरुत्वाकर्षण होता तो किसान पेड़ में झूल कर नहीं मरते. मजदूर इस दुर्गति में नहीं रहता. महिलाओं के साथ अन्याय और पढ़े-लिखे लोग बेरोजगार नहीं होते. भाई सवाल गुरुत्वाकर्षण का नहीं है. अब न लोगों के विचारा में उनके व्यवहार में उनके बातचीत में आकर्षण रह गया है. असली गुरुत्वाकर्षण लोगों के अंदर होना जरूरी है जमीन में नहीं. हां इतना जरूर है कि चांद पर चलने से पहले यह तय करना जरूरी है कि जो लोग वहां जाएं उनके अंदर गुरुत्वाकर्षण जरूर हो नहीं तो चांद को भी जमी होते देर नहीं लगेगी.'

(सुजीत ठाकुर इंडिया टुडे में असिस्टेंट एडिटर हैं)

***

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें