scorecardresearch
 

जोर पकड़ रहा है महाराष्ट्र में व्हाइट वाटर राफ्टिंग का डेस्टिनेशन

मानसून में तो वाटर राफ्टिंग का अपना ही मजा है. मानसून से पहले और बाद में भी काफी रोमांचक रहता है. यहां वाटर राफ्टिंग 2006 में शुरू किया गया और अब तक लगभग 40 हजार पर्यटकों ने वाटर राफ्टिंग की है. वाटर राफ्टिंग के लिए विदेशी पर्यटक भी आते हैं. 

फोटोः नवीन कुमार फोटोः नवीन कुमार

अगर आपको वाटर राफ्टिंग का शौक है और आप इसे पूरा करने के लिए ऋषिकेश, लद्दाख, सिक्किम, कुल्लू-मनाली और कर्नाटक जाते हैं तो एक बार महाराष्ट्र के कुंडालिका नदी में भी इस एडवेंचर गेम का मजा ले सकते हैं. कुंडालिका देश की इकलौती नदी है जहां व्हाइट वाटर राफ्टिंग का आनंद साल भर लिया जा सकता है. 

मुंबई और पुणे से लगभग 122 किलोमीटर की दूरी पर रायगढ़ जिले के कोलाड में कुंडालिका नदी है. वाटर राफ्टिंग का शुरुआती  पाइंट रवालजे गांव के नजदीक है. वाटर राफ्टिंग दो घंटे में 12 किलोमीटर पूरा करना पड़ता है. यहां प्रतिदिन 120 पर्यटक वाटर राफ्टिंग करते हैं. कुंडालिका रिवर में वाटर राफ्टिंग सबसे सुरक्षित है और 14 साल का किशोर भी वाटर राफ्टिंग निडर होकर कर सकता है. 

कोलाड में भिरा डैम है जहां हाइड्रोइलेक्ट्रिक प्लांट है. इसी डैम से रोजाना सुबह पानी छोड़ा जाता है. इसी पानी में वाटर राफ्टिंग कराया जाता है. यह पानी अरब सागर के रोहा क्रीक में चला जाता है. 

वाटर राफ्टिंग का अनुभव लेने के लिए पर्यटकों को स्टर्लिंग होलीडेज के नेचर ट्रेल्स रिसॉर्ट में एक दिन ठहरना पड़ेगा. इसकी वजह यह है कि वाटर राफ्टिंग सुबह साढ़े आठ बजे से शुरू होता है. वाटर राफ्टिंग के स्टार्टिंग पाइंट और आखिरी मंजिल पर पहुंचने के बाद कपड़े बदलने और थोड़ा आराम करने के लिए नेचर ट्रेल्स रिसोर्ट ही है. हालांकि, वाटर राफ्टिंग के लिए 650 से 1200 रूपए प्रति व्यक्ति फीस है. लेकिन रिसोर्ट के पैकेज में अन्य सुविधाओं के साथ सस्ता भी पड़ता है. 

मानसून में तो वाटर राफ्टिंग का अपना ही मजा है. मानसून से पहले और बाद में भी काफी रोमांचक रहता है. यहां वाटर राफ्टिंग 2006 में शुरू किया गया और अब तक लगभग 40 हजार पर्यटकों ने वाटर राफ्टिंग की है. वाटर राफ्टिंग के लिए विदेशी पर्यटक भी आते हैं. 

कुंडालिका रिवर में रिवर राफ्टिंग मर्करी हिमालयन एक्सप्लोरेशन (एमएचई) की देखरेख में होती है. एमएचई की ओर से देश के अन्य इलाकों में भी रिवर राफ्टिंग कराई जाती है. यहां प्रशिक्षित इंस्ट्रक्टर ऋषिकेश से भी लाए जाते हैं. 12 से ज्यादा रबड़ टायर हैं जिस पर बैठकर पर्यटक वाटर राफ्टिंग करते हैं. एमएचई की तरफ से हरेक सदस्य को लाइफ जैकेट, हेलमेट और पैडल दिए जाते हैं और उन्हें वाटर राफ्टिंग के तरीके भी बताए जाते हैं. 

इंस्ट्रक्टर धरमवीर ऋषिकेश के रहने वाले हैं जो छह महीने तक कुंडालिका में रहते हैं और बाद में वे ऋषिकेश और लद्दाख जाकर इंस्ट्रक्टर का काम करते हैं. धरमवीर के मुताबिक कुंडालिका रिवर में रैपिड्स के अलग-अलग नाम हैं. वे नाम के साथ खतरनाक रैपिड्स के बारे में भी बताते हैं. रिवर राफ्टिंग की शुरुआत गुड मॉर्निंग बुद्धा से होती है. इसके बाद धीरे-धीरे रैपिड्स तेज और रोमांचक होता जाता है. इसमें महत्वपूर्ण वेव रैपिड्स हैं जैसे बुश ऑन बैंड रैपिड और मॉर्निंग हेडेक रैपिड. मॉर्निंग हेडेक रैपिड के बाद खतरनाक रैपिड आता है जॉन कैरी रैपिड और जॉनी वाकर रैपिड. 

जॉन कैरी के पास रॉक्स ज्यादा हैं जिससे पानी में करंट और ऊंची लहरें होती हैं. धरमवीर का कहना है कि इस वाटर राफ्टिंग में अब तक किसी तरह की दुर्घटना नहीं घटी है. पानी के अंदर कोई खतरनाक जानवर भी नहीं है. इसलिए जब राफ्टिंग के आखिरी किनारे पर पहुंचते हैं तो उससे एक किलोमीटर पहले ही राफ्टिंग करने वालों को लाइफ जैकेट पहने ही पानी में उतार दिया जाता है. लोग तैरने का आनंद लेते हैं. अगर किसी को तैरना नहीं आता है तब भी उनको पानी का मजा लेने के लिए छोड़ दिया जाता है. जो जैकेट पहनाया जाता है उसे पहने रहने से कोई नहीं डूबता है. 

लोगों को बताया जाता है कि राफ्टिंग के दौरान अगर कोई बोट से पानी में गिरता है तो उसे किस तरह से पकड़कर बोट पर लाना है. कुंडालिका रिवर में वाटर राफ्टिंग का मजा तो एक बार जरूर लेना चाहिए. 

***

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें